निजी क्षेत्र में स्किल यूनिवर्सिटी का रास्ता साफ,हिमालयन इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड एजुकेशन को स्किल यूनिवर्सिटी के तौर पर अपग्रेड करने की सरकार ने दी सहमति

हिमाचल सरकार ने सरकारी क्षेत्र में स्किल यूनिवर्सिटी खोले जाने की अभी तैयारी नहीं की गई है, लेकिन सरकार ने निजी क्षेत्र में स्किल यूनिवर्सिटी का रास्ता साफ कर दिया है। सिरमौर जिले के काला अंब इलाके में पहले से ही चल रहे हिमालयन इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड एजुकेशन को स्किल यूनिवर्सिटी के तौर पर अपग्रेड करने की सरकार ने सहमति दे दी है।

कैबिनेट की मीटिंग में भी इस संदर्भ में चर्चा हो चुकी है। सरकार ने विचार किया है कि इस संस्थान को स्किल यूनिवर्सिटी के तौर पर अपग्रेड कर दिया जाएगा, लेकिन उससे पहले संस्थान को कुछ औपचारिकताएं पूरी करनी होंगी। राज्य सरकार ने इस मामले में प्रधान सचिव शिक्षा की अगुवाई में एक कमेटी का गठन किया है। यह कमेटी संस्थान में मौजूद शैक्षणिक ढांचे का अवलोकन करेगी। यदि कमेटी को यह प्रतीत हुआ कि संस्थान यूनिवर्सिटी चलाने के काबिल है तो इस बारे में सरकार को अनुशंसा की जाएगी। कमेटी व सरकार के पूर्ण तौर पर संतुष्ट होने के बाद ही इस संस्थान को लैटर ऑफ इंटेंट (एलओआई) जारी किया जाएगा।

हिमाचल सरकार के उच्च शिक्षा विभाग ने निजी क्षेत्र में राज्य की पहली स्किल यूनिवर्सिटी खोलने के लिए ईओआई यानी एक्सप्रेशन ऑफ इंट्रेस्ट मांगा था। प्रदेश भर के करीब सात संस्थानों ने स्किल यूनिवर्सिटी खोलने के लिए आवेदन किया था। इनमें से चार संस्थानों के आवेदन शर्तों पर खरे उतरे थे। उच्च शिक्षा विभाग की तरफ से तय मापदंडों में सिरमौर जिला के कालाअंब में स्थित हिमालयन इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड एजूकेशन ही खरी उतरी। उच्च शिक्षा विभाग ने इस बारे में आखिरी फैसला कैबिनेट पर छोड़ा था। बताया जा रहा है कि चुने गए संस्थान में शैक्षणिक ढांचा काफी अच्छा है।

कोई टिप्पणी नहीं है

कोई जवाब दें