नगरोटा में 5 जवान और 2 अधिकारी हुए शहीद

0
24

जम्मू कश्मीर में जम्मू और सांबा जिलों में आतंकवादियों के खिलाफ सेना की दो अलग-अलग कार्रवाईयों में छह आतंकवादी मारे गए है, जबकि सेना के दो अधिकारियों सहित सात सुरक्षाकर्मी शहीद हो गए। इन मुठभेड़ में सीमा सुरक्षाबल के एक उप महानिरीक्षक सहित कई सुरक्षाकर्मी घायल भी हुए हैं।
इंटरनेशनल बॉर्डर से लगे नगरोटा और सांभा में अचानक गोलियों की तरतराहट से जब लोगों की नींद खुली तो पहले यह समझ नहीं पाए कि अल सुबह आतंकवादियो की घुसपैठ का मक़सद क्या था।

उरी हमले के बाद यह दूसरा फिदायीन हमला था जिसमे पाकिस्तान से आये आतंकवादियो का मक़सद एक बड़ी घटना को अंजाम देना था। लेकिन चौकस सुरक्षावलों ने दहशतगर्दो के मंसूबे पर पानी फेर दिया।

मंगलवार सुबह साढे पांच बजे के करीब कैंप पर फिदायीन आतंकियों ने गोलीबारी शुरु की। इसके बाद फौरन ही सुरक्षाबलों ने मोर्चा संभाला और मुंहतोड़ जवाब देते हुए कार्रवाई की। सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ में हमारे 2 ऑफीसर और सेना के 5 जवान शहीद हो गए। सुरक्षा बलों ने 3 आतंकियों को भी ढेर कर दिया।

एक अन्य घटना में देर रात आतंकियों ने चमलियाल और सांबा इलाके में बीएसएफ की पट्रोलिंग पार्टी को भी निशाना बनाया। घुसपैठ की फिराक में आतंकियों ने पट्रोलिंग टीम पर फायरिंग कर दी। इस ऑपरेशन के दौरान 3 आतंकियों का मार गिराया गया।

इस बीच भारतीय सेना ने रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर को नगरोटा आतंकी हमले के बारे में जानकारी दे दी है। रक्षा मंत्री ने कहा कि आंकड़ों से पता चलता है कि हमले सेना के ठिकानों पर हो रहे हैं, नागरिकों को निशाना नहीं बनाया जा रहा। जम्मू कश्मीर सरकार का कहना है कि सुरक्षा बल हमलों को माकूल जवाब दे रहे हैं।

दरअसल नगरोटा में सेना की अहम यूनिट है और यह हाइवे के काफी नजदीक भी है। हमला यूनिट के बेहद करीब हुआ। नगरोटा का यह इलाका रणनीतिक रूप से काफी अहम है। यह सेना का 16 कोर हेडक्वॉर्टर एरिया है।

आतंकियों से मुठभेड़ के बाद प्रशासन ने नगरोटा में स्कूल भी बंद रखने का आदेश जारी कर दिया है। इस पूरे घटनाक्रम को सीमा पार से घुसपैठ की कार्रवाई के तौर पर देखा जा रहा है। जम्मू कश्मीर में हुए इस आतंकी घटना को देखते हुए आस पास के इलाकों में भी सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है।

दरअसल भारतीय सेना के सर्जिकल स्ट्राइक के बाद से जम्मू-कश्मीर में आतंकी हमले और घुसपैठ की कई कोशिश की जा चुकी है और हर नापाक कोशिश को हमारे सुरक्षा बल विफल कर देश की आन बान और शान को ऊंचा रखने में जुटे हुए हैं। पाकिस्तान में मंगलवार को ही नए सेना प्रमुख ने पदभार संभाला है ऐसे में आतंकवादी फिदायीन हमले से साफ है कि पाक सुधरने वाला नहीं है।

कोई टिप्पणी नहीं है

कोई जवाब दें