संविधान दिवस के विज्ञापन में डॉ. अंबेडकर से बड़े हुए पीएम मोदी

0
31

26 नवंबर के दिन संविधान दिवस मनाया जाता है। इसे अंबेडकरवादी संगठन पहले से ही मनाते आ रहे हैं लेकिन आधिकारिक रूप से मनाने की शुरूआत 2015 से की गई। इस वर्ष संविधान निर्माता डॉ भीमराव अंबेडकर के जन्म के 125 साल पूरे हुए इसलिए इसे संविधान दिवस के रूप में आधिकारिक तौर पर मनाया गया।

आपको बता दें कि 26 नवम्बर 1949 को भारतीय संविधान सभा द्वारा इस संविधान को अपनाया गया और 26 जनवरी 1950 को इसे एक लोकतांत्रिक सरकार प्रणाली के साथ लागू किया गया था। इसीलिए शायद सरकार ने 26 नवंबर का दिन संविधान के महत्व का प्रसार करने लिए चुना।

संविधान दिवस के एक दिन पहले देश के ज्यादातर अखबारों और डिजिटल मीडिया में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बाबासाहब की फोटो विज्ञापन के तौर पर प्रसारित की गई है। इसमें खास यह है कि बाबा साहेब से ज्यादा जगह पीएम मोदी की फोटो को दी गई है। इसे प्रिंटिंग वालों की भूल माना जाए या सरकार द्वारा ऐसा आदेश दिया गया है, यह अभी कंफर्म नहीं हो पाया है। हालांकि कोई भी मौका हो प्रधानमंत्री की तस्वीरें आजकल चलन में हैं। जियो का डिजीटलीकरण हो या पेटीएम का कैशलैश विज्ञापन, पीएम हर एड में छाए रहे हैं। लेकिन इस बार तो उनका कद बाबा साहेब अंबेडकर से भी बड़ा कर दिया गया है।

कोई टिप्पणी नहीं है

कोई जवाब दें