बिलासपुर में बने एम्स को क्यों नहीं बनाया जा रहा है कोविड केयर सेंटर :- राजेश धर्माणी

बिलासपुर में बने एम्स को क्यों नहीं बनाया जा रहा है कोविड केयर सेंटर :- राजेश धर्माणी

सुभाष कुमार गौतम /घुमारवीं बिलासपुर
-आखिर क्यों नहीं ली जा रही है तैनात एक्सपर्ट डाक्टरों की सेवाएं आखिर किस का इंतजार कर रही है सरकार
वैश्विक महामारी कोरोना से हिमाचल प्रदेश में हर दिन सैकड़ों लोगों की जान ले रही है| कोरोना से मरने वालों में ऐसे कई युवा भी शामिल हैं जिनकी कोई मेडिकल हिस्ट्री नहीं थी। इस आपदा से निपटने में स्वास्थ्य विशेषज्ञों का साथ-साथ सहयोगी पेरामेडिकल स्टाफ सदस्यों के अतिरिक्त कई अन्य कोरोना वारियर का सराहनीय कार्य कर रहे हैं ।

बिलासपुर में बने एम्स को क्यों नहीं बनाया जा रहा है कोविड केयर सेंटर :- राजेश धर्माणी

कोरिना संक्रमित रोगियों को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। कोविड केयर सेंटर्स में भर्ती किए गए कोविड-19 के गंभीर मरीजों के उपचार के लिए सरकार ने जिला हस्पताल सहित अन्य हस्पतालों से विशेषज्ञ डॉक्टर तैनात किए हैं लेकिन फिर भी डॉक्टरों की कमी पूरी नहीं हो रही है।

इसे भी पढ़ें:  महिला और उसकी बेटी से पड़ोसियों ने रास्ता में रोककर की मारपीट, पालतू कुत्तों से भी कटवाया

विशेषज्ञ डॉक्टरों की कमी के कारण जिला बिलासपुर सहित प्रदेश के कई हस्पतालों में वेंटिलेटर व आईसीयू संचालित नहीं होने के कारण मरीजों को जान गंवानी पड़ रही है वहीं हैरानी इस बात की है कि केंद्र व राज्य सरकार के आपसी तालमेल न होने के कारण इस भीषण महामारी के दौरान भी एम्स बिलासपुर में तैनात किए गए 76 विशेषज्ञ डॉक्टरों की सेवाएं नहीं ली जा रही हैं और न ही एम्स में तैयार हो चुके हस्पताल भवनों को कोविड मरीजों के उपचार के लिए प्रयोग मे लाया जा रहा है।

एसोसिएट व एसिसटेंट प्रोफेसर स्तर के डॉक्टर भी एम्स में तैनात किए गए हैं लेकिन सरकारी लालफीताशाही और असंवेदनशीलता की वजह से इस भयंकर महामारी से निपटने में इनकी सेवाएं नहीं ली जा रही और दूसरी तरफ ईलाज के अभाव में कई मरीज असामयिक मृत्यु का शिकार हो रहे हैं। लगातार बढ़ रहे मरीजों के इलाज के लिए एक तरफ स्कूल, कालेज व अन्य संस्थानों के निजि भवनों को भी कोविड केयर सेंटर्स के तौर पर प्रयोग में लाया जा रहा है वहीं दूसरी तरफ एम्स बिलासपुर के नवनिर्मित भवनों का इस्तेमाल नहीं किया जाना सभी की समझ से परे है।

इसे भी पढ़ें:  निजी बस में चरस की खेप लेकर जा रहे 3 लोगों को पुलिस ने दबोचा, 8 किलो 400 ग्राम चरस बरामद

प्रदेश के मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने भी कुछ दिन पूर्व एम्स डॉक्टरों की सेवाएं लेने की बात कही थी लेकिन यह सिर्फ न्यूज हैडलाईनज तक सीमित रही और धरातल में कुछ भी नहीं हुआ। केंद्र व राज्य सरकार ने शीघ्र इस संदर्भ में कोई कदम नहीं उठाया तो कांग्रेस पार्टी जिलाधीश कार्यलय के बाहर धरना देकर सरकार का ध्यान आकर्षित करेगी।

बिलासपुर में बने एम्स को क्यों नहीं बनाया जा रहा है कोविड केयर सेंटर :- राजेश धर्माणी
बिलासपुर में बने एम्स को क्यों नहीं बनाया जा रहा है कोविड केयर सेंटर :- राजेश धर्माणी