चंबा: 7.68 लाख रुपये की घोषणा करने वाले पीए को पद से हटाया, कारण बताओ नोटिस जारी

कारण बताओ नोटिस

चंबा|
आवासीय आयुक्त (आरसी) पांगी के पीए को क्रिकेट प्रतियोगिता में बतौर मुख्यातिथि शिरकत कर 7.68 लाख रुपये देने की घोषणा का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद आवासीय आयुक्त ने पीए के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उसे पद से हटाकर कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया। आवासीय आयुक्त ने पीए के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उसे पद से हटाकर कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया।

दरअसल दो दिन पहले आवासीय आयुक्त के पीए मंजीत कुमार को पंचायत करयूनी में आयोजित क्रिकेट प्रतियोगिता में बतौर मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित किया गया था। उन्होंने प्रतियोगिता करवाने वाले क्लब को 7.68 लाख रुपये देने की घोषणा का डाली। आवासीय आयुक्त रीतिका जिंदल के पास जैसे ही यह मामला पहुंचा तो उन्होंने तुरंत अपने पीए को पद से हटा दिया। पीए को अब राजकीय माध्यमिक पाठशाला सेचू में क्लर्क के पद पर भेजा गया है।

वहीँ अब इस मामले को लेकर भाजपा विधायक ने भी सवाल खड़े किये हैं।
जनक राज ने पूछा कि पांगी के आवासीय आयुक्त के निजी सचिव ने 7 लाख से अधिक राशि बांटी है , क्या वह सुपर डीसी है। भाजपा विधायक डॉ जनक राज ने कहा पिछले कल पांगी घाटी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुई, इस वीडियो को देखकर ऐसा लगता है कि सरकार ने व्यवस्था परिवर्तन की विषय पर कार्य करना शुरू कर दिया है।

यह व्यवस्था परिवर्तन ही तो है जिसमें एक आवासीय आयुक्त के निजी सहायक बतौर मुख्य अतिथि कार्यक्रमों में जाकर वित्तीय घोषणाएं कर रहे है, अपने अधिकार क्षेत्र से बाहर की बात कर रहे हैं। हम ऐसी स्थिति में सरकार से यह पूछना चाहेंगे कि उनको यह वित्तीय शक्तियां किसने प्रदान करी, कब प्रदान करी या यह कांग्रेस पार्टी के नारा व्यवस्था परिवर्तन का भाग है।

ऐसा लगता है कि कांग्रेस सरकार का अधिकारियों पर कोई नियंत्रण नहीं है, भाजपा सरकार से पूछना चाहेगी कि यह क्या कारण रहे की ऐसे सरकारी अधिकारी को 7 लाख से अधिक राशि की घोषणा करने की शक्ति किसने प्रदान करें? यह अधिकारी अगर सही प्रकार में देखा जाए तो सुपर डीसी लग रहा है।