टौणीदेवी कस्बे में दुकानों को गिराने के आदेश पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करे सरकार : राणा

मानव भारती विश्वविद्यालय फर्जी डिग्री कांड पर विधायक राजेन्द्र राणा ने फिर सरकार को घेरा

दुकानें गिराना नहीं है सही कदम
सड़क पहाड़ काटकर भी बनाई जा सकती है
सुजानपुर।
सुजानपुर के टौणीदेवी कस्बे में दुकानों को गिराने के सरकारी आदेशों पर विधायक राणा ने टिप्पणी करते हुए कहा है कि गरीब व छोटे दुकानदारों की रोटी-रोजी से जुड़ा मसला है, सरकार इस विषय पर विचार करे। उन्होंने कहा कि दुकानों को गिराने व उजाडऩे की बजाय पहाड़ को काटकर सड़क बन सकती है तो सरकार को इस ओर प्रयास करना चाहिए। राणा ने कहा कि सड़कें बनें, सरकार के इस कदम का वह स्वागत करते हैं लेकिन मैं दुकानदारों की तकलीफ का पक्ष भी जयराम सरकार के पास रखना चाहता हूं। मैं व्यक्तिगत तौर पर पीडि़त व प्रभावित होने वाले दुकानदारों से मिला हूं, उनकी तकलीफ को समझा है। उन दुकानदारों के परिवार गहरे तनाव व गहरे दबाव में हैं। क्योंकि इन्हीं दुकानों से उनके परिवार का भरण-पोषण चलता है इसलिए जयराम सरकार इनकी समस्या पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करे। उन्होंने कहा कि नेशनल हाईवे समूचे प्रदेश की तरह सुजानपुर के टौणीदेवी कस्बे से निकलना जरुरी व जायज है। लेकिन टौणीदेवी से होकर निकलने वाले एनएच 03 के विकास से अगर स्थानीय व्यापारियों की रोटी-रोजी का विनाश हो तो यह भी जायज नहीं है। राणा ने सरकार से आग्रह किया है कि एनएच 03 के विकास को विकसित करती दफा जहां तक संभव हो और जितना संभव हो व्यापारियों की दुकानों को बचाया जाए। ताकि पुश्त-दर-पुश्त यहां अपनी दुकानदारी करके अपने परिवार का भरण पोषण करने वाले दुकानदार लोगों को कम से कम नुकसान हो।

उन्होंने कहा कि विकल्प के तौर पर पहाड़ की कटिंग करके अगर सड़क दूसरी तरफ से बनाई जाए तो काफी व्यापारियों को उजडऩे से बचाया जा सकता है। राणा ने कहा कि सरकार और सरकारी कामों में जनता के हितों को बचाने के लिए अगर सरकार को कटिंग का कुछ अधिक खर्चा भी उठाना पड़े तो इस खर्चे को नैतिकता के आधार पर सरकार उठाए।

इसे भी पढ़ें:  श्रेय लूटने की होड़ में बेतुके बयान न दें बीजेपी के बयानवीर : ज्योति प्रकाश
टौणीदेवी कस्बे में दुकानों को गिराने के आदेश पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करे सरकार : राणा
टौणीदेवी कस्बे में दुकानों को गिराने के आदेश पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करे सरकार : राणा