कोविड के खिलाफ लड़ाई में सरकार के प्रयासों को भरपूर सहयोग दें उद्योगपतिः मुख्यमंत्री

कोविड के खिलाफ लड़ाई में सरकार के प्रयासों को भरपूर सहयोग दें उद्योगपतिः मुख्यमंत्री

प्रजासत्ता|
मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज सोलन जिले के बद्दी में बद्दी-बरोटीवाला-नालागढ़ इंडस्ट्रीज एसोसिएशन (बीबीएनआईए) के साथ एक बैठक की अध्यक्षता करते हुए उद्योगपतियों से कोविड-19 के विरुद्ध लड़ाई में राज्य सरकार के प्रयासों को प्रभावी ढंग अपना पूरा सहयोग प्रदान करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि इसके लिए राज्य सरकार के अधिकारियों और उद्योगों के प्रतिनिधियों का एक कार्यकारी समूह भी गठित किया जा सकता है।

जय राम ठाकुर ने कहा कि राज्य सरकार ने 7 व 8 नवंबर, 2019 को धर्मशाला में आयोजित ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट के दौरान हुए समझौता ज्ञापनों का दूसरी ग्राउंड ब्रेकिंग समारोह आयोजित करने की योजना बना रही है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की उद्यमियों के अनुकूल नीतियों के कारण व्यापार में सुगमता रैंकिंग में राज्य को सातवां स्थान मिला है जो 16वें रैंक से एक बड़ी छलांग है। बद्दी-बरोटीवाला-नालागढ़ (बीबीएन) क्षेत्र के व्यापक विकास के लिए विस्तृत मास्टर प्लान और अधोसंरचना विकास अध्ययन तैयार करने और क्षेत्र में नई टाउनशिप विकसित करने की संभावना तलाशने के प्रयास किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि कोविड मामलों में वृद्धि को नियंत्रित करने के लिए औद्योगिक लाॅकडाउन समाधान नहीं है क्योंकि इससे राज्य की अर्थव्यवस्था पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा।

इसे भी पढ़ें:  पुरानी पेंशन बहाली की मांग: काले बिल्ले लगाकर कार्यालय पहुंचे प्रदेशभर के NPS कर्मचारी

मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान परिस्थितियों में यह उद्योगपतियों की भी जिम्मेदारी है कि उनके श्रमिक राज्य सरकार के दिशा-निर्देशों का सख्ती से पालन करें। नालागढ़ में मेकशिफ्ट अस्पताल किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार है जिसे इस औद्योगिक क्षेत्र को बेहतर कोविड देखभाल सुविधा प्रदान करने के उद्देश्य से बनाया गया है। उन्होंने कहा कि इस अस्पताल में लगभग 66 बिस्तरों की क्षमता है। इस महामारी से प्रभावी ढंग से लड़ने के लिए राज्य सरकार और उद्योगपतियों के बीच उचित तालमेल स्थापित करना होगा।

जय राम ठाकुर ने कहा कि उद्योगों को अपने कार्यबल और संक्रमित व्यक्तियों और उनके संपर्क में आए लोगांे को आइसोलेशन में रखने की प्रक्रिया पर कड़ी नजर रखनी चाहिए। सख्त कार्य प्रोटोकाॅल को अपनाया जाना चाहिए और बड़े उद्योगों को व्यक्ति आइसोलेशन केंद्र जबकि छोटी इकाइयों को काॅमन आइसोलेशन केंद्र तैयार करने चाहिए। उन्होंने कहा कि कोरोना की पहली लहर के दौरान पिछले साल बीबीएन क्षेत्र के उद्योगपतियों ने प्रमुख भूमिका निभाई। चाहे जीवन रक्षक दवाएं तैयार करना या हैंड सैनिटाइजर और मास्क तैयार करना हो अथवा सीएम कोविड फंड और पीएम केअर्स में उदारतापूर्वक अंशदान हो, उद्योगपतियों की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। कोविड-19 मामलों में तेज उछाल के कारण यह समय की आवश्यकता है कि उद्योगपति इस चुनौती का सामना करने के लिए राज्य सरकार को पूरा समर्थन प्रदान करें।

इसे भी पढ़ें:  ऑक्सीमीटर व ऑक्सीजन पाइप लाइन को लेकर नही कोई अनियमितताएं,सभी आरोप बेबुनियाद :- सैजल

मुख्यमंत्री ने कहा कि उद्यमियों की सभी जायज मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार किया जाएगा।

इस अवसर पर मेघ राज गर्ग ने स्टील इंडस्ट्रीज एसोसिएशन की ओर से सीएम कोविड फंड के लिए 11 लाख रुपये देने की घोषणा की।

बद्दी-बरोटीवाला-नालागढ़ इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के अध्यक्ष संजय खुराना ने कोविड मामलों में तेज वृद्धि के मुद्दों पर सक्रिय रूप से विभन्न पहलों और उद्योगपतियों तक पहुंचने के लिए मुख्यमंत्री का धन्यवाद किया। उन्होंने पिंजौर-नालागढ़ फोर लेन राष्ट्रीय उच्च मार्ग के लंबे समय से लंबित मुद्दे को हल करने के लिए 15 करोड़ रुपये अतिरिक्त लागत वहन करने और चंडीगढ़-बद्दी रेल लिंक के लिए भूमि अधिग्रहण के काम में तेजी लाने के लिए भी मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। उन्होंने महामारी पर नियंत्रण के लिए उद्योग जगत द्वारा की गई कुछ पहलों की विस्तारपूर्वक जानकारी दी। उन्होंने मुख्यमंत्री से पर्याप्त कार्यबल के साथ बद्दी में एक आपदा प्रबंधन सेल बनाने का भी आग्रह किया।

इसे भी पढ़ें:  सरकारी बैंक कर्मचारीयों की हड़ताल का हिमाचल में भी असर,केंद्र की नीतियों के ख‍िलाफ की नारेबाजी

एसोसिएशन के महासचिव वाई.एस. गुलेरिया ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया।

हिमाचल प्रदेश सीआईआई के अध्यक्ष शैलेश अग्रवाल ने मुख्यमंत्री को एक मांग पत्र प्रस्तुत किया।

आईएमजेएस सिद्धू, एस.के ठाकुर, अशोक राणा, राम गोपाल, अनुराग पुरी सहित कई उद्योगपतियों ने मुख्यमंत्री के साथ अपने विचार साझा किए।

स्वास्थ्य सचिव अमिताभ अवस्थी ने कहा कि राज्य सरकार ने फैसला किया है कि एक औद्योगिक इकाई में 100 से अधिक व्यक्तियों को टीका लगाने के लिए एक विशेष अभियान शुरू किया जाएगा। उन्होंने कहा कि औद्योगिक घरानों को राज्य से बाहर जाने और यहां आने वाले लोगों के लिए सुविधाएं प्रदान करने के प्रयास करने चाहिए ताकि वे प्रदेश से बाहर न जाएं।

स्वास्थ्य मंत्री डा. राजीव सैजल, सांसद और राज्य भाजपा अध्यक्ष सुरेश कश्यप, विधायक परमजीत सिंह पम्मी, उपाध्यक्ष जल प्रबंधन बोर्ड दर्शन सिंह सैणी, पूर्व विधायक के.एल. ठाकुर, उपायुक्त सोलन के.सी चमन, एसपी बद्दी रोहित मालपाणी और बीबीएनआईए के सदस्य इस अवसर पर उपस्थित थे।