प्रदेश में वाहनों के पंजीकरण में फर्जीवाड़े पर अग्निहोत्री का सरकार पर निशाना, कहा हो CBI जाँच

हिमाचल में BS-4 वाहनों के पंजीकरण में फर्जीवाड़ा

प्रजासत्ता|
हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले में वाहनों के पंजीकरण में फर्जीवाड़ा सामने आने के बाद विपक्षी दल कांग्रेस ने जयराम सरकार पर निशाना साधना शुरू कर दिया है| मामले को लेकर कांग्रेस नेता मुकेश अग्निहोत्री और कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप सिंह ने सवाल उठाए हैं| शनिवार को शिमला में एक पत्रकार वार्ता के दौरान नेता प्रतिपक्ष ने जमकर हमला साधा उन्होंने सरकार से सवाल किया की आखिर सरकार बताए कि देश के नामी लोगों- रईसदारों-धन्नासेठों ने वाहन पंजीकरण के लिए आख़िर हिमाचल को ही क्यों चुना ?

कांग्रेस नेता मुकेश अग्निहोत्री ने आरोप लगाया कि कीमती वाहनों के नूरपुर व अन्य स्थानों पर हुए पंजीकरण में सरकारी खजाने को करोड़ों रुपये की चपत लगी है| उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेशों को दरकिनार कर जिसमे वीएस-4 वाहनों के पंजीकरण पर रोक लगाई थी, लेकिन दो-तीन करोड़ रुपये की गाड़ियों के मालिकों ने वीएस-4 के बजाय वीएस-6 के दस्तावेज लगाकर वाहनों को पंजीकृत करवायाए गए| एक वाहन में कम से कम 25 से 30 लाख रुपये की टैक्स चोरी की गई है और आठ अप्रैल 2021 को अतिरिक्त आयुक्त परिवहन ने ऐसे सभी वाहनों के पंजीकरण रद करने के आदेश दिए हैं|

इसे भी पढ़ें:  CM के लिए नया उड़नखटौला हायर करने को लेकर कांग्रेस ने उठाए सवाल, सोशल मीडिया पर बवाल

अग्निहोत्री ने इस मामले की सीबीआई जांच करवाने की मांग करते हुए कई सवाल उठाए हैं| उन्होंने सरकार से पूछा है कि बेशक़ीमती गाड़ियों की रजिस्ट्रेशन निरस्त करने के आदेश तो आनन फानन में निकाल दिया गया लेकिन आपराधिक कार्रवाई कब होगी। पूरे प्रकरण की सीबीआई जाँच के आदेश कब होंगे??,,, इस मामले में बहुत बड़े मगरमच्छ शामिल हैं। आख़िर प्रदेश में कौन है फ़र्ज़ी वाहन रजिस्ट्रेशन का साम्राज्य चलाने वाले???सर्वोच्च न्यायलय के आदेशों को धत्ता दिखाने वाले कब जाएँगे सलाख़ों के पीछे?? उन्होंने सरकार से मांग की है कि सर्कार आखिर बताए तो सही फर्जी दस्तावेजों के अधर पर हिमाचल में कितनी गाड़ियाँ पंजीकृत हुई|

इसे भी पढ़ें:  न्यू पेंशन कर्मचारी महासंघ कल सभी जिला के मुख्यालयों में करेंगे धरना प्रदर्शन