मानसून सत्र: दुसरे दिन भी सदन में हंगामा, अग्निहोत्री बोले- मुख्यमंत्री कुर्सी छोड़ें, सरकार इस्तीफा दे…

मुकेश अग्निहोत्री

शिमला|
हिमाचल प्रदेश विधानसभा के मानसून सत्र की दूसरे दिन की कार्यवाही काफी हंगामेदार रही। अविश्वास प्रस्ताव के बहाने विपक्षी दल कांग्रेस सरकार पर खूब हमलावर दिखी। चुनाव से ठीक पहले विपक्ष द्वारा लाए गए अविश्वास प्रस्ताव के बहाने कांग्रेस सरकार को हर मोर्चे पर खूब घेरा। इस पर सदन में सत्ता पक्ष और विपक्ष में तीखी नोकझोंक हुई।

नेता प्रतिपक्ष और कांग्रेस विधायक दल के नेता मुकेश अग्निहोत्री ने सदन में अविश्वास प्रस्ताव लाया।
इस पर चर्चा शुरू करते हुए मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि इस सदन का प्रदेश मंत्रिमंडल में कोई विश्वास नहीं है। अब तक तमाम रिकॉर्ड तोड़ दिए गए हैं। सरकारी खर्च पर रैलियां हो रही हैं। अरबों रुपये की फिजूलखर्ची की जा रही है। जब ये सरकार जाएगी तो प्रदेश पर 85 हज़ार करोड़ रुपये का कर्ज होगा।

अग्निहोत्री ने कहा कि हिमाचल के हितों को बेचा जा रहा है। इन्होंने कहा था कि इनके राज में महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं। खून किए जा रहे हैं। महिलाओं के कत्ल, बलात्कार और छेड़छाड़ के मामले भी बढ़ गए हैं। उन्होंने कहा कि एक महिला का शव स्लीपिंग बैग में मिला लेकिन आज तक यह पता नहीं चला कि वह किसका शव था। वहीँ नेता विप्क्स्ज ने कहा कि पुलिस की भर्ती इस सरकार के खिलाफ सबसे बड़ा मसला रहा। पुलिस भर्ती पेपर लीक का मामला सीबीआई दिया गया। लेकिन सीबीआई क्यों नहीं आई। दूसरी दफा जब पुलिस भर्ती का पर्चा छापा गया तो लीक नहीं हुआ। पहले वाला पर्चा लीक हो गया। पुलिस भर्ती सबसे बड़ा घोटाला है। कहते हैं कि प्रिंटिंग प्रेस के एक चपरासी ने इसे लीक किया

इस पर बोलते हुए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि विपक्ष के नेता मुकेश अग्निहोत्री उत्साहित हैं। सरकार ने पुलिस भर्ती पर तत्काल कार्रवाई करते हुए पेपर रद्द किया और एसआईटी बनाई। इसके बाद मामला सीबीआई को सौंपने का निर्णय लिया। सीबीआई ने इस मामले में अभी तक न की है और न ही हां। कांग्रेस ने 2016 में पुलिस भर्ती पर उंगलियां उठाईं। तब इसे रद्द क्यों नहीं किया गया।

मुकेश ने कहा कि जिन अधिकारियों की इसमें संलिप्तता रही, उन पर कार्रवाई क्यों नहीं की गई। कार्रवाई केवल उन लोगों पर ही की गई है, जिन्होंने पेपर खरीदा या लीक किया। अग्निहोत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री कर्मचारियों पर बिगड़कर कहते हैं कि आंखें खोलो- ये किसने लिख दिया। ये आउटसोर्स और अन्य कर्मचारियों का शोषण कर रहे हैं। किसान-बागवान को ये कुछ नहीं दे पा रहे हैं। मुख्यमंत्री को कुर्सी छोड़नी चाहिए और सरकार को इस्तीफा देना चाहिए।

नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि निजी विश्वविद्यालयों पर कई तरह के खेल हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि गाड़ियों के पंजीकरण में भी गड़बड़ी हुई है। नेशनल हाईवे बनाने की बात की गई, मगर ये कहां बने हैं। कहां नई रेलवे लाइन बनी है और कहां नए हवाई अड्डे बने। नशे के लिए निर्णायक काम करेंगे। क्या काम किए गए। मानव भारती ने पूरे हिंदुस्तान और दूसरे देशों तक डिग्रियां बेच दी हैं। गैर हिमाचली अधिकारी सेब के बगीचे खरीद रहे हैं। अफसर क्या इसलिए बनाए गए हैं।

इन सब पर जब मुख्यमंत्री बीच में बोलने के लिए उठे तो विपक्ष के नेता मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि बीच में मुख्यमंत्री का बार-बार उठना सही नहीं है। वह विपक्ष को बोलने दें। अविश्वास प्रस्ताव के बहाने विपक्षी दल कांग्रेस सरकार पर खूब हमलावर दिखी हालांकि सदन में सत्ता पक्ष और विपक्ष में तीखी नोकझोंक हुई और माहौल गरमाया रहा।

विज्ञापन मानसून सत्र: दुसरे दिन भी सदन में हंगामा, अग्निहोत्री बोले- मुख्यमंत्री कुर्सी छोड़ें, सरकार इस्तीफा दे...मानसून सत्र: दुसरे दिन भी सदन में हंगामा, अग्निहोत्री बोले- मुख्यमंत्री कुर्सी छोड़ें, सरकार इस्तीफा दे...मानसून सत्र: दुसरे दिन भी सदन में हंगामा, अग्निहोत्री बोले- मुख्यमंत्री कुर्सी छोड़ें, सरकार इस्तीफा दे...मानसून सत्र: दुसरे दिन भी सदन में हंगामा, अग्निहोत्री बोले- मुख्यमंत्री कुर्सी छोड़ें, सरकार इस्तीफा दे...मानसून सत्र: दुसरे दिन भी सदन में हंगामा, अग्निहोत्री बोले- मुख्यमंत्री कुर्सी छोड़ें, सरकार इस्तीफा दे...मानसून सत्र: दुसरे दिन भी सदन में हंगामा, अग्निहोत्री बोले- मुख्यमंत्री कुर्सी छोड़ें, सरकार इस्तीफा दे... मानसून सत्र: दुसरे दिन भी सदन में हंगामा, अग्निहोत्री बोले- मुख्यमंत्री कुर्सी छोड़ें, सरकार इस्तीफा दे...मानसून सत्र: दुसरे दिन भी सदन में हंगामा, अग्निहोत्री बोले- मुख्यमंत्री कुर्सी छोड़ें, सरकार इस्तीफा दे...
मानसून सत्र: दुसरे दिन भी सदन में हंगामा, अग्निहोत्री बोले- मुख्यमंत्री कुर्सी छोड़ें, सरकार इस्तीफा दे...