सेना डीएनए सैंपल की जांच के बाद ही परिवार को सौंपेगी शहीद विवेक की पार्थिव देह

अधूरी रह गई लांस नायक विवेक कुमार की बेटे का पहला जन्मदिन मनाने की तमन्ना

कांगड़ा|
तमिलनाडू में कन्‍नूर के पास भारतीय वायुसेना का हेलीकाप्टर दुर्घनाग्रस्त होने से हिमाचल प्रदेश जयसिंहपुर के बलिदानी विवेक कुमार की पार्थिव देह घर पहुंचने के लिए अभी इंतजार करना होगा। बलिदानी का पार्थिव देह जयसिंहपुर लाने से पहले उसके माता पीता का डीएनए सैंपल लिया जाएगा।

डीएनए सैंपल जांच को दिल्ली भेजा जाएगा। इसके बाद ही दिल्ली से पार्थिव देह को जयसिंहपुर लाया जा सकेगा। स्वजनों के डीएनए के लिए गांव अप्पर ठेहड़ू कोसरी गांव में नाहन से मेडिकल टीम पहुंची है। टीम ने जांच के लिए डीएनए सैंपल लिया है, जिसे दिल्ली भेजा जाएगा। उसके बाद पार्थिव देह को दिल्ली से जयसिंहपुर लाया जाएगा।

इसे भी पढ़ें:  ड्रग अलर्ट: हिमाचल प्रदेश में बनने वाली 6 जीवनरक्षक दवाओं सैंपल फेल

बता दें कि तमिलनाडू में कन्‍नूर के पास भारतीय वायुसेना का हेलीकाप्टर दुर्घनाग्रस्त होने से देश के पहले चीफ आफ डिफेंस (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत उनकी पत्नी मधुलिका रावत समेत 13 लोगों की मौत हो गई है। वहीं इस दुर्घटना में हिमाचल के वीर सुपूत विवेक कुमार भी शहीद हो गए।हे‍लीकाप्‍टर क्रैश के बाद न केवल अप्पर ठेहडू कोसरी गांव बल्कि पूरा जयसिंहपुर, जिला कांगड़ा व हिमाचल प्रदेश इस वक्त शोक में है। देश ने जहां एक जांबाज जनरल खो दिया है।

सेना डीएनए सैंपल की जांच के बाद ही परिवार को सौंपेगी शहीद विवेक की पार्थिव देह
सेना डीएनए सैंपल की जांच के बाद ही परिवार को सौंपेगी शहीद विवेक की पार्थिव देह