हिमाचल के किसान नेकराम शर्मा को पद्मश्री सम्मान, पारंपरिक फसल प्रणाली पुनर्जीवित करने में अहम योगदान

प्रजासत्ता ब्यूरो।
केंद्र सरकार की तरफ से गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर पद्म पुरस्कारों का ऐलान किया गया है।
कृषि क्षेत्र में हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले के नेकराम शर्मा को भी पद्मश्री से नवाजा जाएगा। नेकराम शर्मा जैविक खेती से जुड़े हैं। ‘नौ-अनाज’ की पारंपरिक फसल प्रणाली को पुनर्जीवित कर रहे हैं।

बता दें कि केंद्र सरकार की तरफ से गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर 25 जनवरी को पद्म पुरस्कार विजेताओं के नामों की घोषणा की गई है. 2023 के लिए राष्ट्रपति ने 106 पद्म पुरस्कारों को प्रदान करने की मंजूरी दी है। सूची में 6 पद्म विभूषण, 9 पद्म भूषण और 91 पद्मश्री शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें:  लाहौल स्पीति में दिखे 3 स्नो लेपर्ड, युवक ने कैमरे में किए कैद

उल्लेखनीय है कि नेकराम शर्मा ने प्राकृतिक, ऑर्गेनिक और पारंपरिक फसलों को बढ़ावा देते हुए
देश व प्रदेश के लुफ्त होते मोटे अनाज जैसे कागणी, कोदरा, सोक इतिआदि के संरक्षण के लिए जो योगदान नेकराम शर्मा ने दिया है। आज उसी का ही परिणाम है कि इन्हें देश का सर्वोच्च सम्मान पद्मश्री से सम्मानित किया जा रहा है।

हिमाचल के किसान नेकराम शर्मा को पद्मश्री सम्मान, पारंपरिक फसल प्रणाली पुनर्जीवित करने में अहम योगदान
हिमाचल के किसान नेकराम शर्मा को पद्मश्री सम्मान, पारंपरिक फसल प्रणाली पुनर्जीवित करने में अहम योगदान