हिमाचल विधासभा चुनाव: बीजेपी के पास विकास ही हथियार, महंगाई, बेरोजगारी भ्रष्टाचार को मुद्दा बना विपक्ष कर रहा वार

हिमाचल में एक फेज में 12 नवंबर को होगा मतदान, इस तारीख को आएंगे नतीजे

प्रजासत्ता ब्यूरो |
हिमाचाल प्रदेश विधानसभा चुनाव की जंग अब जोर पकड़ रही है, राजनीतिक पार्टियां जोर-शोर से प्रचार-प्रसार में जुटी हैं। सभी दल अपने-अपने दावों और वादों के साथ मैदान में उतर चुके हैं, साथ ही जीत का दावा भी कर रही है। जहाँ सत्ताधारी भाजपा मोदी फेक्टर के साथ विपक्ष के खिलाफ विकास के मुद्दे को हथियार बना रही है। वहीँ विपक्ष की ओर से महंगाई, बेरोजगारी भ्रष्टाचार को मुद्दा बनाकर लगातार बीजेपी को घेरा जा रहा है,।

विधानसभा चुनाव में राजनीतिक दलों का एक दुसरे वार-पलटवार का सिलसिला जारी है, इन सभी का निशाना युवा वर्ग का वोट है, भाजपा, कांग्रेस, आम आदमी पार्टी समेत सभी दल युवा वोट बैंक को अपने पाले में खींचना चाहते हैं। जहाँ भाजपा के विकास मॉडल को कमजोर करने के लिए कांग्रेस ने बेरोजगारी के मुद्दे को अपनाया है, वहों हिमाचल प्रदेश की सभी विधानसभा सीटों पर प्रचार के दौरान कांग्रेस के नेता बेरोजगारी को मुख्य मुद्दा बना रहे हैं।

इसे भी पढ़ें:  फार्मा हब बद्दी में बनी नकली दवाओं को लेकर हिमाचल सरकार ने देशभर में जारी किया अलर्ट

खास बात ये है कि कांग्रेस की ओर से सरकार बनने पर 5 लाख युवाओं को रोजगार देने की गारंटी दी गई है, इसके अलावा भी स्टार्टअप फंड का ऐलान किया गया है ताकि ज्यादा से ज्यादा युवाओं को अपनी ओर खींचा जा सके। आम आदमी पार्टी का भी फोकस युवा वोट पर है, वह बेरोजगारी भत्ता और रोजगार देने जैसे बड़े ऐलान कर चुके हैं।

इधर भाजपा प्रदेश में हो रहे विकास कार्य और डबल इंजन सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए विपक्ष के हर वार को असफल करने के प्रयास में जुटी है, भाजपा नेता अपनी सरकार के काम गिनाने में जुटे हैं, खास बात ये है कि राज्य सरकार से ज्यादा केंद्र सरकार के कामों को गिनाया जा रहा है, कार्यकर्ता सीएम जयराम ठाकुर से ज्यादा पीएम मोदी के चेहरे के साथ चुनाव प्रचार करने में जुटे हैं.

इसे भी पढ़ें:  हिमाचल में लोक अदालत में एक साथ हुई 1.13 लाख मामलों की सुनवाई, पहली बार में निपटाए गए हजारों केस

हिमाचल प्रदेश में महंगाई, बेरोजगारी भ्रष्टाचार के मुद्दे पर कांग्रेस पूरी तरह सत्ता पक्ष पर हमलावर है, पिछले दिनों ही प्रदेश कांग्रेस का कहना है कि भाजपा राज में मह्नागाई, भ्रष्टाचार और बेरोजगारी बढ़ी है, नौकरी मिली है तो सिर्फ चहेतों को दी गई है। रोजगार कार्यालयों में रजिस्टर्ड युवाओं को रोजगार देने के लिए कोई कदम नहीं उठाया गया है। भर्तियों के पेपर लीक मामले को भी बड़ा मुद्दा बनाया जा रतः है। कांग्रेस की तरह आम आदमी पार्टी,तथा माकपा सहित अन्य नए दल भी महंगाई, बेरोजगारी भ्रष्टाचा स्वास्थ्य, शिक्षा जैसे मुद्दों पर भाजपा को घेरने की तैयारी में है।

इसे भी पढ़ें:  ड्रग्स कनेक्शन! श्रद्धा हत्याकांड में जांच के लिए हिमाचल प्रदेश पहुंची दिल्ली पुलिस
हिमाचल विधासभा चुनाव: बीजेपी के पास विकास ही हथियार, महंगाई, बेरोजगारी भ्रष्टाचार को मुद्दा बना विपक्ष कर रहा वार
हिमाचल विधासभा चुनाव: बीजेपी के पास विकास ही हथियार, महंगाई, बेरोजगारी भ्रष्टाचार को मुद्दा बना विपक्ष कर रहा वार