इंदौरा: करोड़ों रूपए खर्च कर की गई टायरिंग, उखड़ी….कार्यप्रणाली पर उठे सवाल

स्सद्क

बलजीत|
एक तरफ जहां सरकार करोडों रुपये ख़र्च करके विकास के कार्य करने में जुटी हुई है, तो दूसरी तरफ कुछ लोग अपने फायदे के लिए पैसे कमाने के चक्कर में बेईमानी से कमाई करके देश के साथ गद्दारी करके गलत कार्य करने में जुटे हुए हैं| ऐसा ही मामला एक देखने को मिला जब इन्दौरा विधानसभा के कंडवाल से लेकर भद्ररोया सड़क मार्ग पर देखने को मिला, जहाँ एक कोरोड़ की लगत से लगभग 5 किलोमीटर सडक की टायरिंग की जानी थी|

इंदौरा: करोड़ों रूपए खर्च कर की गई टायरिंग, उखड़ी....कार्यप्रणाली पर उठे सवाल

परंतु लोधवा के पास ठेकेदार द्वारा टायरिंग जो डाली गई थी वह डालने के साथ ही उखड़ गई| टायरिंग के लिए जो मटेरियल यूज़ किया गया था वह मापदंड के मुताबिक सही नहीं था | एक स्थानीय पत्रकार ने इस बारे एक्सईएन अरुण वशिष्ठ को फोन द्वारा इसकी सूचना दी| जिसके बाद अरुण वशिष्ठ मौके पर पहुंचे तथा उन्होंने ठेकेदार द्वारा किए जा रहे हैं सड़क निर्माण व मरम्मत के लिए प्रयोग किए जा रहे तारकोल को जेसीबी से उखाड़ दिया| उन्होंने बार-बार जब ठेकेदार को फोन किया तो उन्होंने फोन नहीं उठाया|

इसे भी पढ़ें:  अध्यापक पात्रता परीक्षा (टेट) के 3802 अधूरे आवेदन, नहीं जमा करवाई फीस

मौके पर इस कार्य को देखने वाले जेई कमल कुमार ने बताया कि जो मटेरियल इस्तेमाल किया जा रहा है यह मापदंड के मुताबिक नहीं है जिसकी शिकायत उन्होंने अपने उच्च अधिकारियों को भी दे दी थी| परंतु यह ठेकेदार के करिन्दों ने उसकी एक बात भी नहीं मानी तथा यह कार्य करते रहे|

इस मौके पर जब एक्सई एन अरुण से बात की गई तो उन्होंने कहा कि देश के गद्दारों के साथ कोई समझौता नहीं किया जाएगा तथा उन्होंने तुरंत मौके पर इस सड़क पर डाले गए तारकोल को जेसीबी से तुरंत उखाड़ दिया तथा इसे फिर से बनाने के आदेश जारी किए।

इसे भी पढ़ें:  अध्यापक पात्रता परीक्षा (टेट) के 3802 अधूरे आवेदन, नहीं जमा करवाई फीस

क्या कहती विधायिका इन्दौरा
इस सम्बन्धी जब विधायिका रीता धीमान को सूचित किया गया तो उन्होंने तुरंत एक्सीयन इन्दौरा अरुण विशिष्ट को मौका पर भेजा व उन्होंने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर द्वारा घरद्वार सड़क योजना के लिए करोड़ो रूपये उपलब्ध करवाए जा रहे है किंतु कुछ ठेकेदार इसका नजायज फायदा ले रहे है यह कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा अगर कार्य मे किसी भी तरह की त्रुटि पाई गई तो ठेकेदार का लाइसेंस तो रद्द होगा वही उसे क्लेम की राशि भी देनी होगी|

इंदौरा: करोड़ों रूपए खर्च कर की गई टायरिंग, उखड़ी....कार्यप्रणाली पर उठे सवाल
इंदौरा: करोड़ों रूपए खर्च कर की गई टायरिंग, उखड़ी....कार्यप्रणाली पर उठे सवाल