जोशीमठ को 3 जोन में बांटा गया, ज्यादा क्षतिग्रस्त इमारतों को तोड़ा जाएगा


Joshimath crisis: जोशीमठ के संभावित खतरे को देखते हुए इसे तीन क्षेत्रों में विभाजित किया गया है। शहर में भूमि धंसने के कारण स्थानीय लोगों को अपने जीवन और संपत्ति के लिए खतरे का सामना करना पड़ रहा है। समाचार एजेंसी एएनआई ने एक अधिकारी के हवाले से बताया कि प्रभावित स्थानीय लोगों को सुरक्षित स्थानों पर स्थानांतरित करने के सरकार के प्रयास के बीच, प्रशासन ने शहर को ‘डेंजर’, ‘बफर’ और ‘पूरी तरह से सुरक्षित’ क्षेत्रों में बांट दिया है।

603 इमारतों में दरारें

यह फैसला जोशीमठ क्षेत्र को शहर की इमारतों में दरारें आने के बाद आपदा-प्रवण घोषित किए जाने के बाद आया है। चमोली जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के अनुसार, जोशीमठ शहर में अब तक 603 इमारतों में दरारें आ चुकी हैं। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की सचिव आर मीनाक्षी सुंदरम ने कहा कि प्रशासन खतरे और बफर जोन का आकलन करने के लिए एक सर्वेक्षण कर रहा है।

इसे भी पढ़ें:  बेंगलुरु की सॉफ्टवेयर कंपनी में लगी आग, किसी के हताहत होने की सूचना नहीं

एक अधिकारी नए एएनआई से कहा” जो क्षेत्र पूरी तरह से असुरक्षित है, जिसे तुरंत खाली करना है, उसे डेंजर जोन कहा गया है। बफर जोन वह जोन है जो वर्तमान में सुरक्षित है लेकिन भविष्य में खतरे में पड़ सकता है। और तीसरा पूरी तरह से सुरक्षित क्षेत्र है।” खतरे और बफर जोन के लिए एक सर्वेक्षण चल रहा है।”

डेटा जुटाने में लगे हैं अधिकारी

उन्होंने कहा कि हम प्रभावित परिवारों की संख्या का विवरण एकत्र कर रहे हैं जिसमें कितने आवासीय और वाणिज्यिक हैं। इसके अलावा हम परिवारों के कब्जे का भी डेटा एकत्र कर रहे हैं। इसके आधार पर, उन्हें कहां स्थानांतरित करना है, इस पर निर्णय लिया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें:  छात्र को सस्पेंड करने के मामले ने तूल पकड़ा

तोड़े जाएंगे क्षतिग्रस्त इमारतें

उन्होंने कहा कि जिन इमारतों को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है, उन्हें तोड़ा जाएगा। क्षतिग्रस्त इमारतों को एनआईएम और पीडब्ल्यूडी की निगरानी में तोड़ा जाएगा। प्रशासन इसकी तैयारी कर रहा है।

चमोली जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के अनुसार, डूबते शहर जोशीमठ में अब तक 603 इमारतों में दरारें आ गई हैं, जिसके कारण अधिकारियों को जोशीमठ भूस्खलन-धंसाव क्षेत्र घोषित करना पड़ा। जोशीमठ और आस-पास के क्षेत्रों में निर्माण गतिविधियों पर पहले ही प्रतिबंध लगा दिया गया है और प्रभावित परिवारों को अस्थायी राहत केंद्रों में ले जाया जा रहा है।

 



Source link

जोशीमठ को 3 जोन में बांटा गया, ज्यादा क्षतिग्रस्त इमारतों को तोड़ा जाएगा
जोशीमठ को 3 जोन में बांटा गया, ज्यादा क्षतिग्रस्त इमारतों को तोड़ा जाएगा