देश के दूसरे सबसे बड़े मेलें में अब तक 39 लाख ने लगाई डुबकी, जाने…


Ganga Sagar से अमर देव पासवान की रिपोर्ट:  मकर संक्रांति (Makar Sakranti) का त्योहार आज पुरे देश में काफी धूम-धाम से मनाया जा रहा हैं। श्रद्धालु देश के विभिन्न गंगा घाटों पर पवित्र स्नान कर रहे हैं। ऐसे में अगर हम देश के तमाम तीर्थ स्थलों में से एक पश्चिम बंगाल मे स्थित गंगासागर (Ganga Sagar) तीर्थ स्थान की बात करें, तो यह स्थान देश के तमाम तीर्थ स्थानों में से सबसे अनोखा तीर्थ स्थान है।

शायद इसी लिये तो कहा जाता है सब तीर्थ बार -बार गंगासागर एक बार। यूँ कहें तो इस तीर्थ स्थान मे स्नान करने से श्रद्धांलुओं को मोक्ष की प्राप्ति तो होती ही हैं। साथ में 10 अश्वमेघ यज्ञ और एक हजार गाय दान करने के समान फल प्राप्त होता है।

इसे भी पढ़ें:  Budget 2023 Live Updates: संसद में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का अभिभाषण, बोलीं- हमें राष्ट्र निर्माण करना है

31 लाख लोग लगा चुके डुबकी

हर वर्ष गंगासागर के इस पवित्र स्थान पर देश के कोने -कोने से श्रद्धालु पवित्र स्नान करने के लिये लाखों की संख्या मे पहुँचते हैं। इस वर्ष गंगासागर तट पर पवित्र स्नान करने के लिये श्रद्धांलुओं की रिकॉर्ड भीड़ पहुंची। पाँच जनवरी से शुक्रवार शाम तक गंगासागर में करीब 31 लाख श्रद्धालु आस्था की डुबकी लगा चुके थे। वहीं शनिवार दोपहर तीन बजे तक यह संख्या बढ़कर 39 लाख हो गई। साथ ही शनिवार 6 बजकर 50 मिनट पर गंगासागर तट पर शाही स्नान का दौर शुरू हो गया। जो रविवार शाम 6 बजकर 53 मिनट तक चलेगा।

रिकॉर्ड संख्या में लोग करेंगे शाही स्नान

वहीं गंगा सागर मेले मे उपस्थित बिजली मंत्री अरूप विश्वास ने मेले से जुड़ी तमाम जानकारियां देते हुए कहा की रविवार शाम 6.53 बजे तक लोग शाही स्नान करेंगे। इस वर्ष रिकॉर्ड संख्या में लोग गंगासागर पहुंचेंगे। बताया जाता है कि दो नंबर रोड स्थित समुद्र तट की स्थिति खराब हो गयी है। यहां दलदली मिट्टी भर गयी है, तीर्थयात्रियों के लिए यहां पथ तैयार किया गया है। लाइटिंग व शौचालय की भी व्यवस्था की गयी है। श्री विश्वास ने कहा कि सागर तट तक नहीं पहुंच पाने वाले श्रद्धालुओं के लिए ई-पूजा व ई-दर्शन की व्यवस्था की गयी है।

इसे भी पढ़ें:  वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आज पेश करेंगी बजट

राष्ट्रीय मेला घोषित करें केन्द्र

बिजली मंत्री अरूप विश्वास ने बताया कि इस बार मेले के लिए करीब 150 करोड़ रुपये का बजट निर्धारित किया गया है। 17 जनवरी तक मेला चलेगा ऐसे में तुरंत केंद्र सरकार गंगासागर को राष्ट्रीय मेला घोषित करें। सागर मेला में आए बीमार पड़े 48 लोगों को गंगासागर के विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया गया हैं। जबकि इलाज के लिए 12 अन्य लोगों को कोलकाता के विभिन्न अस्पतालाें में भर्ती कराया गया हैं। वहीं हार्ट अटैक के कारण अब तक तीन तीर्थयात्रियों की मौत हुई हैं। गंगासगर मेले के लिए कुल 700 स्वास्थ्य कर्मी ड्यूटी पर हैं।

इसे भी पढ़ें:  आसाराम को उम्रकैद की सजा, सूरत की महिला से किया था दुष्कर्म

37 लोग हुए गिरफ्तार

इसके अलावा सागर मेले में अब तक 52 तीर्थयात्री अपने परिवार से बिछड़ गये थे, जिला प्रशासन व एनजीओ की मदद से सभी बिछडे़ हुए तीर्थयात्रियों को पुनः अपने परिवार से मिलवा दिया हैं। यह जानकारी बजरंग परिषद के पदाधिकारी ने दी हैं। अब तक लगभग 650 से अधिक बिछडे़ लोगों को उनके परिजनों से मिलाया गया है। वहीं, विभिन्न आपराधिक मामलों के लिए अब तक 37 लोगों को गिरफ्तार किया गया हैं।



Source link

देश के दूसरे सबसे बड़े मेलें में अब तक 39 लाख ने लगाई डुबकी, जाने...
देश के दूसरे सबसे बड़े मेलें में अब तक 39 लाख ने लगाई डुबकी, जाने...