अदानी के प्रदेश में चल रहे तीन कोल्ड स्टोर्स की बागवानों ने की घेराबंदी, सरकार और अदानी ने खिलाफ की नारेबाजी

अदानी के प्रदेश में चल रहे तीन कोल्ड स्टोर्स की बागवानों ने की घेराबंदी, सरकार और अदानी ने खिलाफ की नारेबाजी

शिमला|
हिमाचल के बागवानों ने वीरवार को अदानी के प्रदेश में चल रहे तीन कोल्ड स्टोर्स की घेराबंदी की। ठियोग के सैंज, रोहड़ू के मेंहदली और रामपुर के बिथल में बने कोल्ड स्टोर के बाहर बागवानों ने सरकार और अदानी ने खिलाफ नारेबाजी की। इस दौरान सैंज में बागवानों की पुलिस के साथ हल्की झड़प भी हुई। प्रदर्शन के दौरान तीनों कोल्ड स्टोर पर पुलिस का कड़ा पहरा रहा। बागवानों के प्रदर्शन में महिलाएं भी बड़ी संख्या में मौजूद रही।

मंच ने आरोप लगाया कि अदाणी सीए स्टोर पर बागवानों के साथ लूट हो रही है। सरकार का निजी कंपनियों पर कोई भी नियंत्रण नहीं है। मंच ने चेतावनी दी कि अगर उनकी मांगों को पूरा नहीं किया तो आंदोलन उग्र किया जाएगा। उन्होंने मांग उठाई कि अदाणी पिछले साल खोले गए अधिकतम दाम में 30 प्रतिशत की वृद्धि कर सेब खरीदे। उन्होंने चेतावनी दी कि अगर मांगें पूरी नहीं की गई तो आंदोलन उग्र किया जाएगा

इसे भी पढ़ें:  नाबालिग से दुष्कर्म के दोषी को 10 साल का कठोर कारावास

वहीँ संयुक्त किसान मंच के संयोजक हरीश चौहान, सह संयोजक संजय चौहान ने बताया कि अदाणी की ओर से इस वर्ष पिछले साल के मुकाबले कम दाम पर सेब खरीदे जा रहे हैं। अदानी की ओर से जब भी दाम खोले जाते हैं तब मंडियों में सेब के दाम में गिरावट आ जाती है। उन्होंने कहा कि सेब के दाम तय करने के लिए सरकार ने कमेटी तो गठित की है लेकिन कमेटी की बैठक से पहले ही कंपनियों ने अपने दाम तय कर दिए हैं। सेब बेचने के लिए बागवानों को तीन दिन तक इंतजार करना पड़ रहा है। बागवानों का सेब उनके सामने तोला नहीं जा रहा है। शोघी बैरियर पर बागवानों से प्रति पेटी तीन रुपये मार्केट फीस के नाम अवैध वसूली हो रही है। लेकिन जब अदाणी सीए स्टोर से सेब मार्केट में जाना शुरू होता है तो सरकार यह वसूली बंद कर देती है।

इसे भी पढ़ें:  शिमला में मर्डर के आरोपी अंडर ट्रायल कैदी ने IGMC में तोड़ा दम
अदानी के प्रदेश में चल रहे तीन कोल्ड स्टोर्स की बागवानों ने की घेराबंदी, सरकार और अदानी ने खिलाफ की नारेबाजी
अदानी के प्रदेश में चल रहे तीन कोल्ड स्टोर्स की बागवानों ने की घेराबंदी, सरकार और अदानी ने खिलाफ की नारेबाजी