शिमला नागरिक सभा ने HRTC टेम्पो ट्रेवलर व टैक्सियों में किराए बढ़ोतरी का किया विरोध

शिमला नागरिक सभा ने HRTC टेम्पो ट्रेवलर व टैक्सियों में किराए बढ़ोतरी का किया विरोध

शिमला|
शिमला नागरिक सभा की टूटू इकाई ने एचआरटीसी टेम्पो ट्रेवलर व टैक्सियों के किराए में की गयी भारी बढ़ोतरी का कड़ा विरोध किया है। नागरिक सभा ने इस किराया वृद्धि को जनता की जेबों पर डाका डालने वाला कदम करार दिया है। नागरिक सभा ने इसके खिलाफ एचआरटीसी प्रबंधन को चेताया है कि अगर तुरन्त किराया कटौती न हुई तो जोरदार आंदोलन होगा।

नागरिक सभा सह संयोजक विजेंद्र मेहरा,टूटू इकाई अध्यक्ष राहुल चौहान व सचिव हेमराज चौधरी ने एचआरटीसी प्रबंधन पर लूट व तानाशाही का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा है कि पूरे शिमला शहर में एचआरटीसी टेम्पो ट्रेवलर व टैक्सियों के किराए में भारी वृद्धि कर दी गयी है। यह किराया वृद्धि 60 प्रतिशत से भी ज़्यादा है। विजयनगर व शिवनगर में इस सेवा का किराया भी 30 से बढ़ाकर 50 कर दिया गया है तथा टूटू से 40 रुपये किराया वसूला जा रहा है जोकि किसी भी रूप में मान्य नहीं है।

इसे भी पढ़ें:  शिमला में मर्डर के आरोपी अंडर ट्रायल कैदी ने IGMC में तोड़ा दम

इसी तरह शिमला शहर के अलग – अलग क्षेत्रों में इस सेवा में भारी किराया वृद्धि की गई है जिसमें सीटीओ से अनाडेल का किराया बढ़ाकर 40 रुपये करना भी शामिल है। इस किराया वृद्धि से जहां एक ओर यात्रियों पर भारी आर्थिक बोझ पड़ेगा वहीं दूसरी ओर किराया वृद्धि से इस सेवा का संचालन बुरी तरह प्रभावित होगा क्योंकि भारी किराया वृद्धि से आम जनता इन टेम्पो ट्रेवलर व टैक्सियों में सवारी नहीं करेगी। कम सवारियों के कारण अंततः यह सरकारी सेवा बन्द करनी पड़ेगी जिस से बुजुर्गों,महिलाओं व बच्चों सहित आम जनता को भारी नुकसान होगा।

इस तरह इस सेवा के एक बार फिर निजी क्षेत्र में जाने का दरवाजा खुला जाएगा व जनता का आर्थिक शोषण और तेज हो जाएगा। उन्होंने कहा है कि पिछले वर्ष की तुलना में पेट्रोल डीजल की कीमतें कम हुई हैं तो फिर किस तर्क पर यह किराया वृद्धि की गई है। उन्होंने कहा कि यह सेवा एचआरटीसी को मुनाफा दे रही है तो फिर इस भारी किराया वृद्धि के पीछे क्या तर्क है। कहीं यह एचआरटीसी सेवा को जान बूझकर फ्लॉप करने की सुनियोजित साज़िश तो नहीं है।

इसे भी पढ़ें:  नाबालिग से दुष्कर्म के दोषी को 10 साल का कठोर कारावास

हाल फिलहाल के वर्षों में देश के किसी भी राज्य के अंदर सरकारी परिवहन सेवाओं के किराए में इतनी भारी वृद्धि नहीं की गयी है। इस सेवा का ज़ायज़ किराया होने पर लोग सीटिंग कैपेसिटी से भी डबल संख्या में टेम्पो ट्रेवलर में सफर करते हैं। किराए में 60 प्रतिशत से ज़्यादा वृद्धि होने पर सवारियों की संख्या गिरना तय है क्योंकि शिमला शहर की कामकाजी जनता के पास इतने आर्थिक साधन नहीं हैं। इसलिए एचआरटीसी प्रबंधन को यह किराया वृद्धि तुरन्त वापिस लेनी चाहिए अन्यथा शिमला नागरिक सभा जनता को लामबंद करके सड़कों पर उतरेगी व जोरदार आंदोलन करेगी।

इसे भी पढ़ें:  नाबालिग से दुष्कर्म के दोषी को 10 साल का कठोर कारावास
शिमला नागरिक सभा ने HRTC टेम्पो ट्रेवलर व टैक्सियों में किराए बढ़ोतरी का किया विरोध
शिमला नागरिक सभा ने HRTC टेम्पो ट्रेवलर व टैक्सियों में किराए बढ़ोतरी का किया विरोध