ईमान बेचकर कुर्सी हथियाने वालों से ईमानदारी और विकास की उम्मीद बेनामी

ईमान बेचकर कुर्सी हथियाने वालों से ईमानदारी और विकास की उम्मीद बेनामी

बद्दी|
कुर्सी हथियाने के लिए किसी भी हद तक जाना भाजपा की फितरत है और पूरा देश जानता है कि भाजपा खरीद फरोख्त से सत्ता हथियाने में माहिर है। नप में कुर्सी के लिए जिस तरह से सत्ता और अफसरशाही का दुरूपयोग किया गया उससे बद्दी की जनता भली भांति परिचित है। ईमान और जमीर बेचकर कुर्सी हथियाने वालों से ईमानदारी और विकास की उम्मीद करना बेनामी है।

ईमान बेचकर कुर्सी हथियाने वालों से ईमानदारी और विकास की उम्मीद बेनामी

यह बात बद्दी में आयोजित पत्रकारवार्ता के दौरान कांग्रेसी पार्षदों ने कही। पार्षद सुरजीत चौधरी व तरसेम चौधरी ने कहा कि नगर परिषद बद्दी में कांग्रेस ने भ्रष्टाचार और तानाशाही के खिलाफ लड़ाई लड़ी और कांग्रेस अपनी इस लड़ाई में कामयाब रही। जिसके चलते सबसे नालायक और कठपुतली बनी अध्यक्षा को पद से इस्तीफा देना पड़ा। वहीं नगर परिषद बद्दी की जनता को भ्रष्टाचार और तथाकथित पति चेयरमैन की मनमानी से छुटकारा मिला।

ईमान बेचकर कुर्सी हथियाने वालों से ईमानदारी और विकास की उम्मीद बेनामी

सुरजीत चौधरी व तरसेम चौधरी ने कहा कि नगर परिषद के इस पूरे घटनाक्रम में सरकार ने सत्ता और अफसरों ने पद का दुरूपयोग किया जो जनता से छिपा नहीं है। वहीं डीसी सोलन ने भी इस पूरे मामले में भाजपा का एजेंट बनकर काम किया और पद की गरिमा धूमिल की। तीन महीने तक इस मामले को लटकाकर डीसी सोलन ने जनता के हितों से खिलवाड़ किया।

ईमान बेचकर कुर्सी हथियाने वालों से ईमानदारी और विकास की उम्मीद बेनामी

सुरजीत चौधरी ने कहा कि जब एक पार्षद को डरा धमकाकर भाजपा द्वारा ले जाया गया और समर्थन मिलने के बाद 5.13 मिन्ट पर इस्तीफा दिया जाता है। डीसी सोलन द्वारा ऑफ टाईम में सरकारी समय खत्म होने के बाद भी 15 मिन्ट के अंदर इस्तीफा मंजूर कर लिया जाता है। इस्तीफा देने के बाद उसी दिन रात को डीसी सोलन द्वारा 9 बजे नगर परिषद बद्दी का चुनाव करवाने के लिए नोटिफिकेशन जारी कर दी जाती है। लेकिन कांग्रेस के अविश्वास प्रस्ताव को 3 महीने लटकाकर जहां जनता को परेशान किया गया और विकास कार्य भी ठप्प रहे।

इसे भी पढ़ें:  सोलन: बच्चे से दुष्कर्म के दोषी व्यक्ति को अदालत ने सुनाया 24 वर्ष का कारावास

तहबाजारी टैंडर में भी भाजपा ने किया घोटाला
पार्षद तरसेम चौधरी ने बताया कि जिस समय लोग कोरोना जैसी महामारी से जान बचाने के लिए जूझ रहे थे तो उस समय भी भाजपा ने टैंकर घोटाला किया जिसके खिलाफ मैंने आवाज उठाई। तरसेम चौधरी ने कहा नप बद्दी की अध्यक्षा प्रदेश की सबसे निक्कमी और भ्रष्टाचारी चेयरमैन साबित हुई जिसके कार्यकाल में जमकर जनता के पैसे को लूटा गया। तरसेम चौधरी ने कहा कि नगर परिषद बद्दी में तहबाजारी का टैंडर 31 मार्च को खत्म हो गया था। जिसके बाद नगर परिषद ने कोरोना काल में हुए घाटे की दुहाई देकर 38 दिन की एक्सटेंशन ली जिसे सरकार ने अनुमति दे दी। अब यह टैंडर 8 मई को खत्म हो गया, लेकिन बावजूद इसके अब भी तहबाजारी की पर्चियां मनमानी से काटी जा रही हैं। 8 मई से अब तक की काटी हुई पर्चियों का रिकार्ड उपलब्ध है।

इसे भी पढ़ें:  धर्मपुर के शागुली में 14-15 मई को आयोजित की जा रही कबड्डी प्रतियोगिता

तहबाजारी का यह टैंडर मान सिंह मैहता, पति पार्षद सोनी व पति पार्षद संजीव ठाकुर ने ले रखा है। इस घोटाले से जहां सरकार को राजस्व का चूना लगा रहा है वहीं इसमें विधायक और पार्षद संलिप्त हैं। कांग्रेस ने इस तहबाजारी घोटाले की शिकायत विजिलेंस को करके जांच की भी मांग की है। सुरजीत चौधरी और तरसेम चौधरी ने कहा कि भाजपा जब से नप में काबिज हुई है बद्दी नगर परिषद की बजाए नर्क परिषद बन गई है। पिछले 1 साल से काम रूके हैं और जनता के पैसे को दोनों हाथों से लूट जा रहा है।

पार्षदों ने कहा कि नप में कांग्रेस अपनी भ्रष्टाचार की इस लड़ाई को जारी रखेगी। इस मौके पर पूर्व विधायक राम कुमार चौधरी, ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष कुलतार मेहता, पार्षद सुरजीत चौधरी के साथ तरसेम चौधरी, पार्षद मोहन सिंह, पार्षद अजमेर कौर, बीबीएन इंटक अध्यक्ष संजीव संजू, संजीव कौशल, कुलवंत चौधरी, बिंदर चौधरी, दारा चौधरी, तलविन्दर सैनी, राज किशन, सुखराम, उपप्रधान श्याम लाल, अमित केशव, सुखदेव, राज किशन, सुखविंदर, हरि सिंह, सतपाल, राजिंदर सिंह व अन्य कांग्रेस कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

इसे भी पढ़ें:  पुष्प मण्डी परवाणू में 15 मई से शुरू होगा व्यापार

भ्रष्टाचारी को 366वें दिन उतार दिया कुर्सी से
पूर्व विधायक राम कुमार चौधरी ने कहा कि भाजपा ने 5 साल के लिए नप अध्यक्ष बनाया था। लेकिन विकास कार्य ठप्प होने और नप में खुलेआम भ्रष्टाचार के चलते कांग्रेस व भाजपा के पार्षदों ने मुहिम चलाकर भाजपा की अध्यक्षा को कुर्सी से हटा दिया। राम कुमार चौधरी ने कहा जब गुरमेल चौधरी कांग्रेस छोडक़र भाजपा में गया था तो मैंने कहा था कि तुम्हें 366वें दिन तुम्हें कुर्सी छोडऩी पड़ेगी। 1 साल पूरा होते ही अध्यक्षा के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव दाखिल हुआ।

कांग्रेस ने भ्रष्टाचारी को हटाने के लिए न्यायालय और सरकार के खिलाफ लड़ाई लड़ी। इस लड़ाई में खुद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का हस्तक्षेप था और एक भ्रष्टाचारी को बचाने के लिए 3 महीने तक सत्ता और प्रशासन का दुरूपयोग किया गया लेकिन जीत फिर भी कांग्रेस की हुई। चौधरी ने कहा कि जस्सी हमारा है और हमारा ही रहेगा। नप बद्दी में विकास के लिए कांग्रेसी पार्षद पूरा सहयोग करेंगे ताकि 1 साल से अपने कामों और ठप्प पड़े विकास कार्यों से परेशान जनता को राहत मिल सके। कांग्रेस किसी भी कीमत पर नप बद्दी में भ्रष्टाचार को सहन नहीं करेगी।

ईमान बेचकर कुर्सी हथियाने वालों से ईमानदारी और विकास की उम्मीद बेनामी

ईमान बेचकर कुर्सी हथियाने वालों से ईमानदारी और विकास की उम्मीद बेनामीईमान बेचकर कुर्सी हथियाने वालों से ईमानदारी और विकास की उम्मीद बेनामीईमान बेचकर कुर्सी हथियाने वालों से ईमानदारी और विकास की उम्मीद बेनामीईमान बेचकर कुर्सी हथियाने वालों से ईमानदारी और विकास की उम्मीद बेनामीईमान बेचकर कुर्सी हथियाने वालों से ईमानदारी और विकास की उम्मीद बेनामीईमान बेचकर कुर्सी हथियाने वालों से ईमानदारी और विकास की उम्मीद बेनामी
ईमान बेचकर कुर्सी हथियाने वालों से ईमानदारी और विकास की उम्मीद बेनामी