कसौली विधायक विनोद सुल्तानपुरी ने सड़क सुविधा से वंचित ओड़ा गाँव में प्रशासन के अधिकारियों को पैदल पहुँचाया

कसौली विधायक विनोद सुल्तानपुरी ने सड़क सुविधा से वंचित ओड़ा गाँव में प्रशासन के अधिकारियों को पैदल पहुँचाया

कसौली|
कसौली विधानसभा के अंतर्गत आती ग्राम पंचायत नाहरी के ओड़ा गाँव के ग्रामीणों की लम्बे से समय से चली आ रही सड़क की मांग को पूरा करने के लिए नव निर्वाचित विधायक विनोद सुल्तान्पुरी अभी से जुट गए हैं| बता दें कि लम्बे समय से ओड़ा गाँव के ग्रामीणों की समस्याओं को ध्यान में रखते हुए, आज मंगलवार को कसौली के विधायक विनोद सुल्तान्पुरी प्रशासन के अधिकारियों को पैदल चला कर ओड़ा गाँव पहुंचाया।

उन्होंने अधिकारियों को जमीनी स्तर पर हकीकत दिखाते हुए, बताया कि आजादी के बाद से यहाँ के ग्रामीण किस तरह की समस्याओं से जूझ रहे हैं। ओड़ा गाँव के लोगों के लिए यह यह पहला मौका था जब एसडीएम कसौली, तहसीदार कसौली, वन विभाग, लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों सहित अन्य अधिकारी और कर्मचारी भी वहां मौजूद रहे। इस दौरान उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि जल्द से जल्द ओड़ा गाँव के लिए सड़क निर्माण कार्य शुरू हो और इस सड़क को गुनाई-गढ़खल से जोड़ने के लिए योजना विस्तार के लिए भी प्रस्तावित हों। उन्होंने कहा कि ओड़ा गाँव को सड़क से जोड़ना उनकी प्राथमिकता है और जब तक गांब के लिए सड़क नहीं पहुँच जाती, तब तक प्रशासन के साथ गाँव में ही बैठकें होती रहेगी।

इसे भी पढ़ें:  डाक विभाग के बचत योजनाओं की ब्याज दरों में बढ़ौतरी

इससे पहले ओड़ा पहुँचने पर ग्रामीणों ने नव निर्वाचित विधायक और प्रशासन के अधिकारीयों का फुल मालाओं के साथ स्वागत किया। इस दौरान नव निर्वाचित विधायक विनोद सुल्तान्पुरी ने चुनाव में जीत दिलाने पर लोगों का आभार भी व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि ग्रामीणों की सड़क से जुडी समस्या को हल करना उनका सबसे पहला मुद्दा है, जिसे वह हर हालत में जल्द से जल्द पूरा करेंगे।

उल्लेखनीय है कि वैसे तो पर्यटन नगरी कसौली विश्व मानचित्र पर चमक रही है, लेकिन आजादी के 75 वर्ष पुरे होने के बाद भी कसौली की गोद में बसा यह गाँव आज भी सड़क सुविधा से वंचित है। ग्रामीणों को कसौली, गुनाई या जंगेशु में मुख्य सड़क तक पहुँचने के लिए कई किलोमीटर पैदल चलना पड़ता है। यदि कोई बीमार भी हो जाता है तो उसे कंधे पर उठाकर सडक तक पहुँचाना पड़ता है। गाँव के किसानों को सब्जियां और मुलभुत चीजें पीठ पर उठा कर या तो सड़क तक या सडक से गाँव तक पहुंचानी पड़ती है। सही मायने में देखा जाए तो ऐसी स्थिति में जीवन जीना पूरी तरह संघर्षपूर्ण है। स्थानीय ग्रामीणों ने बताया कि पूर्व विधायक और मत्री ने पिछले 15 वर्षों से उन्हें केवल आश्वाशन ही दिए। लेकिन आज नव निर्वाचित विधायक और प्रशासन के अधिकारियों के वहां पहुँचने से उन्हें उम्मीद जगी है कि जल्द ही सडक सुविधा उन्हें नसीब होगी।

इसे भी पढ़ें:  परवाणू-शिमला नेशनल हाईवे पर आये दिन बढ़ रही प्रवासियों के अवैध खोखों व रेहड़ी फड़ी की संख्या, प्रशासन ने साधी चुप्पी
कसौली विधायक विनोद सुल्तानपुरी ने सड़क सुविधा से वंचित ओड़ा गाँव में प्रशासन के अधिकारियों को पैदल पहुँचाया
कसौली विधायक विनोद सुल्तानपुरी ने सड़क सुविधा से वंचित ओड़ा गाँव में प्रशासन के अधिकारियों को पैदल पहुँचाया