परवाणू : जनमंच में कुछ समस्याओं पर भिड़े दो गुट – पुलिस ने सम्भाला स्थिति को

परवाणू में हुआ जनमंच का आयोजन – प्रदेश स्वास्थ्य मन्त्री ने सुनी जन समस्याएं

स्वास्थ्य मन्त्री ने समस्याओं क़े निवारण हेतू सम्बन्धित अधिकारियो को दिए जल्द समस्या सुलझाने के कड़े निर्देश

अमित ठाकुर | परवाणू
हिमाचल प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी योजना जनमंच का कोरोना वायरस के साये में एक बार फिर से आगाज किया गया है।
जिला सोलन की परवाणू उपतहसील में सेक्टर पाँँच स्थिति दशहरा मेदान पर जनमंच का आयोजन हुआ। हिमाचल प्रदेश के स्वास्थ्य एवं जन कल्याण व आयुर्वेद मन्त्री डा राजीव सहजल ने जनमंच की अध्यक्षता की । जनमंच में धर्मपुर उपमंडल की लगभग आठ पंचायतों की जनसमस्याएं सुनी गईं। जिसमें लोगों की कुल 41 शिकायतें दर्ज की गईं, जिनमें कुछ समस्याओं का मौके पर निपटारा किया गया। जो समस्या शेष बची उन्हें अधिकारियों को जल्द निपटाने के कड़े निर्देश दिए गए।
स्वास्थ्य मन्त्री डा सहजल ने जनमंच द्वारा कोविड-19 से बचाव को लेकर सभी नियमों का पालन करने व अपना वैक्सीनेशन डोस लेनें की भी अपील की गई और बताया की आने वाले दो महीनों में फ़िर एक बार हिमाचल वैक्सीनेशन की दूसरी डोस लगवाने वाला पहला राज्य बन जाएगा । वहीं जनमंच के शुरू होने पर स्थानीय लोगों व अन्य पंचायतों से आये हुऐ लोगों में भी खासा उत्साह देखने को मिला। स्थानीय लोगों की मानें तो सरकार के इस कार्यक्रम से लोगों को अपनी समस्याओं को एक ही छत के नीचे उठाने का मौका मिला जिस से उसका मौक़े पर ही समाधान भी होता रहा ।
वैसे जनमंच पर सभी समस्याएं शाँति पूर्वक सुनी गई और उनका मौके पर निपटारा भी किया गया, परंतु दो समस्याओं को लेकर थोड़ा गर्मा गर्मी का माहौल देखने को मिला यह समस्या टकसाल कालोनी में पानी और रोड़ को लेकर रही जहां दो गुटों में पानी को लेकर आपस में बाद विवाद देखने को मिला आननफानन में पुलिस ने स्थिति को सम्भाला जिस से दोनों पक्ष शाँत हुऐ | समस्या टकसाल गाव को पानी नां मिल पाने को लेकर थी, पूर्व में बी डी सी सदस्य रहे हेमँत शर्मा द्वारा इस समस्या को उजागर किया गया और कहा पहले टकसाल को पानी अम्बोट में प्राकृतिक जल स्त्रौत से आसानी से मिल जाता था और हर रोज़ पानी आता था परंतु कुछ स्थानीय लोगो द्वारा यह पानी रोक लिया गया व टकसाल में पानी की समस्या बहुत अधिक बढ़ गई 15 दिन या महीने में केवल एक बार पानी आने लगा जिस कारण टकसाल निवासी पानी की बूंद को तरसने लगे व पंचायत द्वारा हिमुडा से पानी लेकर कुछ समय तक समस्या का समाधान किया गया जिसमें लगभग सात लाख तक का खर्चा हुआ | हेमँत शर्मा ने कहा जब पानी निःशुल्क प्राकृतिक स्त्रौत से मिल रहा था तो हिमुडा से पानी लेने की क्या आवश्यकता थी | इसी बीच जिन लोगो ने प्राकृतिक स्त्रौत से निकलने वाले पानी को रोका था वह मंच पर आकर हंगामा करने लगे व उन्होनें साफ़ तौर पर पानी देनें से इंकार कर दिया | हेमँत शर्मा यही नही रुके उन्होनें कहा प्राकृतिक जल पर पर केवल जनता का हक़ होता है | जिन लोगो द्वारा यह पानी रोका गया है वह इस पानी को मोटा मुनाफ़ा कमाकर बेच रहे है और यह उनका व्यवसाय बन चुका है जिसका खामियाजा टकसाल की जनता को भुगतना पड़ रहा है |
एक और ऐसे ही प्रशन पर जो की टकसाल कालोनी क़े लिए रोड़ को लेकर था उस पर भी थोड़ा बाद विवाद हुआ, सी टी यू क़े अध्यक्ष ओमदत शर्मा व टकसाल निवासी अमित ठाकुर द्वारा टकसाल को रोड़ नां होनें का मुद्दा उठाया गया जिस में ओमदत शर्मा ने कहा की हिमाचल के प्रवेश द्वार की पहली पंचायत टकसाल कालोनी क़े निवासी आज भी मूलभूत सुविधाओं से वंचित है, आज बड़े शर्मा की बात है की आज़ादी के 75 वर्ष बाद भी टकसाल कालोनी क़े निवासी रोड़ को तरस रहे है | अमित ठाकुर ने कहा की आज टकसाल कालोनी में यदि कोइ अत्याधिक बीमार होता है या फ़िर गर्ववती महिला को अस्प्ताल ले जाना हो तो कंधे पर बैठाकर, चार्पाई पर लेटाकर या कुर्सी पर बैठाकर व चारो और से पकड़ने क़े लिये व्यक्तियों को लगना पड़ता है तब जा कर मरीज को स्वास्थ्य केँद्र पहुचाया जाता है और यह सब सिर्फ एक रोड़ के नां होने क़े कारण होता है, यूँ कहें की टकसाल कालोनी निवासी सौ वर्ष पूर्व का जिवन यापन करने पर मजबूर है | आईशर से टकसाल कालोनी को आते समय सारे रास्ते में लोगों द्वारा अवैध क़ब्जा किया गया है गंदी नालियों का पानी इस रास्ते पर बहता रहता है, जो रोड़ 12 से 18 फुट क़े लगभग थी वह आज एक स्थान पर मात्र एक या दो फुट रह गई है और प्रशाशन भी गहरी नींद में सोया हुआ है | स्वास्थ्य मन्त्री ने सम्बन्धित मौजूदा अधिकारियो को व एस डी एम संजीव धीमान को आदेश दिए की पंद्रह दिन में जितनां भी अवैध क़ब्जा हुआ है उसे तुरंत तोड़ दिया जाए और टकसाल कालोनी के लिए रोड़ की व्यवस्था की जाएं, व हर रोज़ इस समस्या लो लेकर मुझे क्या कार्य हो रहा है मुझे हर रोज़ अवगत करवाया जाए | जनमंच कार्यक्रम में स्वास्थ्य शिविर व ब्लड डोनेशन का केम्प भी लगाया गया था व प्रदेश के विभिन्न विभिन्न विभागों क़े स्टाल भी लगाए गए थे जिसका निरीक्षण स्वास्थ्य मन्त्री ने किया |
इस मौके पर प्रदेश क़े स्वास्थ्य मन्त्री डा राजीव सहजल, महिला आयोग की प्रदेश अध्यक्ष डा डेज़ी ठाकुर, पूर्व में नगर परिषद के उपाधयक्ष व वर्तमान में पार्षद रणजीत ठाकुर, जिला सोलन उपायूक्त कृतिका कुलहरी, कसौली एस डी एम संजीव धीमान, जिला सोलन व परवाणू से सभी विभागों क़े वरिष्ठ पदाधिकारी अन्य गणमान्य लोग व जिला सोलन के अधीन समस्त पंचायतों व नगर निगम क़े पदाधिकारी व जनता मौजुद रही !

इसे भी पढ़ें:  महिला कर्मचारियों की जान से खिलवाड़ कर रहा लोक निर्माण विभाग
परवाणू : जनमंच में कुछ समस्याओं पर भिड़े दो गुट - पुलिस ने सम्भाला स्थिति को
परवाणू : जनमंच में कुछ समस्याओं पर भिड़े दो गुट - पुलिस ने सम्भाला स्थिति को