परवाणू जनमंच में नही पहुंच पाई गरीबों की समस्याएं

अमित ठाकुर | परवाणू
परवाणू के जनमंच में जहाँ लोगों ने अपनी समस्याएं सरकार के समक्ष रखीं वहीँ कुछ लोग ऐसे भी थे जो अपनी बात कहने में असमर्थ थे व् उनकी बात सरकार तक पहुँचाने वाला भी कोई नहीं था ! परवाणू में लोगों के घरों में काम करने वाली एक महिला (गुड्डी) जो अपने नेत्रहीन पति व् अपने बच्चों की अकेली पालनहार है व् अनपढ़ होने के चलते वह अपने हक के लिए लड़ना तक नहीं जानती ! उस महिला ने वर्ष 2019 में मुख्यमंत्री के परवाणू दौरे पर एक समाज सेवी की मदद से मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से एक पत्र के माध्यम से अपने लिए गरीब आवास योजना के तहत आबंटित होने वाले मकानों में एक मकान की मांग की थी ! जिस पर केवल 45 दिनों के अंदर पीएमओ कार्यालय से उपायुक्त सोलन व् नगर परिषद परवाणू को इस सदर्भ में जल्द से जल्द निवारण कर सूचना भेजने के लिए निर्देश जारी किए !

इसे भी पढ़ें:  महिला कर्मचारियों की जान से खिलवाड़ कर रहा लोक निर्माण विभाग

बावजूद इसके इस परिवार की याचिका पर 2019 से अब तक कोई कार्यवाही नहीं की गयी है न ही उन्हें मकान मिला न उन्हें इस बात की जानकारी दी गयी है की उन्हें मकान दिया जायेगा या नहीं ! गुड्डी से बातचीत पर उन्होंने बताया की वह एक गरीब व् अनपढ़ महिला हैं जो की लोगो के घरों में काम कर अपने परिवार का पालन पोषण कर रही हैं ! गुड्डी ने कहा की वह कई बार नगर परिषद के चक्कर लगा चुकी है परन्तु उन्हें वहां से कोई संतोषजनक उत्तर नहीं मिलता ! इस सन्दर्भ में उन्होंने रविवार को हुए जनमंच में उपयुक्त कृतिका कुल्हरी से मदद की गुहार लगाई जिस पर उन्होंने उसे सोलन आकर मिलने के लिए कहा तथा जल्द उसकी याचिका की सुनवाई का आश्वासन दिया ! गुड्डी ने कहा की वह लोगों के घरों में सफाई का काम करती है जिस वजह से वह किसी भी काम के लिए समय नहीं निकाल पाती ! ऐसे में परवाणू के आलावा किसी अन्य कार्यालय में जाने व् अधिकारियों से मिलने के लिए उन्होंने असमर्थता व्यक्त की !
सरकार के आदेशों की होगी अनुपालना
इस सन्दर्भ में नगर परिषद द्वारा सरकार के निर्देशों की अनुपालना की जाएगी व् जल्द से जल्द इस मामले में उचित कार्यवाही कर समस्या का निदान किया जायेगा !
ललित कुमार कार्यकारी अधिकारी नगर परिषद परवाणू

इसे भी पढ़ें:  तेंदुए का क़हर - लड़की पर किया हमला पिता नें बचाई जान
परवाणू जनमंच में नही पहुंच पाई गरीबों की समस्याएं
परवाणू जनमंच में नही पहुंच पाई गरीबों की समस्याएं