परवाणू वासियों की सुरक्षा को लेकर गंभीर नहीं सरकारी प्रशासन व नगर परिषद

परवाणू वासियों की सुरक्षा को लेकर गंभीर नहीं सरकारी प्रशासन व नगर परिषद

अमित ठाकुर| परवाणू
बीते दिनों पहले एक सड़क दुर्घटना की जांच के दौरान परवाणू नगर का एक ऐसा गंभीर मुद्दा सामने निकल कर आया जिसने समस्त परवाणू वासियों की सुरक्षा को लेकर बड़े सवाल खड़े कर दिए| आपको बता दें कि यह मुद्दा है परवाणू शहर में सीसीटीवी कैमरों का ना होना|

परवाणू शहर में सीसीटीवी कैमरों का न होना यह दर्शाता है कि परवाणू प्रशासन एवं परवाणू नगर परिषद अपने परवाणू वासियों की सुरक्षा को लेकर कितने गंभीर है| परवाणू शहर एक औधोगिक नगर है जहां हिमाचल प्रदेश के कोने-कोने से एवं अन्य राज्यों से बहुत सारे लोग नौकरी करने के लिए आते हैं और यहा रहते हैं| लेकिन आज अफ़सोस की बात है की परवाणू सुरक्षा के लिहाज से बहुत पिछड़ गया है|

गौर हो कि किसी भी सामाजिक संगठन एवं परवाणू के सरकारी प्रशाशन नें यह कोशिश नहीं कि के परवाणू में कुछ जरूरी स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे लगाएं जाऐं जिस से की परवाणू की सुरक्षा को और मजबूत बनाया जा सके| परवाणू में कुछ जगह ऐसी है जहां सीसीटीवी कैमरों का होना अनिवार्य है, जैसे की कसौली चौक, परवाणू का मुख्य चौक एचआरटीसी पेट्रोल पंप के समीप, सेक्टर 6 का चौक एवं पियूरोलेटर चौक|

बता दें कि परवाणू में 31 मार्च के दिन रात साढ़े आठ बजे के क़रीब एक सड़क हादसा हुआ जिसमे एक गरीब व्यक्ति की जान चली गई| हादसे के दौरान वहां कोई मौजूद नहीं था ऐसे में घटना को अंजाम देने वाला गाड़ी चालक अभी तक फरार चल रहा है और पुलिस की पहुँच से दूर है अगर मौके पर सीसीटीवी कैमरा लगे होते तो उसे आसानी से पकड़ा जा सकता था|

बीते दिन सोलन जिला के पुलिस अधीक्षक ने भी उधमियों और प्रतिष्ठित व्यक्तियों से परवाणू में सीसीटीवी कैमरे लगवाने की अपील की थी| ऐसे में परवाणू प्रशाशन एवं परवाणू नगर निगम से परवाणू के लोगों की सुरक्षा को लेकर उचित कदम उठाने की जरुरत है| जिसके लिए जरूरी स्थानों में जल्द से जल्द अच्छी गुणवक्ता वाले सीसीटीवी कैमरे लगाएं जाऐं ताकि यदि भविष्य में कोई दुर्घटना होती है तो उसका सीसीटीवी कैमरों द्वारा शीघ्र पता लगाया जा सके एवं दोषियों के ख़िलाफ़ कड़ी-कड़ी कार्यवाही की जा सके एवं फ़िर किसी ग़रीब की जान ना जा सके|