प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पट्टटा महलोग में स्टाफ न होने से लोगों को परेशानी

प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पट्टटा महलोग में स्टाफ न होने से लोगों को परेशानी
प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पट्टटा महलोग में स्टाफ न होने से लोगों को परेशानी

जी.एल कश्यप|
प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पट्टा मेहलोग में स्टाफ की कमी के कारण यहां इलाज के लिए आने वाले लोगों को पर्याप्त स्वास्थ्य सम्बन्धी सुविधाएं नही मिल रही है । सरकार ने इसे पीएचसी का दर्जा तो प्रदान कर दिया लेकिन यहां जरूरी स्टाफ का अभाव है । लोग यहां इलाज के लिए आते है लेकिन जरूरी स्टाफ न होने की वजह से उन्हें मायूस लौटना पड़ रहा है । विशेषकर एक एमबीबीएस डॉक्टर व एक्सरे की सुविधा व लैब तकनीशियन की कमी लोगों को खल रही है ।

महलोग विकास मंच के प्रधान अनिल गुप्ता, उपाध्यक्ष खुर्मिन्दर सिसोदिया, महासचिव गिरधारीलाल कश्यप के इलावा समाज सेवी रामलाल ठाकुर प्रधान ममता गुप्ता,आशा कंवर व विमल किशोर ने बताया कि इस स्वास्थ्य केंद्र में बाडियाँ, भावगुड़ी,पट्टानाली,पट्टा मेहलोग, गोयला व दाड़वा पँचायत के हजारों लोग इलाज के लिए आते है लेकिन यहां पर तैनात स्टाफ हजारों की आबादी के लिए नाकाफी है । वहीं पिछले कई वर्षों से एक चिकित्सक,प्रयोगशाला तकनीशियन,मेल स्वास्थ्य कार्यकर्ता के पद रिक्त तथा एक्स – रे तकनीशियन का पद सृजित नहीं है । रोगियों को स्वास्थ्य सम्बंधित टेस्ट व अन्य रोगों की जांच करवाने के लिए सोलन,चंडीगढ़ ,कालका,नालागढ़ व अन्य निजी क्लीनिकों का रुख करना पड़ता है , जिससे उनका समय व पैसा दोनों की बर्बादी हो रही है ।

प्रयोगशाला तो है परंतु तकनीशियन न होने के कारण लोग अपने स्वास्थ्य सम्बंधित जांच के लिए दर दर भटकने को मजबूर है । चिकित्सालय में लाखों रुपए की मशीन व एक्सरे प्लांट धूल फांक रहे है। यहां पर एक आंखों का डॉक्टर व दो स्टाफ नर्स के पद सृजित किये जाने की अति आवश्यकता है। विभाग को बार बार अवगत करवाने के बावजूद भी यहां खाली पदों को नही भरा जा रहा है । नतीजन लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है । लोगों ने स्वास्थ्य मंन्त्री व क्षेत्र के विधायक परमजीत सिंह पम्मी से यहां खाली पदों को भरने की गुहार लगाई है।

इस सम्बंध में जब खण्ड स्वस्थ्यधिकारी चण्डी डॉ,उदय ठाकुर से बात की गई तो उन्होंने कहा कि खाली चल रहे पदों की सूचना विभाग के उच्च अधिकारियों के माध्यम से सरकार को समय समय पर दी जाती है व स्टाफ को नियुक्त करना यह सरकार पर निर्भर करता है ।