बरोटीवाला-शालाघाट NH निर्माण से केंद्र ने खींचे हाथ

national highwaqy
सांकेतिक तस्वीर

जी.एल.कश्यप|
केंद्रीय भूतल परिवहन एंव राजमार्ग मंत्रालय ने हिमाचल के सोलन जिला के लिए प्रस्तावित राष्ट्रीय उच्च मार्ग बरोटीवाला वाया-हरिपुर-पट्टा-कुठाड़-कुनिहार-अर्की -शालाघाट के निर्माण से हाथ पीछे खींच लिए है व वर्तमान में इसके एन.एच. बनने की संभावनाएं क्षीण होती जा रही है। यह राज्य उच्च मार्ग संख्या 9 एसऐकेबी (शालाघाट-अर्की-कुनिहार-बरोटीवाला) के नाम से जाना जाता है । विभाग की ओर से वर्ष 2018 में केंद्र को भेजे गए 69 प्रस्ताव में यह सड़क भी शामिल थी वहीं केंद्रीय भूतल परिवहन एंव राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने भी इस सड़क को एन.एच.(डबल लेन) में बदलने का आश्वासन दिया था ।

जानकारी के अनुसार सरकार की घोषणा के बाद विभाग ने अगले निर्माण सम्बन्धी कार्यों के लिए कन्सलटेंट भी नियुक्त कर दिए थे ,वहीं इस सड़क पर ट्रैफिक सेन्सस गुणवत्ता भी पर्याप्त पाई गई थी । विशेषज्ञों ने एक निर्धारित समय मे इस सड़क की अलाइनमेंट बनाकर अपनी रिपोर्ट भी प्रस्तुत कर दी थी । विशेषज्ञों के अनुसार 80 किलोमीटर लंबी इस सड़क पर एक बड़ा पुल,10 छोटे पुल व आवश्यकता पड़ने पर दो सुरंगे बनाया जाना प्रस्तावित था ।

इसकी सर्वे रिपोर्ट तैयार होने के बाद राष्ट्रीय राज मार्ग विभाग के बड़े अधिकारियों , प्रदेश लोक निर्माण विभाग ने क्षेत्र के लोगों के साथ बैठक कर इस सड़क को और अधिक बेहतर बनाने के लिए सुझाव मांगे थे ,वहीं लोगों को भी इसे एन,एच, का दर्जा मिलने की उम्मीद बांध गई थी । हालांकि विभाग ने लाखों रुपये इसके सर्वे व कंस्लटेंसी पर खर्च कर दिया है लेकिन केंद्रीय मंत्रालय ने जिस तरह से इसके निर्माण कार्य को लेकर ढील दी है उससे हर कोई असमंजस में है व इस सड़क पर संशय बरकरार है । वही विभागीय अधिकारी भी यह मान रहे है कि यह उनकी समझ से परे है व अंतिम निर्णय मंत्रालय पर निर्भर करता है।

महलोग विकास मंच के अध्यक्ष अनील गुप्ता व उपाध्यक्ष खुर्मिन्दर सिसोदिया ने बताया कि इस रोड के राष्ट्रीय उच्च मार्ग बनने से सीमावर्ती जिले किन्नौर के साथ लगते चीन बार्डर कौरिक तक आल वेदर रोड बन जाता क्योंकि बर्फबारी के दौरान शिमला जिला के नारकंडा में काफी दिनों तक सड़क बंद हो जाती है। शालाघट से वाया बसन्तपुर रामपुर आल वेदर रोड बन जाने से चंडीमंदिर व अम्बाला से बार्डर तक आर्मी व रशद पहुचानें के लिये वर्षभर आल वेदर सुविधा होगी। प्रदेश की भौगोलिक स्थिति व राष्ट्रीय महत्व के मद्देनजर इस सड़क को राष्ट्रीय उच्च मार्ग में परिवर्तित किया जाना समय की मांग है जिसे भारत सरकार को पूरा किया जाना चाहिए|

इस सम्बंध में लोक निर्माण विभाग एन,एच अधीक्षण अभियंता शिमला दीपक राज चौहान ने बताया कि जिला सोलन के साथ प्रदेश के कई अन्य एन.एच. स्वीकृति के लिए केंद्र सरकार के पास लंबित है। मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर लगातार इनकी पैरवी कर रहे है ।