मनरेगा कार्यो में लगाए फर्जी मस्टररोल, बातल पंचायत के पूर्व प्रधान पर धोखाधड़ी का मामला दर्ज

मामला दर्ज

प्रजासत्ता|
मनरेगा कार्यो में फर्जी मस्टररोल में गलत हाजिरी भरने को लेकर बातल पंचायत के पूर्व प्रधान पर धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया है| प्राप्त जानकारी मुताबिक थाना अर्की में मामला दर्ज हुआ है। खण्ड विकास अधिकारी कुनिहार की शिकायत पर पंचायत के पूर्व प्रधान पर धोखाधड़ी का मामला दर्ज करवाया गया है।

जानकारी के अनुसार बातल गांव के निवासी दिवाकर शर्मा ने पंचायत के पूर्व प्रधान रत्नलाल शर्मा पर मनरेगा कार्य में फर्जी मस्ट्रोल लगाने ले आरोप में भ्रष्टाचार रोधी ब्यूरो को शिकायत पत्र भेजा था । इसकी जांच ब्यूरो द्वारा करने के उपरांत मामला सतर्कता एवं उप निदेशक पंचायती राज विभाग को भेजा गया था। इसके बाद मामला उनके कार्यालय से उपायुक्त सोलन को जांच रिपोर्ट के साथ भेजा गया था ।

डीएसपी दाड़लाघाट प्रताप सिंह ने बताया कि खण्ड विकास अधिकारी द्वारा दी गई शिकायत पर मामला दर्ज कर आगामी कार्यवाही की जा रही है।

गौर हो कि शिमला जिले के तीन सौ पूर्व पंचायत प्रतिनिधि लाखों रुपयों के लेन-देन में फंस गए हैं। विभाग अब इनसे 1.09 करोड़ रुपयों की वसूली की तैयारी कर रहा है। जिले के 11 विकास खंडों के इन 300 पंचायत प्रतिनिधियों में पूर्व प्रधान, उपप्रधान और वार्ड पंच तक शामिल हैं। पंचायत चुनाव खत्म होने के बाद अब पंचायती राज विभाग ने कार्रवाई की प्रक्रिया तेज कर दी है। वर्ष 2010 की अधिसूचना के अनुसार 12.50 फीसदी की ब्याज दर से यह राशि वसूली जाएगी।