हिमाचल प्रदेश बेरोजगार प्रशिक्षित शारीरिक शिक्षक( PET) संघ सोलन इकाई ने किया भावी रणनीति पर मंथन

हिमाचल प्रदेश बेरोजगार प्रशिक्षित शारीरिक शिक्षक( PET) संघ सोलन इकाई ने किया भावी रणनीति पर मंथन

सोलन|
रविवार 7 नवंबर को कुनिहार में हिमाचल प्रदेश बेरोजगार प्रशिक्षित शारीरिक शिक्षक(PET) संघ सोलन इकाई की विशेष बैठक संघ की इकाई के प्रधान यतेंद्र पाल की अध्यक्षता में हुई| जिसमें सभी सदस्यों ने पीईटी के पदों के बारे में भावी रणनीति एवं माननीय उच्च न्यायालय चल रही इस भर्ती की रोक के बारे में तथा उससे बेरोजगार प्रशिक्षित शारीरिक शिक्षकों के भविष्य पर पढ़ने वाले दूरगामी प्रभाव पर विचार मंथन किया गया|

इस विशेष बैठक के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए संघ की इकाई के प्रधान यतेंद्र पाल ने बताया कि वर्तमान सरकार ने पीईटीके जो 870 पद भरने की कुछ महीने पहले अधिसूचना जारी की थी| संघ की इकाई सरकार के इस सकारात्मक कदम का पुरजोर स्वागत करता है परंतु उसके बाद बेरोजगार प्रशिक्षित नौजवान को जब कई वर्षों बाद रोजगार की आशा की किरण दिख रही थी तभी कुछ बेरोजगार युवा जिन्होंने एक वर्षीय सीपीएड कोर्स किया था ने इस विषय को लेकर के माननीय उच्च न्यायालय में इस भर्ती के विरुद्ध याचिका दायर की|माननीय उच्च न्यायालय ने आगामी सुनवाई तक इस भर्ती पर सरकार के इस कदम पर रोक लगा दी है|

इसे भी पढ़ें:  एनएच-5 पर कोटि के समीप सड़क हादसे में एक की मौत चार घायल

इस संदर्भ में संघ की इकाई सरकार से आग्रह करती है कि आगामी इस केस से संबंधित निर्धारित सुनवाई जो 11 नवंबर को माननीय उच्च न्यायालय ने रखी है, उसमें सरकार मजबूती के साथ अपना पक्ष रखें क्योंकि हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा नवीन संशोधित पीईटी भर्ती एवं पदोन्नति नियमों में सीपीएड कोर्स को जो कि एक वर्षीय होता था को पीईटी भर्ती में अयोग्य माना है lअतः सरकार नवीन संशोधित भर्ती एवं पदोन्नति नियम पीईटी को ध्यान में रखते हुए सरकार इस विषय मे माननीय उच्च न्यायालय को वास्तविक स्थिति से अवगत करा कर के इस विषय की गंभीरता को समझते हुए मजबूती के साथ अपना पक्ष माननीय न्यायालय के सामने रखें l जिससे इस केस की शीघ्र सुनवाई हो हो सके|

इसे भी पढ़ें:  सोलन में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर करेंगे राज्य स्तरीय पूर्ण राज्यत्व दिवस समारोह 2022 की अध्यक्षता

वैसे भी पीईटी एवं कला अध्यापकों पोस्टे कई वर्षों से नहीं निकली है| यदि कभी निकली भी तो नाममात्र की जिससे इन दोनों कैटेगरी के हजारों प्रशिक्षित युवा आज रोजगार की तलाश में दर- व दर भटक रहे हैं और उनका भविष्य अब अंधकार में लगने लगा है| जिससे उनमें सरकारों के प्रति आक्रोश एवं निराशा उत्पन्न हो रही है| आज सैकड़ों ऐसे भी बेरोजगार प्रशिक्षु है जो जिनकी निर्धारित आयु 45 वर्ष या इससे अधिक हो चुकी है| सैकड़ों ऐसे बेरोजगार युवा है जो निर्धारित सीधी भर्ती के लिए 45 वर्ष की आयु पार होने कगार पर है जोकि कुछ महीनों बाद बाद हिमाचल प्रदेश अधिनस्थ चयन आयोग द्वारा भर्ती में बैठने से अयोग्य हो जाएंगे जिससे उनका भविष्य अंधकार में हो जाएगा|

इसे भी पढ़ें:  अर्की: अनियंत्रित होकर सड़क किनारे दुकान से टकराई HRTC बस, चालक के खिलाफ़ मामला दर्ज

अतः बेरोजगार प्रशिक्षित युवाओं के भविष्य को ध्यान में रखते हुए वर्तमान सरकार से हिमाचल प्रदेश बेरोजगार प्रशिक्षित शारीरिक शिक्षक संघ की इकाई पुरजोर मांग करती है कि सरकार इस विषय की गंभीरता को समझते हुए मजबूती के साथ माननीय उच्च न्यायालय में अपना पक्ष रखें और जिससे इस केस का शीघ्र एवं सर्वमान्य निर्णय हो सके| यदि सरकार इस विषय में उपेक्षा पूर्ण एवं टालमटोल का रवैया अपनाती रही तो इसका खामियाजा वर्तमान सरकार को आगामी विधानसभा 2022 के चुनाव में भुगतना पड़ेगा| इस अवसर विशेष बैठक में पवन देवेंद्र, दलजीत, सतवीर और रोशन, धर्मपाल, धनपाल महेंद्र राजेंद्र कुमार, नरेश, इंद्र सिंह सतवीर एवं हीरा दत्त भी इसमें सम्मिलित रहे|

हिमाचल प्रदेश बेरोजगार प्रशिक्षित शारीरिक शिक्षक( PET) संघ सोलन इकाई ने किया भावी रणनीति पर मंथनहिमाचल प्रदेश बेरोजगार प्रशिक्षित शारीरिक शिक्षक( PET) संघ सोलन इकाई ने किया भावी रणनीति पर मंथनहिमाचल प्रदेश बेरोजगार प्रशिक्षित शारीरिक शिक्षक( PET) संघ सोलन इकाई ने किया भावी रणनीति पर मंथनहिमाचल प्रदेश बेरोजगार प्रशिक्षित शारीरिक शिक्षक( PET) संघ सोलन इकाई ने किया भावी रणनीति पर मंथनहिमाचल प्रदेश बेरोजगार प्रशिक्षित शारीरिक शिक्षक( PET) संघ सोलन इकाई ने किया भावी रणनीति पर मंथनहिमाचल प्रदेश बेरोजगार प्रशिक्षित शारीरिक शिक्षक( PET) संघ सोलन इकाई ने किया भावी रणनीति पर मंथन
हिमाचल प्रदेश बेरोजगार प्रशिक्षित शारीरिक शिक्षक( PET) संघ सोलन इकाई ने किया भावी रणनीति पर मंथन