Himachal: अनुबंध कर्मचारियों को नियमित करने की मांग, महासंघ ने सरकार से की गुजारिश

Non Gazetted Employees Federation; प्रदीप ठाकुर और भरत शर्मा ने कहा कि प्रदेश सरकार ने कर्मचारियों के हित में कई सराहनीय कार्य किए हैं और उन्हें विश्वास है कि यह अधिसूचना भी जल्द ही जारी की जाएगी।

HP Cabinet Decisions, Himachal Pradesh News

Himachal Pradesh News: अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप ठाकुर और महासचिव भरत शर्मा ने हाल ही में माननीय मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू, उपमुख्यमंत्री मुकेश अग्निहोत्री, राजस्व मंत्री जगत सिंह नेगी और मुख्य सचिव से मुलाकात की। उन्होंने अनुबंध पर कार्यरत कर्मचारियों को नियमित करने के संबंध में अधिसूचना जारी करने का आग्रह किया है।

उन्होंने बताया कि यह अधिसूचना 1 अप्रैल से प्रभावी होनी चाहिए, क्योंकि आदर्श चुनाव आचार संहिता के कारण इन कर्मचारियों के दो से तीन महीने का नुकसान हो रहा है। यदि यह अधिसूचना 1 अप्रैल से लागू होती है, तो कर्मचारी इस नुकसान से बच सकते हैं।

प्रदीप ठाकुर और भरत शर्मा ने कहा कि प्रदेश सरकार ने कर्मचारियों के हित में कई सराहनीय कार्य किए हैं और उन्हें विश्वास है कि यह अधिसूचना भी जल्द ही जारी की जाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि पहले एक वर्ष में दो बार कर्मचारियों को नियमित किया जाता था, लेकिन अब यह स्पष्ट नहीं है कि कर्मचारी केवल मार्च में ही नियमित होंगे या सितंबर में भी।

उन्होंने मांग की है कि पहले की तरह 31 मार्च और 30 सितंबर को अपना कार्यकाल पूरा करने वाले कर्मचारियों को नियमित किया जाए ताकि समय रहते कर्मचारियों को नियमित किया जा सके। उन्होंने कहा कि प्रदेश के कर्मचारी लगातार सरकार के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े हैं।

जहां प्रदेश सरकार ने पुरानी पेंशन जैसी बड़ी सौगात दी है, वहीं कॉन्ट्रैक्ट के कारण छूटे कर्मचारियों को भी पुरानी पेंशन के दायरे में लाना प्रदेश सरकार की दूरदर्शिता और कर्मचारियों के प्रति सरकार की सोच को दर्शाता है। उन्होंने मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू और अन्य सहयोगियों का इस अधिसूचना के लिए भी धन्यवाद किया।

महासंघ ने यह भी कहा कि आने वाले समय में बिजली विभाग के साथ-साथ अन्य छूटे हुए कर्मचारियों को भी पेंशन का लाभ मिले, इसके लिए प्रयास जारी रहेंगे। प्रदेश के कर्मचारियों के अन्य मुद्दों को भी सरकार के समक्ष समय-समय पर उठाया जाएगा। उन्होंने प्रदेश सरकार से संयुक्त सलाहकार समिति की बैठक जल्द बुलाने का भी आग्रह किया ताकि कर्मचारियों की अन्य समस्याओं का भी समाधान समय रहते किया जा सके।