Sunday, February 25, 2024

Himachal Statehood Day: पहाड़ी राज्य हिमाचल का 54वां पूर्ण राज्यत्व दिवस, 1971 में आज ही के दिन हुई थी पूर्ण राज्य की घोषणा

Himachal Pradesh Statehood Day: बीते वर्ष हिमाचल में भारी बारिश के चलते आई आपदा में हजारों करोड़ का नुकसान हुआ। सैंकड़ो जाने चली गई। हजारों लोगों के घर तबाह हो गए बाबजूद इसके प्रदेश एक बार फिर से अपने पैरों पर खड़ा होने के लिए प्रयासरत है। 

शिमला।
Himachal Statehood Day: आज हिमाचल प्रदेश स्थापना दिवस है। आज पहाड़ी राज्य हिमाचल 53 साल का सफर तय कर 54 साल में प्रवेश कर चुका है। 25 जनवरी 1971 को माइनस डिग्री तापमान में रिज मैदान के टका बेंच से तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने हिमाचल प्रदेश को पूर्ण राज्य (Himachal Statehood Day) का दर्जा देने की घोषणा की। अपने पांच दशक से ज्यादा के इतिहास में हिमाचल ने कई उतार-चढ़ाव देखें हैं।

हिमाचल 25 जनवरी, 1971 को देश का 18वां राज्य बना। हिमाचल का गठन 15 अप्रैल, 1948 को किया गया था, लेकिन उस समय का हिमाचल बेहद छोटा था और पहली नवंबर, 1956 को हिमाचल केंद्रशासित प्रदेश बना। इस समय हिमाचल में केवल चार जिले थे। ज्यादातर पहाड़ी इलाके पंजाब में थे। संपूर्ण और वर्तमान का विशाल हिमाचल बनने के लिए 18 साल का लंबा वक्त लगा।

25 जनवरी, 1971 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने शिमला आकर ऐतिहासिक रिज पर भारी बर्फबारी के बीच हिमाचल वासियों के समक्ष हिमाचल प्रदेश की 18वें राज्य के रूप में शुरुआत करवाई। पहली नवंबर, 1972 को तीन जिले कांगड़ा, ऊना तथा हमीरपुर बनाए गए। महासू जिला के क्षेत्रों में से सोलन जिला बनाया गया।

हिमाचल निर्माता और प्रथम मुख्यमंत्री यशवंत सिंह परमार वर्ष 1976 तक हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे। उनके बाद ठाकुर राम लाल मुख्यमंत्री बने और प्रदेश बागडोर संभाली। वर्ष 1977 में प्रदेश में जनता पार्टी चुनाव जीती और शांता कुमार मुख्यमंत्री बने। वर्ष 1980 में ठाकुर राम लाल फिर मुख्यमंत्री की कुर्सी पर विराजमान हो गए। आठ अप्रैल, 1983 को उनकी जगह मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह को बनाया गया। 1985 के चुनाव में वीरभद्र सिंह नेतृत्व में कांग्रेस पार्टी को भारी बहुमत मिला और वीरभद्र सिंह मुख्यमंत्री बने। 1990 के विधानसभा चुनाव में भाजपा की सरकार बनी और शांता कुमार को दोबारा मुख्यमंत्री बनाया गया। 15 दिसंबर, 1992 को राष्ट्रपति के अध्यादेश द्वारा भाजपा सरकार और विधानसभा को भंग कर दिया गया। हिमाचल प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लागू किया गया।

प्रदेश में दोबारा चुनाव करवाए गए और वीरभद्र सिंह एक बार फिर मुख्यमंत्री बन गए। वर्ष 1998 के चुनाव में सत्ता भाजपा के हाथ चली गई और प्रेम कुमार धूमल को पहली बार प्रदेश का मुख्यमंत्री बनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। वर्ष 2003 के चुनाव में भाजपा को सत्ता से हाथ धोना पड़ा और कांग्रेस सरकार बनाने में कामयाब हुई और इस दौरान मुख्यमंत्री फिर से वीरभद्र सिंह को बनाया गया। वर्ष 2007 में भाजपा सरकार बनाने में कामयाब हुई और इस दौरान मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल बने।

नवंबर, 2012 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने जीत हासिल की। 68 सीटों में से 36 सीटें जीतकर कांग्रेस ने सरकार बनाई और वीरभद्र सिंह फिर मुख्यमंत्री बन गए। नवंबर, 2017 में भाजपा ने विधानसभा चुनाव प्रो. प्रेम कुमार धूमल के नेतृत्व में लड़ा। नतीजों में धूमल की हार के बाद केंद्रीय नेतृत्व ने हिमाचल की बागडोर सराज विधानसभा क्षेत्र से पांच बार रहे विधायक जयराम ठाकुर को सौंपी। हिमाचल के इतिहास में यह पहली बार है जब मंडी जिला से कोई मुख्यमंत्री बना है। इसके बाद वर्ष 2022 में हुए चुनाव में एक बार फिर कांग्रेस ने सत्ता में वापसी की और इस बार हिमाचल प्रदेश की कामना हमीरपुर जिला के नादौन से जीत कर आने वाले सुखविंदर सिंह सुक्खू को मिली है।

छोटा राज्य होने के बावजूद चुनौतियों का पहाड़ पार किया। शिक्षा ही नहीं स्वास्थ्य के क्षेत्र में पहाड़ी ही नहीं बल्कि बड़े राज्यों के लिए आदर्श बना है। हर गांव तक का सड़क पहुंचाने का लक्ष्य हालांकि अभी तक पूरा नहीं हुआ लेकिन पहाड़ी के जज्बे का ही कमाल है कि मेरे पास आज 35 हजार किलोमीटर से ज्यादा सड़कों का जाल है। इन्हीं सड़कों के दम पर ही विकास की बुनियाद रखी गई।

समय के चक्र के साथ साक्षरता दर बढ़ती रही। बड़े राज्यों को शिक्षा के क्षेत्र में पछाडऩे के बाद आज हिमाचल की साक्षरता दर में देश में दूसरे नंबर पर भी रही जब साक्षरता दर 80 फीसद से ज्यादा थी। लेकिन अब इसमें बदलाब हुआ है। हालांकि आज कई बड़े संस्थान यहां खुल चुके हैं जहां देश सहित विदेशों से आकर भी छात्र शिक्षा ग्रहण करते हैं।

पहाड़ी राज्य होने के नाते पानी नदियों में था, लेकिन गांव नदियों से दूर थे। 300 बस्तियां ही ऐसी थीं, जहां पानी पहुंचता था। हर घर में नल लगाने का मेरा सपना कब पूरा होगा, यही सोचता था। आज हिमाचल में 7500 से ज्यादा पेयजल और इससे भी कहीं ज्यादा सिंचाई की योजनाएं हैं।

पहाड़ों को चीरते हुए नदियों के पानी दूसरे राज्य नहीं बल्कि देशों तक पहुंच जाता था। हिमाचल के विकास में इसकी क्या भूमिका हो सकती है। इस पर काफी मंथन के बाद बिजली प्रोजेक्ट लगाना शुरू हुए है। देश का सबसे बड़ा बिजली प्रोजेक्ट नाथपा-झाखड़ी एक समय हिमाचल में ही लगा। 1500 मेगावाट क्षमता का प्रोजेक्ट आज भी देश के कई राज्यों को रोशन करता है। इसके अलावा अब कई और प्रोजेक्ट भी लगे हैं। बिजली से रोशनी भले ही दूसरे राज्यों को मिली, लेकिन खजाना भी बढ़ा। हिमाचल हर साल बिजली बेच कर ही 1000 करोड़ रुपये से ज्यादा कमाता है। आज हिमाचल का हर गांव बिजली से जुड़ा है।

राज्य में प्रशासनिक विस्तार के कई तरह से मायने देखे जा सकते हैं। आज हिमाचल प्रदेश में हरेक जिला का अपना प्रशासनिक ढांचा है और उन्नति के लिए हरेक जिला की अपनी योजनाएं हैं। सभी जिलों का प्रशासनिक ढांचा अपने स्तर पर काम कर रहा है।

प्रदेश चलाने के लिए सरकार को जरूरी था कि प्रशासनिक ढांचे को बढ़ाया जाता, जिसके चलते हिमाचल में 12 जिला बनाए गए। इन जिलों में जिलाधीश हैं, जिनके अधीन पूरा प्रशासनिक ढांचा है, जो अपना-अपना काम कर रहा है। सभी जिलों के जिलाधीश जहां वार्षिक बजट की योजनाओं को सिरे चढ़ाने में जुटे हैं, वहीं जिलों की अपनी योजनाएं भी हैं। वहीं, केंद्र सरकार की योजनाएं भी अब सीधे रूप से जिलों को पहुंचने लगी हैं।

प्रशासनिक विस्तार को दूसरी तरफ से देखें, तो यहां अधिकारियों का कुनबा भी बढ़ा है। चाहे आईएएस अधिकारी हों या फिर आईएफएस या आईपीएस। इन कॉडर के विस्तार के अलावा यहां स्टेट कॉडर का भी विस्तार हुआ है, जो प्रदेश के प्रशासनिक तौर पर विकास में महत्त्वपूर्ण है। यहां सभी विभागों में प्रशासनिक रूप से उन्नति हुई है, जहां रोजगार बड़े पैमाने पर जुटा है, वहीं जो चेन बनी, उससे निचले स्तर पर प्रशासनिक ढांचा मजबूत बना है।

पूर्ण राज्यत्व का दर्जा मिलने के बाद हिमाचल प्रदेश ने कई क्षेत्रों में तरक्की की है, लेकिन चुनौतियां अभी कम नहीं हुई हैं। 68 लाख से अधिक आबादी वाले पहाड़ी प्रदेश हिमाचल के सामने कर्ज से पार पाना बड़ी चुनौती बना है। 70 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा के कर्ज का बोझ हो गया है। बेशक हर क्षेत्र में विकास की बयार बह रही हो लेकिन अपने खर्चों पर नियंत्रण करने के साथ ही आय के साधन बढ़ाने की जरूरत है।

वहीँ बीते वर्ष हिमाचल में भारी बारिश के चलते आई आपदा में हजारों करोड़ का नुकसान हुआ। सैंकड़ो जाने चली गई। हजारों लोगों के घर तबाह हो गए बाबजूद इसके प्रदेश एक बार फिर से अपने पैरों पर खड़ा होने के लिए प्रयासरत है।

Himachal Statehood Day: सीएम सुक्खू बोले- 21 हजार से अधिक पदों पर हो रही भर्ती,

St. BIR’S International School में वार्षिक खेल दिवस का भव्य समारोह

Republic Day: राज्यपाल व मुख्यमंत्री ने गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं दीं

Exclusive! हिमुडा की नाक के नीचे कोटबेजा स्कूल भवन के निर्माण में हुआ घटिया सामग्री का इस्तेमाल

  • हिमाचल की खबरें Twitter पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here
  • अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here

Tek Raj
संस्थापक, प्रजासत्ता डिजिटल मीडियाप्रजासत्ता पाठकों और शुभचिंतको के स्वैच्छिक सहयोग से हर उस मुद्दे को बिना पक्षपात के उठाने की कोशिश करता है, जो बेहद महत्वपूर्ण हैं और जिन्हें मुख्यधारा की मीडिया नज़रंदाज़ करती रही है।

More Articles

कोर्ट आदेश, New Criminal Laws in India

New Criminal Laws in India: देश में 1 जुलाई से लागू होंगे तीन नए...

0
प्रजासत्ता नेशनल डेस्क | New Criminal Laws in India: देश में 1 जुलाई से तीन नए आपराधिक कानून लागू हो जाएंगे। केंद्र सरकार की तरफ से इस संबंध में अधिसूचना जारी कर दी गई है।...
प्रो. सिम्मी अग्निहोत्री

प्रो. सिम्मी अग्निहोत्री की श्रद्धांजलि एवं प्रार्थना सभा में शामिल हुए मुख्यमंत्री

0
ऊना | मुख्यमंत्री ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू आज ऊना जिले के हरोली उपमंडल के गांव गोंदपुर जयचंद में उप-मुख्यमंत्री मुकेश अग्निहोत्री की धर्मपत्नी प्रोफेसर सिम्मी अग्निहोत्री की श्रद्धांजलि एवं प्रार्थना सभा में शामिल हुए। उनका...
Cooperative society will be formed for bamboo growers in Himachal Pradesh

Bamboo Growers in HP : हिमाचल प्रदेश में बांस उत्पादकों के लिए बनेगी सहकारी...

0
सुभाष कुमार गौतम | घुमारवीं बिलासपुर Bamboo Growers in HP: प्रदेश में बांस उत्पादकों के लिए प्रदेश सरकार एक सहकारी सभा बनाएगी। ताकि उनके द्वारा निर्मित प्रोडक्ट्स को मार्केट में पहचान मिल सके और उनकी...
dharamshala-congress-mla-sudhir-sharma, MLA Sudhir Sharma Threatened

MLA Sudhir Sharma Threatened: धर्मशाला से कांग्रेस विधायक सुधीर शर्मा को मिली जान से...

0
कांगड़ा | MLA Sudhir Sharma Threatened: कांग्रेस के दिग्गज नेता एवं धर्मशाला से विधायक सुधीर शर्मा को जान से मारने की धमकी मिली है। विधायक के पर्सनल स्टाफ को 2 बार धमकी भरे फोन कॉल...
Himachal Politics

Himachal Politics: पूर्व मंत्री प्रकाश चौधरी के समर्थन में ब्लॉक व जिला स्तर के...

0
मंडी | Himachal Politics: पूर्व मंत्री प्रकाश चौधरी के समर्थन में ब्लॉक व जिला स्तर के कांग्रेस पदाधिकारियों ने सामूहिक त्यागपत्र दे दिया है। शुक्रवार को उनके घर डडौर में पार्टी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं की...
Loksabha Election 2024

Loksabha Election 2024: लोकसभा चुनाव कार्यक्रम 13-14 मार्च को जारी होने की संभावना

0
प्रजासत्ता नेशनल डेस्क | Loksabha Election 2024: लोकसभा चुनाव 2024 की तारीखों के ऐलान का वक्त नजदीक आ गया है। भारत निर्वाचन आयोग (ECI) 13-14 मार्च को लोकसभा चुनावों की तारीखों का ऐलान कर सकता...
RBI on Paytm | Paytm Payments Bank |  Paytm Payments Bank Latest Update, Paytm Payments Bank Independent Director Manju Agarwal Resigns From The Board; Confirms The Company,

Paytm Payments Bank Latest Update: Paytm को झटका और UPI यूजर्स के लिए बड़ी...

4
प्रजासत्ता नेशनल डेस्क | Paytm Payments Bank Latest Update: केंद्रीय रिजर्व बैंक (RBI on Paytm) ने Paytm Payments Bank पर और सख्त कदम उठाए हैं। अगर आप पेटीएम यूजर हैं तो आपके लिए जरूरी खबर...
Himachal Pradesh Weather, Weather Update

Weather Update: देश में एक बार फिर जारी किया गया बारिश का अलर्ट ,...

3
प्रजासत्ता नेशनल डेस्क | Weather Update: देश में एक बार फिर मौसम का मिजाज बदल रहा है। सर्दी का मौसम अंतिम दौर में है, लेकिन उससे पहले एक और झटका लग सकता है। इस वक्त...
Calling Name Display Service

Calling Name Display Service: TRAI ने लिया बड़ा फैसला, अब अनजान कॉल से मिलेगा...

0
प्रजासत्ता नेशनल डेस्क | Calling Name Display Service: दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने एक नई सिफारिश की है जिसके बाद जब भी कोई अनजान नंबर से आपको कॉल करेगा तो उसका केवाईसी आधारित नाम मोबाइल...
Jagat Prakash Nadda inaugurated many new facilities at AIIMS Bilaspur

जगत प्रकाश नड्डा ने AIIMS Bilaspur में कई नई सुविधाओं का किया शुभारंभ

0
बिलासपुर| AIIMS Bilaspur: भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने आज शुक्रवार को हिमाचल प्रदेश के एम्स बिलासपुर में कई नई सुविधाओं का शुभारंभ किया और 'विश्राम सदन' का शिलान्यास किया। इस...
- Advertisement -

Popular Articles