Himachal Statehood Day: पहाड़ी राज्य हिमाचल का 54वां पूर्ण राज्यत्व दिवस, 1971 में आज ही के दिन हुई थी पूर्ण राज्य की घोषणा

Himachal Pradesh Statehood Day: बीते वर्ष हिमाचल में भारी बारिश के चलते आई आपदा में हजारों करोड़ का नुकसान हुआ। सैंकड़ो जाने चली गई। हजारों लोगों के घर तबाह हो गए बाबजूद इसके प्रदेश एक बार फिर से अपने पैरों पर खड़ा होने के लिए प्रयासरत है। 

शिमला।
Himachal Statehood Day: आज हिमाचल प्रदेश स्थापना दिवस है। आज पहाड़ी राज्य हिमाचल 53 साल का सफर तय कर 54 साल में प्रवेश कर चुका है। 25 जनवरी 1971 को माइनस डिग्री तापमान में रिज मैदान के टका बेंच से तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने हिमाचल प्रदेश को पूर्ण राज्य (Himachal Statehood Day) का दर्जा देने की घोषणा की। अपने पांच दशक से ज्यादा के इतिहास में हिमाचल ने कई उतार-चढ़ाव देखें हैं।

हिमाचल 25 जनवरी, 1971 को देश का 18वां राज्य बना। हिमाचल का गठन 15 अप्रैल, 1948 को किया गया था, लेकिन उस समय का हिमाचल बेहद छोटा था और पहली नवंबर, 1956 को हिमाचल केंद्रशासित प्रदेश बना। इस समय हिमाचल में केवल चार जिले थे। ज्यादातर पहाड़ी इलाके पंजाब में थे। संपूर्ण और वर्तमान का विशाल हिमाचल बनने के लिए 18 साल का लंबा वक्त लगा।

25 जनवरी, 1971 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने शिमला आकर ऐतिहासिक रिज पर भारी बर्फबारी के बीच हिमाचल वासियों के समक्ष हिमाचल प्रदेश की 18वें राज्य के रूप में शुरुआत करवाई। पहली नवंबर, 1972 को तीन जिले कांगड़ा, ऊना तथा हमीरपुर बनाए गए। महासू जिला के क्षेत्रों में से सोलन जिला बनाया गया।

हिमाचल निर्माता और प्रथम मुख्यमंत्री यशवंत सिंह परमार वर्ष 1976 तक हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे। उनके बाद ठाकुर राम लाल मुख्यमंत्री बने और प्रदेश बागडोर संभाली। वर्ष 1977 में प्रदेश में जनता पार्टी चुनाव जीती और शांता कुमार मुख्यमंत्री बने। वर्ष 1980 में ठाकुर राम लाल फिर मुख्यमंत्री की कुर्सी पर विराजमान हो गए। आठ अप्रैल, 1983 को उनकी जगह मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह को बनाया गया। 1985 के चुनाव में वीरभद्र सिंह नेतृत्व में कांग्रेस पार्टी को भारी बहुमत मिला और वीरभद्र सिंह मुख्यमंत्री बने। 1990 के विधानसभा चुनाव में भाजपा की सरकार बनी और शांता कुमार को दोबारा मुख्यमंत्री बनाया गया। 15 दिसंबर, 1992 को राष्ट्रपति के अध्यादेश द्वारा भाजपा सरकार और विधानसभा को भंग कर दिया गया। हिमाचल प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लागू किया गया।

प्रदेश में दोबारा चुनाव करवाए गए और वीरभद्र सिंह एक बार फिर मुख्यमंत्री बन गए। वर्ष 1998 के चुनाव में सत्ता भाजपा के हाथ चली गई और प्रेम कुमार धूमल को पहली बार प्रदेश का मुख्यमंत्री बनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। वर्ष 2003 के चुनाव में भाजपा को सत्ता से हाथ धोना पड़ा और कांग्रेस सरकार बनाने में कामयाब हुई और इस दौरान मुख्यमंत्री फिर से वीरभद्र सिंह को बनाया गया। वर्ष 2007 में भाजपा सरकार बनाने में कामयाब हुई और इस दौरान मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल बने।

नवंबर, 2012 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने जीत हासिल की। 68 सीटों में से 36 सीटें जीतकर कांग्रेस ने सरकार बनाई और वीरभद्र सिंह फिर मुख्यमंत्री बन गए। नवंबर, 2017 में भाजपा ने विधानसभा चुनाव प्रो. प्रेम कुमार धूमल के नेतृत्व में लड़ा। नतीजों में धूमल की हार के बाद केंद्रीय नेतृत्व ने हिमाचल की बागडोर सराज विधानसभा क्षेत्र से पांच बार रहे विधायक जयराम ठाकुर को सौंपी। हिमाचल के इतिहास में यह पहली बार है जब मंडी जिला से कोई मुख्यमंत्री बना है। इसके बाद वर्ष 2022 में हुए चुनाव में एक बार फिर कांग्रेस ने सत्ता में वापसी की और इस बार हिमाचल प्रदेश की कामना हमीरपुर जिला के नादौन से जीत कर आने वाले सुखविंदर सिंह सुक्खू को मिली है।

छोटा राज्य होने के बावजूद चुनौतियों का पहाड़ पार किया। शिक्षा ही नहीं स्वास्थ्य के क्षेत्र में पहाड़ी ही नहीं बल्कि बड़े राज्यों के लिए आदर्श बना है। हर गांव तक का सड़क पहुंचाने का लक्ष्य हालांकि अभी तक पूरा नहीं हुआ लेकिन पहाड़ी के जज्बे का ही कमाल है कि मेरे पास आज 35 हजार किलोमीटर से ज्यादा सड़कों का जाल है। इन्हीं सड़कों के दम पर ही विकास की बुनियाद रखी गई।

समय के चक्र के साथ साक्षरता दर बढ़ती रही। बड़े राज्यों को शिक्षा के क्षेत्र में पछाडऩे के बाद आज हिमाचल की साक्षरता दर में देश में दूसरे नंबर पर भी रही जब साक्षरता दर 80 फीसद से ज्यादा थी। लेकिन अब इसमें बदलाब हुआ है। हालांकि आज कई बड़े संस्थान यहां खुल चुके हैं जहां देश सहित विदेशों से आकर भी छात्र शिक्षा ग्रहण करते हैं।

पहाड़ी राज्य होने के नाते पानी नदियों में था, लेकिन गांव नदियों से दूर थे। 300 बस्तियां ही ऐसी थीं, जहां पानी पहुंचता था। हर घर में नल लगाने का मेरा सपना कब पूरा होगा, यही सोचता था। आज हिमाचल में 7500 से ज्यादा पेयजल और इससे भी कहीं ज्यादा सिंचाई की योजनाएं हैं।

पहाड़ों को चीरते हुए नदियों के पानी दूसरे राज्य नहीं बल्कि देशों तक पहुंच जाता था। हिमाचल के विकास में इसकी क्या भूमिका हो सकती है। इस पर काफी मंथन के बाद बिजली प्रोजेक्ट लगाना शुरू हुए है। देश का सबसे बड़ा बिजली प्रोजेक्ट नाथपा-झाखड़ी एक समय हिमाचल में ही लगा। 1500 मेगावाट क्षमता का प्रोजेक्ट आज भी देश के कई राज्यों को रोशन करता है। इसके अलावा अब कई और प्रोजेक्ट भी लगे हैं। बिजली से रोशनी भले ही दूसरे राज्यों को मिली, लेकिन खजाना भी बढ़ा। हिमाचल हर साल बिजली बेच कर ही 1000 करोड़ रुपये से ज्यादा कमाता है। आज हिमाचल का हर गांव बिजली से जुड़ा है।

राज्य में प्रशासनिक विस्तार के कई तरह से मायने देखे जा सकते हैं। आज हिमाचल प्रदेश में हरेक जिला का अपना प्रशासनिक ढांचा है और उन्नति के लिए हरेक जिला की अपनी योजनाएं हैं। सभी जिलों का प्रशासनिक ढांचा अपने स्तर पर काम कर रहा है।

प्रदेश चलाने के लिए सरकार को जरूरी था कि प्रशासनिक ढांचे को बढ़ाया जाता, जिसके चलते हिमाचल में 12 जिला बनाए गए। इन जिलों में जिलाधीश हैं, जिनके अधीन पूरा प्रशासनिक ढांचा है, जो अपना-अपना काम कर रहा है। सभी जिलों के जिलाधीश जहां वार्षिक बजट की योजनाओं को सिरे चढ़ाने में जुटे हैं, वहीं जिलों की अपनी योजनाएं भी हैं। वहीं, केंद्र सरकार की योजनाएं भी अब सीधे रूप से जिलों को पहुंचने लगी हैं।

प्रशासनिक विस्तार को दूसरी तरफ से देखें, तो यहां अधिकारियों का कुनबा भी बढ़ा है। चाहे आईएएस अधिकारी हों या फिर आईएफएस या आईपीएस। इन कॉडर के विस्तार के अलावा यहां स्टेट कॉडर का भी विस्तार हुआ है, जो प्रदेश के प्रशासनिक तौर पर विकास में महत्त्वपूर्ण है। यहां सभी विभागों में प्रशासनिक रूप से उन्नति हुई है, जहां रोजगार बड़े पैमाने पर जुटा है, वहीं जो चेन बनी, उससे निचले स्तर पर प्रशासनिक ढांचा मजबूत बना है।

पूर्ण राज्यत्व का दर्जा मिलने के बाद हिमाचल प्रदेश ने कई क्षेत्रों में तरक्की की है, लेकिन चुनौतियां अभी कम नहीं हुई हैं। 68 लाख से अधिक आबादी वाले पहाड़ी प्रदेश हिमाचल के सामने कर्ज से पार पाना बड़ी चुनौती बना है। 70 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा के कर्ज का बोझ हो गया है। बेशक हर क्षेत्र में विकास की बयार बह रही हो लेकिन अपने खर्चों पर नियंत्रण करने के साथ ही आय के साधन बढ़ाने की जरूरत है।

वहीँ बीते वर्ष हिमाचल में भारी बारिश के चलते आई आपदा में हजारों करोड़ का नुकसान हुआ। सैंकड़ो जाने चली गई। हजारों लोगों के घर तबाह हो गए बाबजूद इसके प्रदेश एक बार फिर से अपने पैरों पर खड़ा होने के लिए प्रयासरत है।

Himachal Statehood Day: सीएम सुक्खू बोले- 21 हजार से अधिक पदों पर हो रही भर्ती,

St. BIR’S International School में वार्षिक खेल दिवस का भव्य समारोह

Republic Day: राज्यपाल व मुख्यमंत्री ने गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं दीं

Exclusive! हिमुडा की नाक के नीचे कोटबेजा स्कूल भवन के निर्माण में हुआ घटिया सामग्री का इस्तेमाल

Tek Raj
संस्थापक, प्रजासत्ता डिजिटल मीडिया प्रजासत्ता पाठकों और शुभचिंतको के स्वैच्छिक सहयोग से हर उस मुद्दे को बिना पक्षपात के उठाने की कोशिश करता है, जो बेहद महत्वपूर्ण हैं और जिन्हें मुख्यधारा की मीडिया नज़रंदाज़ करती रही है। पिछलें 8 वर्षों से प्रजासत्ता डिजिटल मीडिया संस्थान ने लोगों के बीच में अपनी अलग छाप बनाने का काम किया है।

Latest News

Kullu News: पर्यटक ने होटल कर्मचारी पर चाकू से किया हमला

Kullu News: हिमाचल में एक पर्यटक ने होटल के...

Bilaspur News: टोल प्लाजा पर ट्रक ने पांच वाहनों को मारी टक्कर, एक की दर्दनाक मौत

Bilaspur News: बिलासपुर में टोल प्लाजा पर पर्चियां लेने के...

KIPS के बच्चों का शूटिंग प्रतियोगिता में शानदार प्रदर्शन

कसौली। इंदिरा गांधी हिमाचल प्रदेश स्टेट स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स शिमला में...

Solan News: अखिल भारतीय उपभोक्ता कल्याण परिषद के हिमाचल प्रदेश अध्यक्ष बने अजय शर्मा

सोलन।‌ Solan News: नीति आयोग/बीआईएस/भारत सरकार/महाराष्ट्र सरकार/बीपीटी/226/नई दिल्ली द्वारा अखिल...

Darjeeling Train Accident: कंचनजंगा एक्सप्रेस मालगाड़ी से टकराई, राहत कार्य जारी

Darjeeling Train Accident: पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग जिले में...

Dharmendra Pradhan on NEET Update: शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने माना NEET परीक्षा में गड़बड़ी हुई

प्रजासत्ता नेशनल डेस्क| Dharmendra Pradhan on NEET Update: केंद्रीय शिक्षा मंत्री...

Himachal Weather: हिमाचल प्रदेश में गर्मी का प्रकोप: 40 डिग्री के पार पहुंचा तापमान

Himachal Weather: हिमाचल प्रदेश में गर्मी का प्रकोप लगातार...

Sirmour News: सिरमौर में दुखद घटना: पेड़ से लटके मिले युवक-युवती के शव

नाहन| Sirmour News: सिरमौर जिला में एक बार फिर दुखद...

Solan News: सरकार ने सोलन नगर निगम में किया गलत :- संदीपनी

शिमला | Solan News: भाजपा प्रवक्ता संदीपनी भारद्वाज ने कहा...

More Articles

Himachal Cabinet Decision: सुक्खू सरकार ने खोल दिया रोजगार का पिटारा, पुलिस जिला बना देहरा, कांस्‍टेबल भर्ती में बढ़ी आयु सीमा

शिमला। Himachal Cabinet Decision: मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू की अध्यक्षता में आज यहां प्रदेश मंत्रिमण्डल की बैठक में पुलिस विभाग में आरक्षी (कांस्टेबल) के 1226...

Himachal Weather: हिमाचल प्रदेश में गर्मी का प्रकोप: 40 डिग्री के पार पहुंचा तापमान

Himachal Weather: हिमाचल प्रदेश में गर्मी का प्रकोप लगातार बढ़ता जा रहा है। शनिवार को प्रदेश के आठ जिलों ऊना, हमीरपुर, बिलासपुर, कांगड़ा, कुल्लू,...

Himachal Pradesh Milkfed News: कुल्लू, हमीरपुर, नाहन और ऊना दुग्ध संयंत्रों की क्षमता की जाएगी 20-20 हजार लीटर

Himachal Pradesh Milkfed News: मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने आज यहां हिमाचल प्रदेश राज्य दुग्ध उत्पादक प्रसंघ (मिल्कफेड) की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की।...

Head Constable Case: लापता नहीं, जानबूझकर छुपा हुआ था हेड कांस्टेबल जसवीर

शिमला | Head Constable Case: सिरमौर पुलिस के हेड कांस्टेबल जसवीर सिंह से जुड़े बहुचर्चित मामले में सीआईडी क्राइम के डीआईजी डॉ. डी.के. चौधरी ने...

Kasauli Week-2024: साबरी ब्रदर्स ने श्रोताओं को किया मंत्रमुग्ध

कसौली,14 जून, 2024| Kasauli Week-2024: प्राकृतिक खूबसूरती से लदे और मनमोहक हिल स्टेशन कसौली की फिजा उस समय गूंज उठी जब आइकोनिक कसौली क्लब में...

Himachal News: हिमाचल में परिवहन क्रांति: 517 करोड़ के बजट से इलेक्ट्रिक बसों की सौगात

शिमला | Himachal News: मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने सोमवार को घोषणा की कि वर्तमान वित्त वर्ष में इलेक्ट्रिक बसों की खरीद के लिए 517...

Modi 3.0: भारत के विकास की यात्रा अब तेजी पकड़ेगी : बिंदल

शिमला| Modi 3.0: भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ राजीव बिंदल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को तीसरी बार शपथ लेने एवं केंद्र मंत्री जगत प्रकाश नड्डा को...

Himachal Assembly Byelection Schedule: हिमाचल की तीन विधानसभा सीटों के उपचुनाव का शेड्यूल जारी

Himachal Assembly Byelection Schedule: हिमाचल प्रदेश में अब तीन विधानसभा सीटों के लिए उपचुनाव होंगे। निर्वाचन आयोग ने इसका शेड्यूल जारी कर दिया है।...

Himachal News: सीएम सुक्खू बोले- निजी लाभ के लिए आजाद विधायकों ने सदस्यता दांव पर लगाई..!

Himachal News: लोकसभा चुनाव 2024 व प्रदेश में विधानसभा की छह सीटों के उपचुनाव के नतीजे घोषित होते ही अब हिमाचल में तीन विधानसभा...