Qatar Navy Men Case: कतर की जेल से रिहा किए गए पूर्व नौसैनिक, लौटे स्वदेश

Qatar-India Relations: कतर की जेल में बंद भारतीयों को रिहा करवाने के लिए काफी लंबे समय से कूटनीतिक चर्चा चल रही थी। इसका परिणाम अब देखने को मिला है। भारत के पक्ष में आये फैसले से दुनिया में फिर दिखी भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत..

प्रजासत्ता नेशनल डेस्क |
Qatar Navy Men Case : कतर ने कथित जासूसी के आरोप में खाड़ी देश में हिरासत में लिए गए आठ पूर्व भारतीय नौसेना कर्मियों को रिहा कर दिया है, जिसका भारत ने स्वागत किया है। विदेश मंत्रालय नई दिल्ली ने कहा कि आठ में से सात भारतीय नागरिक स्वदेश लौट आए हैं। यह भारत के लिए एक बड़ी कूटनीतिक जीत हैं


विदेश मंत्रालय (एमईए) ने आज सुबह जारी एक बयान में इस घटनाक्रम का स्वागत किया और कहा कि एक निजी कंपनी अल दहरा ग्लोबल कंपनी के लिए काम करने वाले आठ पूर्व भारतीय नौसेना कर्मियों में से सात कतर से भारत लौट आए।  मंत्रालय ने आगे कहा, ‘हम इन नागरिकों की रिहाई और घर वापसी सुनिश्चित करवाने के लिए कतर के अमीर के फैसले की सराहना करते हैं। ‘

परिजनों ने लगाई थी रिहाई की गुहार
दरअसल, आठों भारतीयों की रिहाई के लिए कतर और भारत के बीच राजनयिक वार्ता चल रही थी। इसका नतीजा ये हुआ कि नौसैनिकों की मौत की सजा को बढ़ी हुई जेल की सजा में बदल दिया गया। जेल में रहने की अवधि और भी ज्यादा छोटी गई, जब भारतीयों के परिजनों ने विदेश मंत्रालय से उनकी रिहाई के लिए गुहार लगाई। परिजनों की परेशानी को समझते हुए मंत्रालय ने सभी कानूनी उपायों और कूटनीतिक रास्तों के जरिए उन्हें रिहा करवा लिया है।

किस केस में कैद थे पूर्व नौसैनिक?
कतर की जेल में कैद रहने वाले आठों भारतीय पहले नौसैना में काम करते थे। इनके ऊपर कथित तौर पर कतर के सबमरीन प्रोग्राम की जासूसी करने का आरोप था, जिसके बाद आठों को गिरफ्तार किया। ये लोग अक्टूबर, 2022 से ही कतर की जेल में बंद थे। कतर की अदालत ने आठों भारतीयों को जासूसी का दोषी भी पाया, जिसके बाद इन्हें मौत की सजा सुनाई गई। हालांकि, अदालत के फैसले में इन्हें किस चीज का दोषी पाया गया, उसे सार्वजनिक नहीं किया गया।

विदेश मंत्रालय ने अदालत के फैसले को काफी हैरानी भरा बताया था। मंत्रालय ने कहा था कि वे भारतीयों के खिलाफ लगे आरोपों से उन्हें मुक्त करवाने के लिए सभी कानूनी विकल्पों का सहारा लेंगे।

इस केस में बड़ी हलचल तब हुई, जब पिछले साल कतर की अदालत ने भारत सरकार के हस्तक्षेप के बाद भारतीय नागरिकों की मौत की सजा को कम कर दिया। पूर्व नौसैनिकों की मौत की सजा को जेल में बिताए जाने वाले वर्षों के रूप में बदल दिया गया। बता दें कि 25 मार्च, 2023 को भारतीय नागरिकों के खिलाफ आरोप दायर किए गए और उन पर कतरी कानून के तहत मुकदमा चलाया गया था।

Qatar Navy Men Case: बड़ी राहत ! मौत की सजा पाने वाले भारतीय नौसेना के 8 पूर्व अधिकारियों को अब नहीं मिलेगी फांसी

पेटीएम को लगा एक और झटका, Paytm Payment Bank के डायरेक्टर का इस्तीफा

Supreme Court on Post of Deputy CM: राज्यों में उपमुख्यमंत्री की नियुक्ति पर सुप्रीम कोर्ट ने दिया बड़ा बयान

Bilaspur News: एम्स में MBBS के छात्र ने चौथी मंजिल से कूदकर दी जान

Government Jobs in HP: आयुर्वेदिक फार्मेसी अधिकारी और अन्य पदों के लिए आवेदन करें!

Tek Raj
संस्थापक, प्रजासत्ता डिजिटल मीडिया प्रजासत्ता पाठकों और शुभचिंतको के स्वैच्छिक सहयोग से हर उस मुद्दे को बिना पक्षपात के उठाने की कोशिश करता है, जो बेहद महत्वपूर्ण हैं और जिन्हें मुख्यधारा की मीडिया नज़रंदाज़ करती रही है। पिछलें 8 वर्षों से प्रजासत्ता डिजिटल मीडिया संस्थान ने लोगों के बीच में अपनी अलग छाप बनाने का काम किया है।

Latest News

मानसिक और शारीरिक रोगों से छुटकारा पाने का उत्तम साधन है योग : संतोष

ओम शर्मा। बीबीएन 10 वां अंतराष्ट्रीय योग दिवस पूरे बीबीएन...

LIC के उच्चाधिकारियों ने हेमंत ठाकुर को नंबर एक बनने पर दी बधाई

भारतीय जीवन बीमा निगम के उच्चाधिकारियों ने गुरुवार को...

Bulk Drug Park is revolutionary initiative for Himachal: CM

Chief Minister Thakur Sukhvinder Singh Sukhu today inaugurated the...

Una News: बिजली उत्पादन करने वाला जिला बना ऊना, 32 मेगावाट सौर उर्जा परियोजना का शुभांरभ

Una Becomes Power Producing District: मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू...

Shrikhand Mahadev Yatra 2024: श्रीखंड महादेव यात्रा 14 से 27 जुलाई तक होगी, पंजीकरण अनिवार्य

Shrikhand Mahadev Yatra 2024 Registration: श्रीखंड महादेव, हिमाचल प्रदेश...

बिलासपुर गोलीकांड को लेकर भाजपा अध्यक्ष का हमला: हिमाचल में सरकार के संरक्षण में गुंडाराज

शिमला। बिलासपुर गोलीकांड को लेकर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. राजीव...

Breaking News: बिलासपुर जिला कोर्ट के बाहर गोलीकांड, युवक घायल

Breaking News: बिलासपुर जिला कोर्ट के बाहर आज गोलीकांड...

Himachal: अनुबंध कर्मचारियों को नियमित करने की मांग, महासंघ ने सरकार से की गुजारिश

Himachal Pradesh News: अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष...

More Articles

Darjeeling Train Accident: कंचनजंगा एक्सप्रेस मालगाड़ी से टकराई, राहत कार्य जारी

Darjeeling Train Accident: पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग जिले में एक भयानक हादसा हुआ है। कंचनजंगा एक्सप्रेस ट्रेन को एक मालगाड़ी ने टक्कर मार दी...

Dharmendra Pradhan on NEET Update: शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने माना NEET परीक्षा में गड़बड़ी हुई

प्रजासत्ता नेशनल डेस्क| Dharmendra Pradhan on NEET Update: केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने NEET पेपर लीक मामले में पहली बार गड़बड़ी की बात मानी है।...

पाकिस्तान की ओर से बढ़ता आतंकवाद भारत पाकिस्तान संबंधों में सुधार के लिए एक मुख्य समस्या :- अजय विसारिया

प्रजासत्ता ब्यूरो | कसौली: पाकिस्तान की ओर से बढ़ता आतंकवाद भारत पाकिस्तान संबंधों में सुधार के लिए एक मुख्य समस्या बन जाता है। पकिस्तान की...

हथियारों में आत्मनिर्भर बने भारत, विदेशों को भी करे निर्यात :- कमल डावर

प्रजासत्ता ब्यूरो | कसौली : अगर भारत के खिलाफ चीन और पाकिस्तान अलग-अलग या संयुक्त रूप से है, तो देश को मिलिट्री उपकरण, प्लेटफॉर्म, आर्टलरी,...

PM Kisan Nidhi : मोदी सरकार का पहला निर्णय, किसानों को सम्मान निधि की सौगात

PM Kisan Nidhi 17th installment: प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने तीसरी बार प्रधानमंत्री के रूप में शपथ लेने के बाद, पीएम किसान निधि की 17वीं...

Milk Prices Hikes in India: अमूल दूध की कीमतों में वृद्धि: जानिए नए दाम

Milk Prices Hikes in India: गुजरात को-ऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन (GCMMF) ने अमूल गोल्ड, अमूल शक्ति और अमूल फ्रेश दूध की कीमतों में वृद्धि...

DELHI LIQUOR SCAM: सीएम केजरीवाल ने किया सरेंडर, कोर्ट ने 5 जून तक भेजा जेल

DELHI LIQUOR SCAM: दिल्ली शराब निति घोटाला मामले में फंसे मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कोर्ट में आज यानी रविवार को सरेंडर कर दिया है।...

Adani Group ने Paytm में हिस्सेदारी खरीदने की खबर को बताया झूठा

Adani Group called the news of buying Paytm false: अदाणी समूह द्वारा पेटीएम में हिस्सेदारी खरीदने की खबरों के बीच अदाणी समूह ने बुधवार...

Liquor Policy Case: शराब नीति मामले में मनीष सिसोदिया को झटका

Liquor Policy Case: दिल्ली शराब नीति मामले में मंगलवार (21 मई) को मनीष सिसोदिया को बड़ा झटका लगा है। Delhi Liquor Policy Case में...