Savitribai Phule Jayanti: नारी मुक्ति आंदोलन की पहली नेता थी सावित्री बाई फुले

Savitribai Phule Jayanti: हमारे समाज मे हमेशा ही महिलाओं पर अघोषित और अनावश्यक प्रतिबंध रहे है, और इन्ही प्रतिबंधो को तोड़ने के लिए जो सर्वप्रथम काम किया वह किया है सावित्री बाई फुले ने।  सावित्रि बाई फुले देश मे ऐसे महान लोगों मे से एक है जिन्होंने इस समाज की बेहतरी, खास कर महिलाओ और दबे कुचले लोगों के लिए अपनी जिंदगी के अंतिम समय तक संघर्ष किया और अपना पूरा जीवन मानव कल्याण और गैर बराबरी के समाज को कैसे खत्म किया जाए उसके लिए समर्पित कर दिया।
जिन शख्सियत की हम इस लेख के माध्यम से बात करने जा रहे है वो है पहली महिला शिक्षक श्रीमती सावित्री बाई फुले।  यदि हम इनके जीवन पर प्रकाश डाले तो सावित्रीबाई का जन्म (Savitribai Phule Jayanti) भारत के महाराष्ट्र राज्य के छोटे से गांव नायगांव में 3 जनवरी 1831 को हुआ था ।
सावित्रीबाई बचपन से ही बहुत जिज्ञासु और महत्वाकांक्षी थीं 1840 में नौ साल की उम्र में सावित्रीबाई का विवाह ज्योतिराव फुले से हुआ और बाल्य अवस्था मे शादी होने के पश्चात वह अपने पति ज्योतिबा राव फुले साथ पुणे चली गईं। ज्योतिबाराव फुले ने उनकी शिक्षा के प्रति रुचि देख कर उनको पढ़ाना शुरु किया और इस तरह सावित्री बाई फुले स्वयं भी अपने पति के सहयोग और प्रेरणा से शिक्षित हुई।

इस बीच ज्योतिबा फुले खुद भी दलित और शोषित वर्ग के अधिकारों के प्रति और समाज में एक वर्ग के साथ हो रहे भेदभाव के प्रति काफी चिंतित थे और इन सबका का मुकाबला करते हुए वे एक दलित चिंतक की तरह उभरे इधर सावित्री बाई ने भी उनके साथ मिलकर साल 1848 में एक स्कूल खोला ये पहला स्कूल था, जिसके बाद उन्होंने 18 स्कूल खोले, ये सारे ही स्कूल पुणे में थे और उन जातियों की लड़कियों को शिक्षा देते थे, जिन्हें समाज की मुख्यधारा से अलग रखा जाता था।

सावित्रीबाई फुले भारत के पहले बालिका विद्यालय की पहली प्रिंसिपल और पहले किसान स्कूल की संस्थापक थी । सावित्री बाई फुले को महाराष्ट्र और भारत में सामाजिक सुधार आंदोलन में एक सबसे महत्त्वपूर्ण व्यक्तित्व के रूप में माना जाता है। उनको महिलाओं और दलित जातियों का शिक्षित करने के प्रयासों के लिए जाना जाता है।

सावित्रीबाई पहली भारतीय महिला टीचर और प्रिंसिपल थीं। उन्होंने जाति और लिंग के आधार पर लोगों के साथ भेदभाव और अनुचित व्यवहार को खत्म करने के लिए काम किया। पढ़-लिखकर स्कूल खोलना सुनने में आसान लगता है लेकिन उस दौरान ये आसान नहीं था ,दलित लड़कियों को समान स्तर की शिक्षा दिलाने के खिलाफ समाज के लोगों ने सावित्री बाई का काफी अपमान किया ,यहां तक कि वे स्कूल जातीं, तो रास्ते में विरोधी उनपर कीचड़ या गोबर फेंक दिया करते थे ताकि कपड़े गंदे होने पर वे स्कूल न पहुंच सकें. कई बार ऐसा होने के बाद सावित्री रुकी नहीं, बल्कि इसका इलाज खोज निकाला. वे अपने साथ थैले में अतिरिक्त कपड़े लेकर चलने लगीं।

आज भी जब हम सावित्री बाई फुले के 193 वें जन्मदिन पर ये बात कर रहे है तो हम ये महसूस करतें है की देश के आजादी के बाद भी और इतने वर्षों बाद आज भी महिलाओं और शोषित वर्ग की स्थितियों और अवसर की समानता के नजरिये से कोई क्रांतिकारी परिवर्तन नहीं हुए, इस बात को भी नकारा नहीं जा सकता की कुछ भी बेहतर नहीं हुआ बहुत कुछ सुधार अवश्य हुए है परन्तु ये सुधार उस स्तर पर नहीं हुए जिस स्तर पर देश के अंदर संविधान लागु होने के पश्चात हो जाने चाहिए थे। आज भी देश के अंदर खास कर महिलाओं और दलितो की स्थिति हर क्षेत्र मे देखे तो उतनी बेहतर नहीं है।

शिक्षा से ले कर राजनीति हो यंहा तक की श्रम भागीदारी मे भी महिला की स्थिती उतनी संतोष जनक नहीं है जितनी की होनी चाहिए थी इसके कई कारण है सबसे पहला और मजबूत कारण तो महिलाओं पर लगे अघोषित अनावश्यक प्रतिबंध है , इन्ही कारणों की वजह से आज ये हालात है । इन सभी कारणों के साथ समाज की पिछड़ी चेतना और पिछले लगातार वर्षो मे महिला विरोधी मानसिकता रखने वाली विचारधारा का फैलाव भी एक महत्वपूर्ण कारण है , क्योंकि देश के अंदर संस्कारों का हवाला दे कर चार दिवारी मे रहने वाली महिला का। महिमा मंडन करना और अपनी आवाज और काम के लिये बाहर जाने वाली महिलाओं के लिए दोयम दर्जे की सोच रखना भी एक महिला विरोधी विचारधारा का प्रयोजित एजेंडा है इस वजह से सरकारी आंकड़ों के हिसाब से महिलाओं की स्थिति बेहतर नहीं बल्कि पहले से भी खराब हुई है।

श्रम भागीदारी मे भी महिलाओं के 11 प्रतिशत की गिरावट 2017-18 मे देखने को मिली है, एक अनुमान के अनुसार 25 से 59 वर्ष की आयु तक के जो लोग किसान , खेतिहर मजदूर और घरेलू नौकर के तौर पर कार्य करते है उनमे 33 प्रतिशत महिलाओं की भागीदारी है जबकि क्लर्क मैनेजर जैसे कार्यों पर मात्र 15 प्रतिशत रह जाता है (NSSO 2011-2012) ये सभी महत्वपूर्ण मुद्दे है परन्तु जिस शख्सियत की हम बात कर रहे है उस महिला ने भले ही इस तरीके से इन प्रश्नों को न उठाया हो परन्तु उनका सारा संघर्ष और कार्य क्षेत्र इन प्रश्नों के जो इर्द गिर्द घूमता है ।

सावित्री बाई फुले ने महिलाओं की शिक्षा के प्रश्न को उठाया और उसमे भी महत्वपूर्ण कामगार महिला , कृषि करने वाली महिला और दलित महिलाओं की शिक्षा के प्रश्न को उस समय करना एक महत्वपूर्ण है और हम दावे के साथ कह सकते है की कहीं न कहीं भीमराव आंबेडकर भी अवश्य इससे प्रेरित हुए होंगे। सावित्री बाई फुले ने महिलाओं के शिक्षा के प्रश्न को जिस तरीके से रखा और उस दौर मे महिलाओं को पढ़ने के लिए प्रेरित किया इन सभी योगदानो को देखते हुए देश की महिलाओं को इनके किये गये इस क्रान्तिकारी कार्यों को आजीवन याद रखना चाहिए।

सावित्रीबाई फुले अंग्रेजी शासन का समर्थन करती थीं और पेशवा राज को खराब बताती थीं, क्योंकि उनके राज में दलितों और स्त्रियों को बुनियादी अधिकार नहीं मिल सके थे उनके लेखन में अंग्रेजी शासन के लिए ये प्रभाव दिखता भी है। अपनी कविता ‘अंग्रेजी मैय्या’ में उन्होंने साफ साफ इस तरीके से पेश की कि किस प्रकार पेशवा का राज महिला विरोधी था ।
इस तरह सावित्री बाई फुले का पुरा जीवन समाज के दबे कुचले वर्ग के लिए न्योछावर कर दिया था , साल 1897 को जब देश के कई हिस्सों में प्लेग फैला हुआ था ,सावित्री बाई ने स्कूल छोड़कर बीमारों की मदद शुरू कर दी वे गांव-गांव जाकर लोगों की सहायता करतीं ,इसी दौरान वे खुद भी प्लेग की चपेट में आ गईं और 10 मार्च 1897 को महज 66 वर्ष की आयु मे उनका देहांत हो गया।

सावित्री बाई फुले ने मात्र महिलाओं को शिक्षा देने का कार्य ही नहीं किया बल्कि पुर विश्व के लिए एक प्रेरणा स्त्रोत बन गई इसलिए देश की महिलाओं को दलित वर्ग और खास कर कामकाजी महिलाओं को आजीवन सावित्री बाई फुले के आदर्शो पर चलने की कोशिश करनी चाहिए।
-आशीष कुमार-
सह संयोजक दलित शोषण मुक्ति मंच हिमाचल प्रदेश

Savitribai Phule Jayanti:
Relief Politics: अनुराग ठाकुर, बोले – केंद्र से प्राप्त राहत को स्वीकार करें मुख्यमंत्री सुक्खू

Tek Raj
संस्थापक, प्रजासत्ता डिजिटल मीडिया प्रजासत्ता पाठकों और शुभचिंतको के स्वैच्छिक सहयोग से हर उस मुद्दे को बिना पक्षपात के उठाने की कोशिश करता है, जो बेहद महत्वपूर्ण हैं और जिन्हें मुख्यधारा की मीडिया नज़रंदाज़ करती रही है। पिछलें 8 वर्षों से प्रजासत्ता डिजिटल मीडिया संस्थान ने लोगों के बीच में अपनी अलग छाप बनाने का काम किया है।

Latest News

धर्मपुर में सीआरपीएफ के जवानों ने किया योग

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष में टीओटी0 स्कूल, केन्द्रीय रिर्जव...

मानसिक और शारीरिक रोगों से छुटकारा पाने का उत्तम साधन है योग : संतोष

ओम शर्मा। बीबीएन 10 वां अंतराष्ट्रीय योग दिवस पूरे बीबीएन...

LIC के उच्चाधिकारियों ने हेमंत ठाकुर को नंबर एक बनने पर दी बधाई

भारतीय जीवन बीमा निगम के उच्चाधिकारियों ने गुरुवार को...

Bulk Drug Park is revolutionary initiative for Himachal: CM

Chief Minister Thakur Sukhvinder Singh Sukhu today inaugurated the...

Una News: बिजली उत्पादन करने वाला जिला बना ऊना, 32 मेगावाट सौर उर्जा परियोजना का शुभांरभ

Una Becomes Power Producing District: मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू...

Shrikhand Mahadev Yatra 2024: श्रीखंड महादेव यात्रा 14 से 27 जुलाई तक होगी, पंजीकरण अनिवार्य

Shrikhand Mahadev Yatra 2024 Registration: श्रीखंड महादेव, हिमाचल प्रदेश...

बिलासपुर गोलीकांड को लेकर भाजपा अध्यक्ष का हमला: हिमाचल में सरकार के संरक्षण में गुंडाराज

शिमला। बिलासपुर गोलीकांड को लेकर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. राजीव...

Breaking News: बिलासपुर जिला कोर्ट के बाहर गोलीकांड, युवक घायल

Breaking News: बिलासपुर जिला कोर्ट के बाहर आज गोलीकांड...

Himachal: अनुबंध कर्मचारियों को नियमित करने की मांग, महासंघ ने सरकार से की गुजारिश

Himachal Pradesh News: अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष...

More Articles

Happy New Year Wishes 2024 : नए साल पर अपने करीबियों को शेयर करें ये लेटेस्ट SMS, Wishes, Shayari, Quotes

Happy New Year Wishes 2024 : पूरी दुनिया 31 दिसम्बर की रात को 12 बजे से बड़े ही धूम-धाम के साथ नव वर्ष का...

राज्य शैक्षिक उपलब्धि सर्वेक्षण(SEAS) परख- 2023 शिक्षा के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण पहल

State Educational Achievement Survey: हमारी तेजी से बदलती दुनिया में विद्यार्थियों द्वारा उनकी शैक्षिक यात्रा के विभिन्न चरणों में अर्जित ज्ञान एवं कौशल को...

हिंदी दिवस: हिंदी भाषा का उद्गम और उसकी विकास गाथा

हिंदी वैदिक संस्कृति से लौकिक संस्कृत, लौकिक संस्कृत से प्राकृत, प्राकृत से पाली, पाली से अपभ्रंश और अपभ्रंश से भाषा के अनेक रूपों में...

Teachers Day: मार्गदर्शक एवं परामर्शदाता की भूमिका का निस्वार्थ निर्वाहन करता हुआ आधुनिक शिक्षक

हीरा दत्त शर्मा| Teachers Day 2023: भारतीय संस्कृति में हमने हमेशा ही अपने जीवन में शिक्षक की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण मानी हैl इस हद तक...

सत्ताधारी सरकार के खिलाफ चुनाव से पहले विपक्ष की चार्जशीट महज “पॉलिटिकल ड्रामा”

चार्जशीट...! " एक पॉलिटिकल ड्रामा "प्रजासत्ता ब्यूरो| हिमाचल प्रदेश के नेताओं और फ़िल्मी अभिनेताओं में फर्क करना मुश्किल होता जा रहा है। नेता आज...

हिमाचल में सरकार या सरकार के खिलाफ मुकदमेबाजी का बढ़ता प्रचलन, घातक.

प्रजासत्ता ब्यूरो| हिमाचल में सरकार या सरकार के खिलाफ मुकदमेबाजी का बढ़ता प्रचलन एक बड़ी समस्या बनता जा रहा है। सरकार और उनकी अफसरशाही कई...

त्राहिमाम-त्राहिमाम..! कैसे बचेगी सुख सरकार की प्रतिष्ठा ?

हिमाचल में सुख की सरकार और उसके नायक सुखविंदर सिंह सुक्खू हर मंच पर व्यवस्था परिवर्तन के दावे करते नज़र आतें हैं। लेकिन असल...

कौन हूँ मैं? मैं अव्यवस्थित दिनचर्या की झुंझलाहट हूँ

तृप्ता भाटिया। एक छोटी सी नौकरी में हूँ। एक सप्ताह के बाद एक ऑफ मिलता है। मेडिकल साइंस के अनुसार ह्यूमन बॉडी की एक बायलॉजिकल...

देश के महान क्रांतिकारी नेता थे डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी, आज के दिन हुआ था जन्म

भारतीय राजनीति से श्यामा प्रसाद मुखर्जी का गहरा नाता हुआ करता था। श्यामा प्रसाद को उनकी अलग विचारधारा के लिए जाना जाता था। उन्होंने...