Sunday, March 3, 2024

Savitribai Phule Jayanti: नारी मुक्ति आंदोलन की पहली नेता थी सावित्री बाई फुले

Savitribai Phule Jayanti: हमारे समाज मे हमेशा ही महिलाओं पर अघोषित और अनावश्यक प्रतिबंध रहे है, और इन्ही प्रतिबंधो को तोड़ने के लिए जो सर्वप्रथम काम किया वह किया है सावित्री बाई फुले ने।  सावित्रि बाई फुले देश मे ऐसे महान लोगों मे से एक है जिन्होंने इस समाज की बेहतरी, खास कर महिलाओ और दबे कुचले लोगों के लिए अपनी जिंदगी के अंतिम समय तक संघर्ष किया और अपना पूरा जीवन मानव कल्याण और गैर बराबरी के समाज को कैसे खत्म किया जाए उसके लिए समर्पित कर दिया।
जिन शख्सियत की हम इस लेख के माध्यम से बात करने जा रहे है वो है पहली महिला शिक्षक श्रीमती सावित्री बाई फुले।  यदि हम इनके जीवन पर प्रकाश डाले तो सावित्रीबाई का जन्म (Savitribai Phule Jayanti) भारत के महाराष्ट्र राज्य के छोटे से गांव नायगांव में 3 जनवरी 1831 को हुआ था ।
सावित्रीबाई बचपन से ही बहुत जिज्ञासु और महत्वाकांक्षी थीं 1840 में नौ साल की उम्र में सावित्रीबाई का विवाह ज्योतिराव फुले से हुआ और बाल्य अवस्था मे शादी होने के पश्चात वह अपने पति ज्योतिबा राव फुले साथ पुणे चली गईं। ज्योतिबाराव फुले ने उनकी शिक्षा के प्रति रुचि देख कर उनको पढ़ाना शुरु किया और इस तरह सावित्री बाई फुले स्वयं भी अपने पति के सहयोग और प्रेरणा से शिक्षित हुई।

इस बीच ज्योतिबा फुले खुद भी दलित और शोषित वर्ग के अधिकारों के प्रति और समाज में एक वर्ग के साथ हो रहे भेदभाव के प्रति काफी चिंतित थे और इन सबका का मुकाबला करते हुए वे एक दलित चिंतक की तरह उभरे इधर सावित्री बाई ने भी उनके साथ मिलकर साल 1848 में एक स्कूल खोला ये पहला स्कूल था, जिसके बाद उन्होंने 18 स्कूल खोले, ये सारे ही स्कूल पुणे में थे और उन जातियों की लड़कियों को शिक्षा देते थे, जिन्हें समाज की मुख्यधारा से अलग रखा जाता था।

सावित्रीबाई फुले भारत के पहले बालिका विद्यालय की पहली प्रिंसिपल और पहले किसान स्कूल की संस्थापक थी । सावित्री बाई फुले को महाराष्ट्र और भारत में सामाजिक सुधार आंदोलन में एक सबसे महत्त्वपूर्ण व्यक्तित्व के रूप में माना जाता है। उनको महिलाओं और दलित जातियों का शिक्षित करने के प्रयासों के लिए जाना जाता है।

सावित्रीबाई पहली भारतीय महिला टीचर और प्रिंसिपल थीं। उन्होंने जाति और लिंग के आधार पर लोगों के साथ भेदभाव और अनुचित व्यवहार को खत्म करने के लिए काम किया। पढ़-लिखकर स्कूल खोलना सुनने में आसान लगता है लेकिन उस दौरान ये आसान नहीं था ,दलित लड़कियों को समान स्तर की शिक्षा दिलाने के खिलाफ समाज के लोगों ने सावित्री बाई का काफी अपमान किया ,यहां तक कि वे स्कूल जातीं, तो रास्ते में विरोधी उनपर कीचड़ या गोबर फेंक दिया करते थे ताकि कपड़े गंदे होने पर वे स्कूल न पहुंच सकें. कई बार ऐसा होने के बाद सावित्री रुकी नहीं, बल्कि इसका इलाज खोज निकाला. वे अपने साथ थैले में अतिरिक्त कपड़े लेकर चलने लगीं।

आज भी जब हम सावित्री बाई फुले के 193 वें जन्मदिन पर ये बात कर रहे है तो हम ये महसूस करतें है की देश के आजादी के बाद भी और इतने वर्षों बाद आज भी महिलाओं और शोषित वर्ग की स्थितियों और अवसर की समानता के नजरिये से कोई क्रांतिकारी परिवर्तन नहीं हुए, इस बात को भी नकारा नहीं जा सकता की कुछ भी बेहतर नहीं हुआ बहुत कुछ सुधार अवश्य हुए है परन्तु ये सुधार उस स्तर पर नहीं हुए जिस स्तर पर देश के अंदर संविधान लागु होने के पश्चात हो जाने चाहिए थे। आज भी देश के अंदर खास कर महिलाओं और दलितो की स्थिति हर क्षेत्र मे देखे तो उतनी बेहतर नहीं है।

शिक्षा से ले कर राजनीति हो यंहा तक की श्रम भागीदारी मे भी महिला की स्थिती उतनी संतोष जनक नहीं है जितनी की होनी चाहिए थी इसके कई कारण है सबसे पहला और मजबूत कारण तो महिलाओं पर लगे अघोषित अनावश्यक प्रतिबंध है , इन्ही कारणों की वजह से आज ये हालात है । इन सभी कारणों के साथ समाज की पिछड़ी चेतना और पिछले लगातार वर्षो मे महिला विरोधी मानसिकता रखने वाली विचारधारा का फैलाव भी एक महत्वपूर्ण कारण है , क्योंकि देश के अंदर संस्कारों का हवाला दे कर चार दिवारी मे रहने वाली महिला का। महिमा मंडन करना और अपनी आवाज और काम के लिये बाहर जाने वाली महिलाओं के लिए दोयम दर्जे की सोच रखना भी एक महिला विरोधी विचारधारा का प्रयोजित एजेंडा है इस वजह से सरकारी आंकड़ों के हिसाब से महिलाओं की स्थिति बेहतर नहीं बल्कि पहले से भी खराब हुई है।

श्रम भागीदारी मे भी महिलाओं के 11 प्रतिशत की गिरावट 2017-18 मे देखने को मिली है, एक अनुमान के अनुसार 25 से 59 वर्ष की आयु तक के जो लोग किसान , खेतिहर मजदूर और घरेलू नौकर के तौर पर कार्य करते है उनमे 33 प्रतिशत महिलाओं की भागीदारी है जबकि क्लर्क मैनेजर जैसे कार्यों पर मात्र 15 प्रतिशत रह जाता है (NSSO 2011-2012) ये सभी महत्वपूर्ण मुद्दे है परन्तु जिस शख्सियत की हम बात कर रहे है उस महिला ने भले ही इस तरीके से इन प्रश्नों को न उठाया हो परन्तु उनका सारा संघर्ष और कार्य क्षेत्र इन प्रश्नों के जो इर्द गिर्द घूमता है ।

सावित्री बाई फुले ने महिलाओं की शिक्षा के प्रश्न को उठाया और उसमे भी महत्वपूर्ण कामगार महिला , कृषि करने वाली महिला और दलित महिलाओं की शिक्षा के प्रश्न को उस समय करना एक महत्वपूर्ण है और हम दावे के साथ कह सकते है की कहीं न कहीं भीमराव आंबेडकर भी अवश्य इससे प्रेरित हुए होंगे। सावित्री बाई फुले ने महिलाओं के शिक्षा के प्रश्न को जिस तरीके से रखा और उस दौर मे महिलाओं को पढ़ने के लिए प्रेरित किया इन सभी योगदानो को देखते हुए देश की महिलाओं को इनके किये गये इस क्रान्तिकारी कार्यों को आजीवन याद रखना चाहिए।

सावित्रीबाई फुले अंग्रेजी शासन का समर्थन करती थीं और पेशवा राज को खराब बताती थीं, क्योंकि उनके राज में दलितों और स्त्रियों को बुनियादी अधिकार नहीं मिल सके थे उनके लेखन में अंग्रेजी शासन के लिए ये प्रभाव दिखता भी है। अपनी कविता ‘अंग्रेजी मैय्या’ में उन्होंने साफ साफ इस तरीके से पेश की कि किस प्रकार पेशवा का राज महिला विरोधी था ।
इस तरह सावित्री बाई फुले का पुरा जीवन समाज के दबे कुचले वर्ग के लिए न्योछावर कर दिया था , साल 1897 को जब देश के कई हिस्सों में प्लेग फैला हुआ था ,सावित्री बाई ने स्कूल छोड़कर बीमारों की मदद शुरू कर दी वे गांव-गांव जाकर लोगों की सहायता करतीं ,इसी दौरान वे खुद भी प्लेग की चपेट में आ गईं और 10 मार्च 1897 को महज 66 वर्ष की आयु मे उनका देहांत हो गया।

सावित्री बाई फुले ने मात्र महिलाओं को शिक्षा देने का कार्य ही नहीं किया बल्कि पुर विश्व के लिए एक प्रेरणा स्त्रोत बन गई इसलिए देश की महिलाओं को दलित वर्ग और खास कर कामकाजी महिलाओं को आजीवन सावित्री बाई फुले के आदर्शो पर चलने की कोशिश करनी चाहिए।
-आशीष कुमार-
सह संयोजक दलित शोषण मुक्ति मंच हिमाचल प्रदेश

Savitribai Phule Jayanti:
Relief Politics: अनुराग ठाकुर, बोले – केंद्र से प्राप्त राहत को स्वीकार करें मुख्यमंत्री सुक्खू

  • हिमाचल की खबरें Twitter पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here
  • अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here

Tek Raj
संस्थापक, प्रजासत्ता डिजिटल मीडियाप्रजासत्ता पाठकों और शुभचिंतको के स्वैच्छिक सहयोग से हर उस मुद्दे को बिना पक्षपात के उठाने की कोशिश करता है, जो बेहद महत्वपूर्ण हैं और जिन्हें मुख्यधारा की मीडिया नज़रंदाज़ करती रही है।

More Articles

धर्मशाला की नेहा पुन ने जीता Mrs Dazzling Diva-2024 का खिताब

Mrs Dazzling Diva-2024 : इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन एंड स्टाइलिंग के शुभारंभ को प्रदर्शित करने के लिए आईएफएस धर्मशाला द्वारा मिस एंड मिसेज डैजलिंग दिवा सौंदर्य प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था। यह प्रतियोगिता मिस...
Lok Sabha Election 2024

Lok Sabha Election 2024 : BREAKING ! BJP आज जारी कर सकती है लोकसभा...

0
प्रजासत्ता नेशनल डेस्क | Lok Sabha Election 2024: भाजपा आज शाम 6 बजे अपने दिल्ली स्थित मुख्य कार्यालय में एक महत्वपूर्ण प्रेस कॉन्फ्रेंस करेगी। बीजेपी लोकसभा उम्मीदवारों की अपनी पहली सूची जारी कर सकती है।मीडिया...
Shimla News, HP Cabinet Decisions :

HP Cabinet Decisions : पढ़ें! हिमाचल प्रदेश मंत्रिमण्डल के निर्णय,पशुपालन विभाग में भरे...

0
शिमला | HP Cabinet Decisions :संख्याः 212/2024 मुख्यमंत्री ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू की अध्यक्षता में आज यहां आयोजित...
Shimla News, HP Cabinet Decisions :

Shimla News: कैबिनेट बैठक में नाराज हुए मंत्री

0
शिमला | Shimla News: हिमाचल प्रदेश में राज्यसभा चुनाव के बाद से शुरू हुए राजनीतिक उठा पटक के बाद प्रदेश में सियासी हलचल अभी भी तेज है। जिसका असर सीएम सुखविंदर सिंह सुक्खू की अध्यक्षता...
DA Notification HP

DA Notification HP : कर्मचारियों के खुशखबरी , सुक्खू सरकार ने जारी की 4%...

0
शिमला | DA Notification HP: सुक्खू सरकार ने हिमाचल प्रदेश के लाखों कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी दी है। सरकार ने कर्मचारियों को 4 प्रतिशत डीए की किस्त का तोहफा दिया है। इसके साथ ही...
Himachal Politics

Himachal Politics : लोकतांत्रिक प्रकिया से चुने प्रतिनिधियों को काले नाग की संज्ञा देना...

0
शिमला | Himachal Politics: भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व विधानसभा अध्यक्ष विपिन परमार ने शिमला में प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि मुख्यमंत्री सुखविन्दर सिंह सुक्खू का अपने ही विधायको को काला नाग...
Himachal News: धर्मपुर में अपने सम्बोधन के दौरान भावुक हुए ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू, कहा सत्ता के बजाए लोगों की सेवा मेरी प्राथमिकता

Himachal News: धर्मपुर में अपने सम्बोधन के दौरान भावुक हुए सुखविंदर सिंह सुक्खू, कहा...

0
कसौली | Himachal News: मुख्यमंत्री ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू ने सोलन जिला के कसौली विधानसभा क्षेत्र के एक दिवसीय दौरे के दौरान 88.78 करोड़ रुपये की 13 विकासात्मक परियोजनाओं के लोकार्पण एवं शिलान्यास किए। मुख्यमंत्री...
जानलेवा हमला Kangra News

Kangra News : फतेहपुर में ATM से पैसे निकलवाने गए युवक़ पर हुआ जानलेवा...

0
अनिल शर्मा | Kangra News: उपमंडल मुख्यालय फतेहपुर में एटीएम से पैसे निकलवाने गए भाटियाँ के एक युवक पर नजदीकी गाँव के युवको ने किसी हथियार से हमला कर दिया। जिस कारण युवक़ वंश ठाकुर...
Kangra News: विकास शर्मा ने संभाला रे चौकी का प्रभार

Kangra News: विकास शर्मा ने संभाला रे चौकी का प्रभार

0
अनिल शर्मा | फतेहपुर Kangra News: पुलिस थाना फतेहपुर के तहत आती पुलिस चौकी रे में एएसआई विकास शर्मा ने बतौर चौकी प्रभारी कार्यभार संभाल लिया है। एएसआई विकास शर्मा इससे पूर्व जिला शिमला...
Resolving Himachal Political Crisis is a big test of Rahul Gandhi's political skills.

Himachal Political Crisis : हिमाचल का सियासी संकट सुलझना राहुल गांधी के राजनीतिक कौशल...

0
प्रजासत्ता | Himachal Political Crisis : हिमाचल में चल रहे सियासी संकट के बीच कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और नेता राहुल गांधी की विदेश दौरे से वापसी हो गई है। भारत पहुंचने पर उनकी नज़र...
- Advertisement -

Popular Articles