Wednesday, February 28, 2024

Himachal News: क्या प्रदेश के छोटे और सिंगल बस ऑपरेटरों को व्यवसाय से बाहर करने की फ़िराक में है हिमाचल सरकार ?

प्रजासत्ता |
Himachal News: हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस और भाजपा सरकारों की आपसी प्रतिस्पर्धा ने निजी बस परिवहन छोटे और सिंगल बस व्यवसाय से जुड़े लोगों को नजरअंदाज कर उनके हितों के बारे में सुध लेना ही छोड़ दिया है। अब तक की सरकारों (Himachal government) ने कभी भी निजी बस व्यवसाय को अपनी जिम्मेदारी या अपना एक क्षेत्र नही समझा। यही कारण है कि सरकार और परिवहन विभाग ने जब चाहा तब अपने आप नियम बना लिए और जब चाहा तब उसमे बदलाव कर दिए।

छोटे बस ऑपरेटरों की माने तो बसों के परिचालन में लगने वाली कौन सी चीज को सरकार ने अपनी नीतियों से प्रभावित नहीं कर दिया। ऑपरेटरों के अनुसार विभागों में बैठे अधिकारी कभी भी कुछ भी नियम बना कर लागू कर देते हैं,और कभी भी उनको वापिस कर लेते। इससे पुरे प्रदेश के लगभग सभी निजी बस ऑपरेटर प्रभावित होतें हैं। सरकार के आदेशों पर अधिकारीयों द्वारा लिए गए तुगलकी फरमानों से न जाने कितने छोटे एवम सिंगल निजी बस व्यवसाय से जुड़े लोग, न चाहते हुए भी इस व्यवसाय से बाहर होने को मजबूर हो गए और बेरोजगार की श्रेणी में आ गए।

परिवहन विभाग की तरफ से निजी बस ऑपरेटरों को विश्वास में न लेकर कुछ नियम लगाए गए जो एक या दो सालों में विरोध के बाद पुनसमिक्षा के बाद हटा दिए गए। उनमे से परमिट न ट्रांसफर करना, पुरानी बस को बदलने हेतु सात साल तक पुरानी बस ही खरीदने की शर्त के आलावा कई ऐसे फैंसले लिए गए जिससे छोटे और सिंगल बस ऑपरेटर बुरी तरह प्रभावित हुए। लेकिन सरकार और विभाग का ध्यान इनकी और नहीं गया।

विरोध और सरकार की किरकिरी के बाद परिवहन विभाग द्वारा बेशर्त ये नियम बाद में वापिस ले लिए गए पर इनके चपेट में आए वो छोटे और सिंगल बस ऑपरेटर को लाखों का नुकसान उठाना पड़ा। जिनकी अधिकतर बसें ग्रामीण क्षेत्रों और लिंक सड़कों पर ही चलती है और केवल नाम मात्र कमाई एवम बचत करती है। सरकार और विभाग के मनमर्जी के फैंसले के बाद नियमानुसार छोटे और सिंगल निजी बस ऑपरेटरों को नई बस लाना और अपनी पुरानी बस जो 7 साल के नियम के कारण स्क्रैप में आ गई। उससे से आर्थिक नुकसान उन्हें हुआ इसके लिए सरकार ने कभी नही सोचा।

इसके अलावा वह छोटे ऑपरेटर जो परमिट को बस के साथ अन्य के नाम ट्रांसफर न करने के नियम से चाह कर भी बस को बेच नहीं पाए उनको क्या हर्जाना या मुआवजा मिला। निजी बस ऑपरेटरों की मने तो कई ऐसे ऑपरेटरों ने बस खरीदारी और बेचने के लिए बयाना (खरीद से पहले की पूर्व राशि) का लेनदेन भी किया लेकिन नियमों में बदलाव और वापसी से तक़रीबन सभी ऑपरेटरों को लाखों का नुकसान उससे हुआ।

ऑपरेटरों के अनुसार प्रदेश में दो या तीन साल पहले तक जिन ऑपरेटर की बसें केवल अधिकतम ग्रामीण क्षेत्रों में चलती है । उन रूटों पर हिमाचल पथ परिवहन की बसों में महिलाओं को 50% किराया में छूट दे कर पूरी तरह से खत्म कर दिया गया या खत्म होने की कगार पर ला दिकर खड़ा कर दिया गया। ऑपरेटरों का कहना है कि प्रदेश के जिन छोटे और लिंक रूटों परछोटे और सिंगल बस ऑपरेटरों की निजी बस के आगे और पीछे के समय पर HRTC की बसें चलती है। उस पर से 50% किराया छुट की शर्त के कारण उनकी बसों में न मात्र ही सवारी बैठती है। जिससे कई बस ऑपरेटरों के तो तेल के पैसे भी पुरे नहीं हो पाते। पांच-दस-बीस और सौ बस वाले बड़े आपरेटर, जिनकी बसें नेशनल हाईवे या या स्टेट हाईवे पर चलती है, उनको भले ही इससे फर्क न पड़ता हो लेकिन दो या सिंगल बस ऑपरेटर इससे ज्यादा प्रभावित है।

ऑपरेटरों का कहना है कि हिमाचल के ग्रामीण क्षेत्रों में पहले ही बहुत कम सवारी अनुपात होने से अब सवारियों द्वारा स्वाबाभिक रूप से 50% कम किराए में एचआरटीसी में सफर करना बनता हैं जिस कारण प्राइवेट बसों को कभी कभार नाम मात्र पैसेंजर का परिणाम भुगतना पड़ रहा है। तेल खर्चा, टैक्स, बस सर्विस, चालक परिचालक की सैलरी, के खर्चों को अगर देखा जाये तो कई ऑपरेटर अपने खर्चे पर बस चला रहें है, लेकिन जो इस काबिल नहीं है वह अपना काम बंद कर बेरोजगार हो गए हैं।

बाबजूद इसके दूसरी तरफ परिवहन विभाग ने सब कार्यप्रणाली ऑनलाइन कर दी गई जिसमे अगर मासिक देनदारी नही दे पाते हैं तो नोटिस, टैक्स नहीं दिया तो पासिंग परमिशन नहीं मिलेगी, टाइम टेबल रिन्यू नहीं होगा,साथ ही कोई विभागीय काम नहीं होगा। बसों को इम्पाउंड करने की नौबत आएगी।

ऑपरेटरों के अनुसार एक निजी बस औसतन सरकार को 500 से 700 रुपये डीजल पर टैक्स 5000-8000 रूपये (ग्रामीण क्षेत्रों की) एसआरटी टैक्स, 4500 टोकन फ़ीस, 4000-6000 अड्डा एंट्री फीस, 50000-70000 इन्सोरेन्स और अन्य ग्रीन टैक्स इत्यादि देने के लिए बाध्य है। बेसक बस कमाए या नही इसमें सरकार से मदद या शिकायत या कुछ सहयोग का कोई प्रावधान नही है।

ऑपरेटरों का कहना है कि वे कभी भी लोगो को मिल रही 50% डिस्काउंट नीति के विरोध में नही है। सरकार सब बसों में यह स्कीम ले कर आए…..क्या कारण है कि केवल इंटर हिमाचल चलने वाली ही बसों में यह लागू की जा सकी बाहर जाने वाली बसे भी तो हिमाचल सरकार की ही है।

मान लिया जाए की डिस्काउंट नीति सरकार के अधीन क्षेत्र की है पर कम से कम जो निजी बसों के मालिक इस नीति से खत्म होने की कगार पर जा रहे है उनको उनकी इच्छा अनुसार सरकार के नियमों और प्रावधानों के तहत अपने रूट्स में ऐच्छिक परीवर्तन करने का एक मौका तो दे देना चाहिए जिस से की वो कुछ हद तक अपने व्यवसाय को बचाने और अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए कामयाब हो सके। ऑपरेटरों के अनुसार जिस तरह के निर्णय अभी तक सरकार और विभाग ने लिए हैं उससे तो ऐसा ही लगता है कि हिमाचल सरकार  प्रदेश के छोटे और सिंगल बस ऑपरेटरों को व्यवसाय से बाहर करने की फ़िराक में है।

HP Assembly Winter Session: हिमाचल विधानसभा का शीतकालीन सत्र 19 दिसंबर से, विपक्ष इन मुद्दों पर कर सकता हैं हंगामा

Fire in Una: प्रवासी मजदूरों की झोपड़ियों में लगी आग, दो बच्‍चों समेत जिंदा जली मां

MS Dhoni Jersey Number: BCCI का बड़ा निर्णय, अब भारतीय टीम में कभी इस्तेमाल नहीं होगा धोनी का जर्सी नंबर सात

Himachal News: देश के लिए टेस्ट मैच खेलने वाली हिमाचल की दूसरी क्रिकेटर बनीं Renuka Singh Thakur

Ram Mandir: अयोध्या में राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम में शामिल होंगे विक्रमादित्य

  • हिमाचल की खबरें Twitter पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here
  • अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here

Tek Raj
संस्थापक, प्रजासत्ता डिजिटल मीडियाप्रजासत्ता पाठकों और शुभचिंतको के स्वैच्छिक सहयोग से हर उस मुद्दे को बिना पक्षपात के उठाने की कोशिश करता है, जो बेहद महत्वपूर्ण हैं और जिन्हें मुख्यधारा की मीडिया नज़रंदाज़ करती रही है।

More Articles

Himachal Politics

Himachal Politics: बागी विधायकों की अयोग्यता पर स्पीकर ने सुरक्षित रखा फैसला

शिमला | Himachal Politics : हिमाचल में बागी हुए विधायकों पर दल-बदल कानून में राज्य सरकार की ओर से की दायर याचिका पर फैसला सुरक्षित रखा गया। इस बारे में जानकारी देते हुए हिमाचल के...
Himachal Political Crisis

Himachal Political Crisis : पर्यवेक्षकों के साथ बैठक के बाद सीएम सुक्खू ने दिया...

शिमला | Himachal Political Crisis : मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने पर्यवेक्षकों से मुलाकात की। राज्यसभा चुनाव में 6 विधायकों की ओर से क्रॉस वोटिंग करने के बाद हिमाचल की में मचे सियासी तूफान (...
Himachal Government Equation

Himachal Government Equation : कांग्रेस के बागी 6 विधायकों की सदस्यता रद्द होने पर...

प्रजासत्ता | Himachal Government Equation : हिमाचल प्रदेश में राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस के 6 विधायकों की ओर से क्रॉस वोटिंग करने के बाद हिमाचल की सियासत में तूफान मचा हुआ है। हालांकि सीएम सुखविंदर...
Mandi News

Mandi News: नगर परिषद सुंदरनगर के वार्ड नम्बर चार के पार्षद की सदस्यता बरकार,...

सुंदरनगर| Mandi News: प्रदेश की सबसे बड़ी नगर परिषद सुंदरनगर के वार्ड नम्बर -4 के पार्षद की सदस्यता एसडीएम कोर्ट के फैसले के बाद बरकार रही। तीन साल पहले नगर परिषद के चार नम्बर वार्ड...
शिव की महिमा

शिव की महिमा अपरंपार है.. आचार्य हेमंत भारती

कुनिहार | शिव तांडव गुफा कुनिहार के प्रांगण में आयोजित हो रही 11 दिवसीय महाशिव पुराण कथा के आज तीसरे दिन कथावाचक आचार्य हेमंत भारती ने अपने मुखारविंद से ज्ञान गंगा को प्रवाहित करते हुऎ...
Himachal News: सीएम सुक्खू, बोले- केंद्र से विशेष राहत पैकेज की अब धुंधलाती जा रही उम्मीद

Big Breaking! हिमाचल सीएम सुक्खू ने मीडिया के सामने आकर कहा मैंने नहीं दिया...

0
शिमला | Big Breaking ! हिमाचल में राज्यसभा चुनाव के बाद उपजी स्थिति से विधानसभा परिसर में माहौल तनावपूर्ण हो गया है। विधानसभा चौक पर भाजपा और कांग्रेस के कार्यकर्ता आमने-सामने हैं। दोनों तरफ से...
हिमाचल के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू, CM Sukhvinder Singh Sukhu Rresign

CM Sukhvinder Singh Sukhu Resign: सीएम पद से इस्तीफा देने के लिए सुक्खू ने...

0
शिमला | CM Sukhvinder Singh Sukhu Resign : हिमाचल प्रदेश में सियासी हलचल और तेज हो गई है। मंत्री और विधायकों की नाराजगी के बीच हिमाचल के मुख्यमंत्री सुखविंदर सुक्खू ने पद से इस्तीफा (...
Big Breaking! हिमाचल CM सुखविंदर सुक्खू का इस्तीफा Himachal News Himachal Cabinet Expansion , Sukhvinder Singh Sukhu, Will make provision for residential rent to students under, Sukh Aashray Yojana, Rajya Chayan Aayog

Big Breaking! हिमाचल CM सुखविंदर सुक्खू का इस्तीफा

0
शिमला | Big Breaking !: हिमाचल प्रदेश में सियासी हलचल और तेज हो गई है। मंत्री और विधायकों की नाराजगी के बीच हिमाचल के मुख्यमंत्री सुखविंदर सुक्खू ने पद से इस्तीफा ( CM Sukhvinder Singh...
जयराम सरकार का आखिरी विधानसभा सत्र :कांग्रेस विधायकों का सरकार के खिलाफ होगा आक्रामक रुख HP Budget Session

HP Budget Session : भाजपा के 15 विधायक निष्कासित, विधानसभा अध्यक्ष के कक्ष में...

0
शिमला | HP Budget Session : हिमाचल प्रदेश में राज्यसभा की सीट भाजपा की झोली में जाने से राजनीतिक हलचल तेज हो गई है। जहाँ सुक्खू सरकार में मत्री और पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र के बेटे...
विक्रमादित्य सिंह का सुक्खू सरकार से इस्तीफा, सीएम पर खूब बरसे

Vikramaditya Singh Resigns: ब्रेकिंग! विक्रमादित्य सिंह का सुक्खू सरकार के मंत्रीपद से इस्तीफा

0
शिमला | Vikramaditya Singh Resigns: राज्यसभा चुनाव में हार के बाद अब कांग्रेस की सरकार भी खतरे में आ गई है। एक के बाद एक कांग्रेस के विधायक सीएम सुक्खू के खिलाफ बगावत करते नजर...
- Advertisement -

Popular Articles