ग्रामीण युवाओं को कौशल प्रशिक्षण के अंतर्गत जीवामृत घनाजीवामृत बनाने की विधि व उसके लाभ की दी जानकारी

चंबा | 18 अक्टूबर
-ग्रामीण युवाओं को कौशल प्रशिक्षण के अंतर्गत जीवामृत घनाजीवामृत बनाने की विधि व उसके लाभ की जानकारी दी।
न्यूनतम लागत अधिक उपज उच्च गुणवत्ता स्वस्थ पर्यावरण सही अर्थ में किसान बागबान को समृद्ध बनाना : ओम प्रकाश अहीर उप निर्देशक परियोजना ने आज के स्तर में उन्होंने बताया रासायनिक खादों उर्वरकों के कारण हमारी उपजाऊ भूमि बंजर हो चुकी है। इसलिये अब प्राकृतिक खेती पर बल दिया जा रहा है। किसानों को बागबानों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। ताकि हम भूमि को बंजर होने से बचा सकें। साथ ही साथ खेतों में पैदावार को बड़ा सकें।
उन्होनें बताया कि हम जो स्प्रे करते हैं उसके कारण खेतों से पौधों से सब्जियों से हमारे मित्र कीट भी मर जाते हैं। जिसके लिये हम को प्राकृतिक संसाधनों का प्रयोग कर के कीट नाशक बना कर उनका प्रयोग करना चाहिये।

इस के उपरांत उषा ठाकुर BTM , शुभम ATM तथा प्रियंका शर्मा ATM ने किसानों बागबानों को जीवामृत घनाजीवामृत बनाने की विधि बताई उनके लाभ बताये। उन्होनें कहा देसी गाय के गोबर व गुत्र से ही यह हम अपने घरों में बना सकते हैं। इनसे हम भूमि की लुप्त होती शक्ति को फिर से उपजाऊ बना सकते हैं।
जीवामृत से भूमि में जो देसी केंचुए पैदा होंगें उनका लाभ किसानों को मिलेगा।
इसे बनाने के लिए 10 किलो गाय के गोबर में 10 लीटर गोमूत्र, एक किलो गुड़, एक किलो दाल का आटा और एक मुट्ठी उपजाऊ मिट्टी मिलाएं। अब इस मिश्रण में 200 लीटर पानी डालकर घोलें।
2 से 4 दिन बाद यह मिश्रण इस्तेमाल के लिये तैयार हो जायेगा. उपयोग की विधि-एक एकड़ जमीन के लिये 200 लीटर जीवामृत मिश्रण की जरूरत पड़ती है. किसान को अपनी फसलों में महीने में 2 बार छिड़काव करना होगा. इसे सिंचाई के पानी में मिला कर भी उपयोग किया जा सकता।
घनाजीवामृत बनाने के लिए 200 किलो गोबर, एक किलो गुड़, एक किलो बेसन, 100 ग्राम खेत की जीवाणुयुक्त मिट्टी, पांच लीटर गोमूत्र इन सभी चीजों को फावड़ा से अच्छे से मिला लें।
घनजीवामृत, जीवामृत की तरह ही खाद नहीं बल्कि असंख्य जीवाणुओं का जामन है । इसे भी हम देसी गाय के गोबर, मूत्र और कुछ घरेलु चीजों के प्रयोग से बिना किसी या बहुत ही कम लागत के तैयार करते हैं।
बीजामृत देसी गाय के गोबर, मूत्र एवं बुझा चूना आधारित घटक से बीज एवं पोष-जड़ों पर सूक्ष्म जीवाणु आधारित लेप करके इनकी नई जड़ों को बीज या भूमि जनित रोगों से संरक्षित किया जाता है। बीजामृत प्रयोग से बीज की अंकुरण क्षमता में अप्रत्याशित वृद्धि देखी गई है।
इस मिश्रण को 48 घंटे छांव में फैलाकर जूट की बोरी से ढक दें। उपयोग किया जा सकता है।
अन्य जैविक खाद को तैयार होने में महीनों लगते हैं, लेकिन आप जीवामृत को एक सप्ताह के भीतर तैयार कर सकते हैं।
उन्होने किसानों बागबानों से अनुरोध किया इस तकनीक को अपना कर अपनी आय को दोगुना करें।
डॉक्टर राजीव रैणा इंचार्ज कृषि विज्ञान केंद्र चंबा ने भी इस अवसर पर किसानों बागबानों को प्रोत्साहित किया। उन्होंने कहा हम को नई तकनीकों को अपना कर अपने खेतों की उपजाऊ भूमि को बचाना है। हम को सब्जियों फलों व अन्य फसलों की पैदावार को दोगुना बढ़ाना है। इसके लिए प्राकृतिक संसाधनों को अपनाना होगा।

नवरात्रों के पावन अवसर पर माँ चंडी का सजा मनमोहक दरबार

Tek Raj
संस्थापक, प्रजासत्ता डिजिटल मीडिया प्रजासत्ता पाठकों और शुभचिंतको के स्वैच्छिक सहयोग से हर उस मुद्दे को बिना पक्षपात के उठाने की कोशिश करता है, जो बेहद महत्वपूर्ण हैं और जिन्हें मुख्यधारा की मीडिया नज़रंदाज़ करती रही है। पिछलें 8 वर्षों से प्रजासत्ता डिजिटल मीडिया संस्थान ने लोगों के बीच में अपनी अलग छाप बनाने का काम किया है।

Latest News

Himachal News: ऊना के घालूवाल में 82 झुग्गियां जलकर हुई राख..!

Himachal News: ऊना जिला के उपमंडल हरोली के तहत...

Himachal Weather News: Heatwave Alert Issued, No Relief Until May 25

Himachal Weather News: Himachal Pradesh is bracing for a...

Himachal News: सीएम सुक्खू बोले, बड़सर में पकड़े गए 55 लाख रुपये बिकाऊ विधायकों के..

हमीरपुर। Himachal News : मुख्यमंत्री ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू ने...

Liquor Policy Case: शराब नीति मामले में मनीष सिसोदिया को झटका

Liquor Policy Case: दिल्ली शराब नीति मामले में मंगलवार...

Solan News: समाजसेवी ओम आर्य ने युवाओं को दी सीख,, नशे से दूर होकर खेलों में ध्यान लगाएं…

Solan News: कसौली विधानाभा के अंतर्गत जोधपुर में आयोजित...

More Articles

International Minjar Fair: 28 जुलाई से 4 अगस्त तक हर्षोल्लास के साथ आयोजित होगा मेला

International Minjar Fair: उपायुक्त मुकेश रेपसवाल ने कहा है कि अंतरराष्ट्रीय मिंजर मेला ज़िला चंबा की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत और वैभव का परिचायक है...

Chamba Accident: भरमौर-पठानकोट हाईवे से खाई में गिरी बोलेरो गाड़ी, दो की मौत

Chamba Accident: चंबा जिले में भरमौर-पठानकोट हाईवे पर हड़सर से आगे दराटी पुल के पास एक बोलेरो गाड़ी अनियंत्रित होकर 25 मीटर नीचे खाई...

Paragliding Activities in Chamba: चंबा में इन स्थलों पर जल्द आयोजित की जाएगी पैराग्लाइडिंग गतिविधियां

चंबा| Paragliding Activities in Chamba : जिला चंबा के अनछुए पर्यटन स्थलों को उजागर करने के दृष्टिगत पर्यटन व्यवसाय को और अधिक मजबूती प्रदान करने...

Chamba News: चंबा में 30 व 31 जनवरी को जिला में होगा राजस्व लोक अदालत का आयोजन, निपटाए जाएंगे इन्तकाल सत्यापन व तकसीमों के...

चंबा | Chamba News: प्रदेश सरकार द्वारा प्रत्येक माह के अन्तिम दो कार्य दिवसों को सम्पूर्ण हिमाचल प्रदेश राज्य में "राजस्व लोक अदालत" के रूप...

Earthquake in Chamba: चंबा में भूकंप के झटके, जानिए कितनी रही तीव्रता

चंबा | Earthquake in Chamba: हिमाचल प्रदेश के चंबा जिले में भूकंप दर्ज किया गया है। राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र के अनुसार चंबा में शनिवार...

Chamba News: चंबा जिला में लंबित इंतकाल व तकसीमों के मामलों का किया जाएगा निपटारा

चंबा| Chamba News: जिला राजस्व अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि जिला में सरकार द्वारा निर्धारित 04 और 05 जनवरी को पुनः राजस्व लोक...

Chamba News: HRTC बस में सवार 2 लोगों से पकड़ी 663 ग्राम चरस

चम्बा | 28 सितम्बर Chamba News: चम्बा जिला के प्रवेश द्वार तुनुहट्टी में पुलिस ने हिमाचल पथ परिवहन निगम की बस में सवार 2...

Chamba News: चंबा की दो बेटियों ने राज्यस्तरीय कुश्ती प्रतियोगिता में जीता स्वर्ण पदक, अब नेशनल के हुआ चयन

चंबा | 23 सितम्बर Chamba News: मंडी जिला के सुंदर नगर में आयोजित की जा रही राज्यस्तरीय कुश्ती प्रतियोगिता (State level Wrestling competitio) में...

Shahrukh Khan ने नेशनल बॉक्सिंग चैंपियनशिप में Gold Medal जीत कर किया हिमाचल प्रदेश का नाम रोशन !

धर्मेन्द्र सूर्या | 19 सितम्बर चंबा के सलूणी उप मंडल की ग्राम पंचायत डियूर के शाहरुख खान ने आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) में हुई...